ÃJ_Ăňüp

Joined September 2019

Copy link to share

क्या समझें हम !

क्या समझें हम , मेरे लिए तुम्हारे दिल से तुम्हारी दिमाग़ की उस लड़ाई को.., मेरे साथ ना होने पर तुम्हारी उस तन्हाई को..! क्या ना... Read more

राधा और कृष्ण का उन्मुक्त प्रेम !

"जीन नैनों में तुम बसे हो, दूजा कौन समाय ! धागा हो तो तोड़ भी दूं, प्रीत ना तोरी जाय !" ... Read more