शिक्षक, सिहोरा , नरसिंहपुर

Copy link to share

हो गए जो अमर जग में

हो गए जो अमर जग में , उन सपूतों को नमन । प्राण आहुति दे जिनने , रक्त से सींचा चमन ।। धन्य ह... Read more

धजी के सांप

धजी के सांप तो बनते बहुत है । पर धजी सांप की नहीं बनती ।। भर गए भेद कितने रिश्तों में । बेटे और बाप की नहीं बनती ।। पहनते खूब बा... Read more

दिए मत जलाना

भले हो दीवाली, दिए मत जलाना । ग़मों के समंदर में डूबा हो कोई , कोई शोक संतप्त भी हो रहा हो । अंधेरो की चाहत ले ,गम भूलने को , दिल... Read more

जय हे ! गणपति

जय हे ! गणपति जगवंदन । हम करते हैं , अभिनंदन ।। जो ध्यान, करे प्रभु जी का । बन जाये जीवन नीका ।। कट जाते जग के बंधन , हम करते... Read more

राखी

जो राखी को त्योहार सखी बड़ो नीको लागे री....... जब सावन को महीना आवे , फूलें फूल , हरियारी छावे । कारे बदरवा पानी भर भर , रात द... Read more

जरा देखिये....

ज़माने का कैंसा चलन है निराला जरा देखिये | उन्होंने ही काटा जिन्हे मैंने पला जरा देखिये || वो करते रहे हैं दुआ मेरे मरने की खातिर ... Read more

हो कितना भी दूर किनारा

हो कितना भी दूर किनारा । यदि कोई मन से न हारा। प्रतिकूल धाराओं में भी , वह आगे बढ़ जाता है ..... नींद चैन को जिसने छोड़ा । संघर्... Read more

कुआ ढूंक के...

कुआ ढूंक के देखें पानी । इनकी बुद्धि कहां हिरानी ।। पेड़ कटे सब मिट गए जंगल। वर्षा गई , बात ने जानी ।। सूख रहीं है नदियां सारी।... Read more

श्रद्धांजलि

भारत मां का सच्चा सपूत, प्रस्थान कर गया स्वर्गलोक । जन- गण- मन स्तब्ध हुआ छा गया देश में महाशोक । सदियों सदियों में होता है प... Read more

आजादी का दिन

आ गया आजादी का दिन , आओ हम तुम मिल मनाएं । कुछ रंगों को तुम मिला दो, और कुछ रंग हम मिलाएं । एक रंग से पेट भूखे का भरें , एक रंग... Read more