शिक्षक, सिहोरा , नरसिंहपुर

Copy link to share

बुल बुल का गीत

सुबह सबेरे छत पर आकर जब गाती है बुल बुल गीत कितना मधुर सुरीला होता है उसका अनुपम संगीत... अपनी मस्ती में खो जाती स्... Read more

जल गहरा है

रुको जरा यह जल गहरा है । नीरव शांत और ठहरा है ।।... ध्वनि करता जो बहता पानी । उथलेपन की यही निशानी ।। सस्ती धात... Read more

पद का मद

पद के मद में चूर हुए आदत से मजबूर हुए पास गए जब गैरों के तब अपनों से दूर हुए भूल गए सेवा करना जब से बड़े हजूर हुए आसमान ... Read more

गजानन जग की विपति हरो

गजानन जग की विपति हरो । हे देवाधिदेव गण नायक संकट दूर करो । प्रथम पूज्य गिरजा नंदन सब देवन नाम धरो । एक विषा... Read more

गुमशुदा रास्ते

गुमशुदा रास्ते हो गए मंजिलो के पते खो गए वो कहानी सुनाते रहे सुनने वाले सभी सो गए स्वप्न के बीज बोने चले पत्... Read more

खाना बदोश

ये धरती आकाश बना है मेरा अपना रेन बसेरा नहीं किसी से लेना देना फिर क्या तेरा , फिर क्या मेरा न तो हूँ में जोगी रमता और नहीं म... Read more

उन्मुक्त पंछी

हमारी चहक में न अंतर पड़ा है । न कोई हमें रोक करके खड़ा है ।। हमें भी किसी से न शिकवा गिला है । हमें जो मिला है प्... Read more

जितना हल्का होता है

जो जितना हल्का होता है उतना ही ऊंचा उड़ता है भारी होता जो जमीन से वह उतना ही जुड़ता है नदी किनारे के पेड़ों को अक्सर ... Read more

धूल का फूल

धूल का जो फूल है सुख उसे प्रतिकूल है प्रेम की परवाह नहीं सुखों की भी चाह नहीं नाता ह... Read more

अनुभूति

मन के बँधे हुए रिश्तों में हानि लाभ की बात नहीं है । भेदभाव से भरे हुए रिश्ते सुख की सौगात नहीं है ।। यूँ तो मेघ उमड़ते र... Read more

अनमेल के साथ

अनमेल के साथ कब तक रहोगे । सूरज को यूँ चाँद कब तक कहोगे ।। जो चाहो किनारा , टकराना पड़ेगा । धाराओं के साथ कब त... Read more

दिशाहीन

सिर पर रखा है बोझ और जा रहे हैं वो । जाना कहाँ है , ये भी तो मालूम नहीं है ।। सूखी रखी हैं रोटियां जो खाने के लिए । खाना कहाँ ... Read more

सिद्धि

मन में थोड़ी सी लगन , पूर्ण पर विस्वास हो । शक्ति हो संघर्ष की और, सीखने की आस हो ।। पथ प्रदर्शक साथ में , और सतत अभ्यास हो... Read more

अनहोनी

अनहोनी के सामने , होना पड़ता मौन । इस पर वश चलता नहीं , इसको रोके कौन ।। बस इसको स्वीकार कर , करना होता काम । नया सबेरा ... Read more

समय के साथ

जो समय के साथ थे , आगे बढ़े । उन्नति की सीढ़ियां , वो ही चढ़े ।। जो प्रतीक्षा समय की , करते रहे । वो समय के साथ ही , मरते र... Read more

देख लेना एक दिन

देख लेना एक दिन मरुभूमि में पौधे उगेंगे । सप्त रंगी पादपों में कुसुम कंचन से खिलेंगे ।। वसुंधरा भी ओढ़ लेगी हरित चादर मखमली ... Read more

कहानियाँ

कहानियाँ बच्चों के मन को खूब भाती हैं । उन्हें कल्पना लोक की सैर कराती हैं ।। उनके बौद्धिक विकास के लिये इनसे अच्छा कु... Read more

कहाँ कमी रह जाती है

बार बार गर असफलता ही आती है । तो सोचो कि कहाँ कमी रह जाती है ।। सदअभ्यास निरंतर त्रुटियां दूर करे । तब ही मेहनत सदा सफलत लात... Read more

नारी का हर रूप महान

सृजन शीलता जिसका गुण है । जो है आदर्शों की खान ।। जिसके है कई रूप जगत में । नारी का हर रूप महान ।। अपने सारे ... Read more

गर्मी के मेघ

उमड़ घुमड़ कर मेघ गरजते रहते हैं । जाने कौन कि वो हमसे क्या कहते हैं ।। भूल गए क्या यह गर्मी का मौसम है । इसमें पानी नहीं , प... Read more

अधूरा सफ़र

न छोड़ो अभी यह अधूरा सफर है । मंजिल की थोड़ी कठिन रहगुजर है ।। चले जो निरंतर वो कहते यही है । कि कदमो से छोटी रही य... Read more

अपने अंदर डूबकर

अपने अंदर डूबकर , अन्तः जगत निहार । क्या अच्छा क्या बुरा है मन में करो विचार ।। पंछी है आकाश में भले उड़े दिन रैन । मा... Read more

असमंजस

जिनकी पल में राय बदलती रहती है । असमंजस में जीवन सरिता बहती है ।। किसी झोंपड़ी में गर जाकर देखोगे । बुढ़िया बच्चों संग कहानी कह... Read more

कम में गुजारा

कम में गुजारा करना सीखो । अति संग्रह से डरना सीखो ।। पहले से ही चाह असीमित । नई नई पैदा होती नित ।। इनका कभी दास ... Read more

अथकित चलते जिनके पाँव

अथकित चलते जिनके पाँव । सिर पर बोझा है लदा हुआ , बाजू में दो बच्चे लेकर । अहसान जताते है अमीर , दो सूखी सी रोटी देकर ।। सौ दो स... Read more

नीड़ ।

तिनका तिनका जोड़ जोड़ कर , फिर बुलबुल ने नीड़ बनाया । अपने अद्भुत रचना कौशल , से उसने परिचय करवाया ।। कौन कवि, वर्णित कर सकता , है... Read more

पत्र तुम न रह सकोगे ।

पत्र ! तुम न रह सकोगे सदा तरु की डाल पर । एक दिन तुमको यहां से टूटना तो पड़ेगा ।। विटप के इस मोह बंधन से बँधे हो ... Read more

समायोजन

समायोजन के भाव से अद्भुत सौंदर्य निखरता है । इसके अभाव में जीवन का हर रंग , बेरंग विखरता है ।। प्रकृति का यही परम् ... Read more

सृजन

सृजन की अद्भुत शक्ति है । बार बार एक नन्हे पौधे को काट रहा हूँ । दूसरी सुबह फिर से , नव अंकुर सीना ताने निकल आता है । क... Read more

मौत पे किसका वश चलता है

मौत पे किसका वश चलता है । उगता हुआ दिनकर ढलता है ।। जिसको जितनी सांसें मिलती । उतना ही जीवन हासिल है ।। एक ... Read more

कृष्ण का संदेश है यह

कर्म से मुंह मोड़ लेना , ये गलत आदत पड़ी है । बताओ किस देवता की , इबादत इससे बड़ी है ।। कृष्ण का संदेश है यह , तुलसी का उपदेश है ।... Read more

आदमी होना जरूरी है

आज फिर आदमी का आदमी होना जरूरी है । जो पाया है उसी में से ही कुछ खोना जरूरी है ।। उसके आंसू हुए पत्थर उसे खुश... Read more

खुद से आंख चुराते क्यों हो ।

खुद से आंख चुराते क्यों हो । मन में भला छुपाते क्यों हो ।। तन के भीतर है कस्तूरी । वन में मृग भटकाते क्यों हो ।।... Read more

कल के वीरान

कल के वीरान आज हो गए गुलजार । वक़्त कभी एक सा नहीं रहता ।। बह जाती है बरसात में सूखी नदियां । कभी थम जाता है दरिया ... Read more

परिंदे सोच में है

परिंदे सोच में हैं , आदमी क्यूँ बंद घर में है । क्यूँ मौसम अजनबी सा हर , गांव और शहर में है ।। कहाँ क्या हो गया कुछ , भी समझ ... Read more

कैंसे सह जाते है लोग

कम शब्दों में ऊंची बातें , कैंसे कह जाते है लोग । गुमसुम होकर दर्दे गम को , कैंसे सह जाते हैं लोग । अफवाहों के बहते दरिये , यूं... Read more

श्रम साधना

ऊंची नीची पग डंडी पर , बोझ उठाकर चलने वाले । निठुर ठंड में ठिठुर कभी , और कड़ी धूप में जलने वाले ।। जिनका लहू पसीना बनकर , गिरे ... Read more

बदल रही है प्रकृति

बदल रही है प्रकृति अपना रूप पुराना । नव यौवन सा लौट रहा है आज सुहाना ।। साफ हुआ आकाश वायु भी शुद्ध हो रही । छेड़ रहे है खग ... Read more

मन मौसम सा

जिसका मन मौसम सा बदले । उस पर कभी विश्वास न करना ।। जो न बात की कीमत समझे । उससे कभी कुछ आस न करना ।। जिसका स... Read more

आग

चकमक बनने से पहले , यह बात समझना जरूरी है । कि कौन व्यक्ति ? तुमको घिसकर , कहाँ आग लगाना चाहता है ।। Read more

हर चेहरे के पीछे

हर चेहरे के पीछे एक कहानी है । आंखों में आंसू की जगह पानी है ।। ऊंचे महलों में , जलती शमाओं ने । कुटिया के दीपक की कद्र न ज... Read more

आदत

इस तरह पड़ गई आदत , उनकी अब घर में रहने की । कोई बाहर निकालता है , तो वो भीतर को जाते हैं । खाना भी इस तरह खाया है , उनने... Read more

देवी गीत

हे जग जननी, सिंह वाहनी । ममतामयी माँ, अभय दायनी ।। तोरी जय जय कार , भवानी माँ खोलो दरबार..... अष्टभुजी माता महारानी... Read more

देवी गीत

हे जग जननी, सिंह वाहनी । ममतामयी माँ, अभय दायनी ।। तोरी जय जय कार , भवानी माँ खोलो दरबार..... अष्टभुजी माता महारानी... Read more

देवी गीत

देवी गीत हाथ में नरियल, पान सुपारी , संग में फूलन की माला धरूँ ..... जय अम्बे जगदम्बे तोरी पूजा करूँ ।। तू बलशाली, सिंह स... Read more

कैंसे कैंसे लोग

अरे आजकल नजर आ रहे , कैसे कैसे लोग । आसमान में उड़े जा रहे , कैसे कैसे लोग ।।... Read more

खेल बिगड़ जाता है ...

पल में खेल बिगड़ जाता है .... हो सकते थे कभी जो पूरे । रह जाते हैं स्वप्न अधूरे ।। फूलों के खिलने से पहले, निष्ठुर पाला प... Read more

अरे ! आदमी बदल रहा है..

अरे ! आदमी , बदल रहा है जो जैसा चाहे , चल रहा है फुर्सत नहीं है एक पल की वो व्यस्तताओं में पल रहा है मरीज होकर भी मर्ज... Read more

मन की पीर

कुत्ता रोया रात भर , ले निज मन की पीर । अनहोनी का अर्थ दे, धमका गया फकीर ।। पत्ता गिरे बबूल से , घायल चीटी होय । ऊंट दहा... Read more

हो गए जो अमर जग में

हो गए जो अमर जग में , उन सपूतों को नमन । प्राण आहुति दे जिनने , रक्त से सींचा चमन ।। धन्य ह... Read more