Satish Sharma

Sihorabohani

Joined August 2018

Govt.Teachar . In dist.narsinghpur(mp)

Copy link to share

वो बेफिक्र हो कर

वो बेफिक्र होकर के चलते रहे और आस्तीनों में सांप पलते रहे अगर देख लेते कभी गौर से तो होता न यह हादसा जो हुआ कभी आ... Read more

तितलियाँ

हवा की नदी पर बहती रंग बिरंगी टितलियाँ अपने पंखों से झरते संगीतके स्वरों के साथ बेफिक्र , बेपरवाह आनंद की लहरों पर इ... Read more

फूल चुनोगे

फूल चुनोगे तो काँटे भी पाओगे अगर डरे तो खुशबू से वंचित रह जाओगे काँटे कभी मिटा न सकेंगे फूलों का होना लगा रहेगा उनका ... Read more

चिंतन

चिंतन से मन और मन से तन प्रभावित होता है सकारात्मक चिंतन जहाँ उत्साह व ऊर्जा से भर देता है वहीं नकारात्मक चिंतन ह... Read more

बिजली गिरी

आज फिर बिजली गिरी बादल गरज कर ढल गया उस अभागे का बिना कारण से ही घर जल गया जिंदगी भर जिस भरोसे के भरोसे में रहा वह भरोस... Read more

हिंदी की गरिमा

मातृभाषा हिंदी है अति मनभावन । इसके इक इक वर्ण जगत में पावन ।। रस छंद अलंकारों की शोभा न्यारी । लगती है सबको ... Read more

मत उतरो...

हो गयी जर्जर तुम्हारी नाँव , मत उतरो नदी में.. जिंदगी भर तटों के उस पार से इस पार तक । आती जाती रही लहरों में उफनत... Read more

जीवन

जो यह कहते थे कि यह जीवन धन , अनमोल नहीं अंत समय तक वही ये कहते गए इसका कोई मोल नहीं ये तब कीमत भूल गए पहचान न थी इ... Read more

वन मृग

खोज थका कस्तूरी को मृग मन के वन में टूट गया संचित था जो कुछ पहले का वह भी पीछे छूट गया मन की तृष्णा गई खींचती बुझी न ऐंसी ... Read more

बहती नदी

1 शरद रात गहन अंधकार मधुर बात 2 बहती नदी छल छलाती पीड़ा सहती नदी 3 भोर की वेला जंगल की तरफ़ जाते आदमी 4 चलती टी वी चीखते... Read more

अभ्यास

अभ्यास की निरंतरता कला कौशल की समृद्धि के लिए जरूरी होती है इसके अभाव में कला अपनी चमक स्वतः खोती है कला साधक अभ्यास... Read more

तेरे करिश्मे का

तेरे करिश्मे का अब इंतजार सबको है एक तू ही तो है जिससे प्यार सबको है जहॉं में कौन है जो तुझसा दानदाता है कोई एक मांगे तू देता ... Read more

ओ , शाम गुजर

ओ ,शाम गुजर धीरे - धीरे दिन भर के थके बटोही सब तेरे आँचल की छाया में विश्राम तनिक पा लेते हैं तेरी मन मोहक माया में शीतल ... Read more

उड़ा रंग..

उड़ा रंग परवाह नहीं है नूतन की ना चाह कहीं है मृत्यु पर न जोर किसी का जहां बदी थी हुई वहीं है पतित हो गया डाली से जो यह बेमन... Read more

आग जलती ही रहेगी

आग जलती ही रहेगी हवाएं भी न रुकेंगी सूख करके तन चुकी जो डालियाँ भी न झुकेगी यह स्वतः पर एक दिन कटकर रहेगा आत्मा का बोझ जो तु... Read more

कुछ पुराने गीत

सप्त स्वर से जिंदगी के गीत गाते दूसरों को सुख की जो चादर बिछाते उनके जीवन में कभी न हो अँधेरा इसलिए दीपक जलाता आ र... Read more

उसके हिस्से का...

उसके हिस्से का ज्यादा खुद का कम लगता है बहका बहका सा जाने क्यों मौसम लगता है खुशियों के बाजारों में रौनक तो रहती है द... Read more

जय गणेश

जय गणेश जग वंदन शिव सुत गौरी नंदन छवि शोभित अनूप मन मोहित स्वरूप लम्ब तुण्ड भुजा चार गजानन परशु धार ... Read more

तुम उड़ते जाओ

तुम उड़ते जाओ कि खूब ऊंचे नजर हवा पर जमाये रखना गगन के मेहमान बन भी जाना जमीं से रिश्ता बनाये रखना... अँ... Read more

मत उतरो नदी में

हो गयी जर्जर तुम्हारी नाँव , मत उतरो नदी में.. जिंदगी भर तटों के उस पार से इस पार तक । आती जाती रही लहरों में उफनती धार ... Read more

हे कृष्ण

हे कृष्ण.... देवकी के आंचल में आकर मातृ स्नेह का सुख लिया और यशोदा के आंगन में वात्सल्य का छीर पिया मथुरा से गोकुल तक का यह सफ... Read more

स्वप्न

स्वप्न जीवन प्रेरणा है रंग नित भरते चलो बात भले विचित्र है ये कल्पना के चित्र हैं ये डगर मंजिल की बताने सबसे ... Read more

प्रतीक्षा

स्वप्न से रहे नैन निरुखे रीते के रीते करती रही प्रतीक्षा दिन पर दिन बीते सदियों से टूटी माटी मैं मिली हसरतें सा... Read more

अवसर

जीवन में अवसर मत खोना जो एक बार चला जाता है बार बार न आ पाता है लाभ उठाने को आतुर हो भय के बस मत होना... Read more

हम दीपक हम ही उजियारे

जल उठते खुद सांझ सकारे , हम दीपक हम ही उजियारे ! चले अकेले हैं बचपन से डरे कभी न पथ निर्जन से अपना सीना तान निरन्तर... Read more

मेरा खुला है द्वार

थकित नयनों से रही में निर्निमेष निहार । वापसी का आज भी मेरा खुला है द्वार ।। धेनु गोकुल की पुकारे श्याम घन को साथ जाना चाहती... Read more

क्यों हो ?

नाकामी अपनी छुपाते क्यों हो इल्जाम उन पर लगाते क्यों हो आज़ाद उड़ने दो पंछियों को जालों में उनको फँसाते क्यों हो ... Read more

लगता है..

लगता है अब कायनात में , पहले जैसी बात नहीं । मानव के अपने दिल में भी , पहले से जज्बात नहीं ।। यूँ तो सूरज ... Read more

समय

समय सतत चलता है कुछ लोगों को लगता है समय अच्छा है कुछ लोगों को समय बुरा लगता है परन्तु समय अच्छा या बुरा नहीं होता ज... Read more

असमंज में

असमंजस में बीत गए दिन न कर पाए कुछ भी तय जल का घट था जल में फूटा जल ही में हो गया विलय ताने बाने क... Read more

दायरा

सोच का दायरा जितना होगा उतना ही चिंतन मस्तिष्क में जगह बनाएगा सीमित क्षेत्र में असीमित चिंतन भीड़ भरे बाज़ारों के कोलाहल के ... Read more

शिव शंकर

शिव शंकर डमरूधर। आशुतोष संकट हर ।। गले नाग जटा विशाल । कोटि सूर्य दीप्त भाल ।। भाल चंद्र अति शोभित । गौरी संग छवि मोहित ।। ... Read more

खुद के

खुद के पांव के नीचे की अग्नि देखो दूजे के सिर पर जलती है जलने दो आग भस्म कर देगी ये तो निश्चित है जरा हवा को थोड़ा और त... Read more

सुख दुख

सुख दुख बादल जैंसे हैं आते हैं और जाते हैं ढंग भी कैंसे कैंसे हैं , सुख दुख बादल जैंसे हैं बैठे बैठे रात कट गई रोते ... Read more

सफर जारी रखो

मंजिल है अभी दूर सफर जारी रखो । है हौसला भरपूर सफर जारी रखो ।। न सोचो किनारा ही खुद आएगा सामने । इस मद में न हो चू... Read more

बरसो सावन

रिम झिम रिम झिम बरसो सावन ऋतु लगे सुहानी मन भावन बूंदों के स्वर पर गीत फुहारों का गर्जन का घन हो ताल बहा... Read more

परिवर्तन ही जीवन है

परिवर्तन ही जीवन है फिर इससे डरना कैंसा काल चक्र नित चलता है जड़ता पर मरना कैंसा जलधारा का रुख देखा ... Read more

वैदेही वनवास

वैदेही वनवास गई। विकल हुए सब जीव अवध के महा विपत्ति भई ।। दशरथ नृप अरु भरत रिपुदमन कौशिल्यादि सब रानी । तीनहुँ भगनि परि पुर... Read more

हर सावन हरा नहीं होता

हर सावन हरा नहीं होता । हर सोना खरा नहीं होता ।। पत्थर दिल वाली आंखों में । अश्रु जल भरा नहीं होता ।। सागर म... Read more

बुजुर्गों से दूर..

बुजुर्गों से दूर तुम होते रहोगे अपने मन की शांति खोते रहोगे इनके अनुभव के है मोती कीमती ले लो वरना ता उमर रोते रहो... Read more

मुश्किल है...

कौन खरा खोटा यहाँ पर कहना मुश्किल है। बेरों के वन में केरों का रहना मुश्किल है ।। गले तलक आ जाये पानी तो भी सह लेंगे । अगर डु... Read more

नीर भरे बदल

आये अब नीर भरे बादल निरख मची भू पर हलचल शीतल पवन बही मन्थर ग्रीष्म तपन काँपी थर थर गगन वधु ने आँज लिया... Read more

नदिया है...

नदिया है बह जाने दो अगर कोई उन्मादी कुछ कहता है कह जाने दो आँधी आती उड़ती धूल नहीं टूटते कोमल फूल बड़ी खुशी से ... Read more

जिंदगी को ढूँढता

बाँधकर आंखों पे पट्टी रोशनी को ढूंढता छोड़कर अपनों को कोई अजनबी को ढूंढता जिंदा था तब जिंदगी की क़दर भी जानी नही... Read more

सृजन का अस्तित्व

सृजन कभी रुकता नहीं है ध्वंशों के सामने भी झुकता नहीं है जैंसे सुबह का उदित रवि सन्ध्या में अस्त होकर पुनः दूसरी सुबह ... Read more

चलो देखकर

जीवन की आड़ी तिरछी पगडंडी पर खतरा न हो फिर भी तो तुम चलो देखकर आस्तीन के सांप छिपे बैठे रहते हैं ईर्ष्... Read more

छोड़कर चले गए

छोड़कर चले गए जग में वो निशानियाँ स्वर्ण अक्षरों में लिखी जाएंगी कहानियाँ मातृ भूमि के सपूत माँ की आंख के तारे देश की रक्षा ... Read more

न देख

इस चमकती रेत में मोजों की रवानी न देख यह तो है सूखी नदी इसमें जरा पानी न देख जिसकी झोली में दुआओं का भरा भंडार है उसके... Read more

हरे कृष्णा

अधर बांसुरी अति शोभित अनुपम सुंदर छवि जग मोहित कुंचित केश ज्यों भ्रमर पुञ्ज साजित रूप मधुर निकुञ्ज गोपाल कृष्ण ... Read more

बात क्या है

क्यों अंधेरे में हो , बात क्या है ? दुःख के घेरे में हो , बात क्या है ? आज की डूबी किरण कल आयेगी रोशनी फिर से जहां पर छा... Read more