AMARESH MISHRA

Joined November 2016

Copy link to share

सब सपना रहा

सब कुछ सपना रहा ,न इस दुनिया मे कोई अपना रहा, जा रहा हूँ छोड़कर सबकुछ सपना रहा। जो कुछ अच्छा लगा, हमने वही किया। किसी अपने के कथन ने,... Read more