Alka Keshari

Chopan

Joined August 2017

Kargara up

Copy link to share

माँ

माँ Alka Keshari Alka Keshari कविता Nov 24, 2018 माँ ममता की शीतल छाया,दरिया दिल होती है माँ। घर वो मंदिर जैसा होता,जिस घर... Read more

माँ

माँ ममता की शीतल छाया,दरिया दिल होती है माँ। घर वो मंदिर जैसा होता,जिस घर मे होती है माँ।। 💐💐💐💐 मीठी-मीठी ... Read more

रिश्तों की सच्चाई

कोई अपना ही अपना कह के सब कुछ लूट जाता है। वक्त की मार से अपनों का संग भी छूट जाता है कभी भी प्यार को दौलत के पलड़े में नहीं रखना ... Read more

तितली

काश की मैं एक तितली होती । नीली पीली चमकीली सी, रंगो वाली चटकीली सी। फूलों के ऊपर मंडराती, कलियों का मैं जी बहलाती। अपनी साथी त... Read more

पतिंगे का प्यार

नन्हां सा दिया देख उमड़ता प्यार है पतिंगे का, जलते हुये दिये पे जां निसार है पतिंगे का। छड़िक सुख की खा़तिर सब कुछ विसार देता है,... Read more

विकास की सोच

सनसनी है हर तरफ आगमन विनाश का सोचिए क्या हस्र होगा देश के विकास का। जो हैं आदृत लोग यहां वो कुर्सियां बचाते हैं, उत्कोच के सहारे... Read more

प्यार का इज़हार

जब से वो अपने प्यार का इज़हार कर.गये, झुका के नज़र इश्क का इक़रार कर गये, दिल को लगा झटका मैं सोचने लगी, हैं कौन .वो जो हमको बेक़रार... Read more

माँ का आँचल धन्य है ।

धन्य.धन्य मेरी भारत माँ का आँचल धन्य.है, प्रहरी बना हिमालय वो हिमांचल धन्य है। लहराती बलखाती नदियां बहती जिसके आँगन में, कोयल... Read more

इन्सान बडा़ है

ना हिन्दू बडा़ है ना मुसलमान बडा़ है इन्सानियत हो जिसमें वो इन्सान बडा़ है। एक ही अल्लाह एक ही राम हैं, एक ही दाता के अनेकों ही न... Read more