Amit Harsh

Joined January 2017

Copy link to share

बेटी

सारी थकन दिन भर की पल में मिट गई दौड़कर जब मुझ से मेरी बेटी लिपट गई बरक़त, मेरी ख़ुशियों का, फ़क़त वही एक सबब हर मुस्कान पर उसकी... Read more