सावन ( दोहा छंद )

काँपी रह-रह घाटियाँ, आया विकट असाढ़ | थर्राए गिरि देख कर , लाया ऐसी बाढ़ || सावन जहँ गाने लगा, रह-रह राग मल्हार | अँगड़ाई लेती दि... Read more

हो उजाला ज़रा दीप ही बार दो

मुड़ न जाएँ कदम ये बदी की तरफ दोस्त जाना नहीं मतलबी की तरफ फर्ज इनका यही धर्म उनका यही आदमी को रखे आदमी की तरफ आ गए फिर घने ब... Read more

मन उस आँगन ले जाए (गीतिका)

आकर साजन तू ही ले जा क्यूँ ये सावन ले जाए अधरों पर छायी मस्ती ये क्यूँ अपनापन ले जाए भिगो रहा है बरस-बरस कर मेघ नशीला ये काला ... Read more

दुश्मन नए मिले

जब छीनने छुडाने के साधन नए मिले हर मोड़ पर कई-कई सज्जन नए मिले कुछ दूर तक गई भी न थी राह मुड़ गई जिस राह पर फूलों भरे गुलशन नए... Read more

खपरैल. (दोहे)

मिट्टी के खपरैल घर , संजोये हैं गाँव | वही चर्मराती खाट औ, घने नीम की छाँव || गाँवों में अब घर हुए, कितने आलीशान | मगर कहाँ सबक... Read more

कुण्डलिया

बूँदे लेकर रसभरी , वसुधा को महकाय | क्या है मन में मेघ के, कोई समझ न पाय || कोई समझ न पाय, किसे यह तर कर देगा, कब तोड़ेगा आस, कहाँ... Read more

तम से लड़ी है जिंदगी

मौत है निष्ठूर निर्मम तो कड़ी है जिंदगी जो ख़ुशी ही बाँटती हो तो भली है जिंदगी लोग जीने के लिए हर रोज मरते जा रहे ये सही है तो ... Read more

कह-मुकरी

उसका रूप भुला ना पाऊं, छोडूं ना मैं जब पा जाऊं, उसके बिन यह दुनिया खोटी, क्या सखि साजन ? ना सखि रोटी ! गर्म करे वो रातें मेर... Read more

बेबस बदन देखा

हमने यहीं पर ये चलन देखा हर गैर में इक अपनापन देखा देखी नुमाइश जिस्म की फिरभी जूतों से नर का आकलन देखा हर फूल ने खुश्बू ग... Read more

भीनी प्रेम फुहार

ले-लेकर घन दौड़ती, यहाँ-वहाँ दिन रात | वही हवा बरसात की, लाती शुभ सौगात || आये वारिद झूम के, भिन्न-भिन्न आकार | ढांक रहे हैं व्य... Read more

मुक्तक.

1 बोझ में मँहगाई के मत देश को उलझाइये कौन कहता है जमीं पर चाँद लेकर आइये एक निर्धन किसतरह जीता है मेरे देश में, वक्त हो गर तो म... Read more

कुण्डलिया

मँहगाई नकदी रहे, होती नहीं उदार | इसका कब शनिवार या, होता है रविवार || होता है रविवार, जहाँ इक छुट्टी का दिन, वहीँ पसारे पैर, और ... Read more

घर बिखर गया

खूँ हो गया सफ़ेद कोई जैसे मर गया रिश्तों से रंग प्यार का ऐसे उतर गया कोई कमी न थी न कोई चाह थी मगर बदला उधर जो दौर इधर घर बिख... Read more

दोहे/ नैन हुए नमकीन.

मृगनयनी शरमा गई, छवि अपनी ही देख | अपलक रही निहारती, पैर ठुकी ज्यों मेख || अधर प्रेम रस के कुएँ, नैना शीतल धाम | हँसी उत्स उत्... Read more

मनहरण घनाक्षरी / कैसी सरकार है.

मेरा भी कहा न माने, तेरा भी कहा न माने, किसी का कहा न माने, कैसी सरकार है सुने ये गरीब की ना, सुने ये अमीर की ही, सुने नहीं बात ... Read more

प्यार भरा अहसास.

रहे उदासी दूर ही,....जबतक माँ हो पास | माँ की ममता में छुपा, प्यार भरा अहसास || होता है आवास में,..प्यार भरा अहसास | जब अपनों क... Read more