मुझे कुछ लिखते रहने का बहुत शौक है। कोई बड़ा लेखक तो नही हूँ लेकिन बनने का कोशिश करता हूँ।

Copy link to share

उमस जिंदगी

ना हुई सुबह, ना ढल रही है शाम देखते है ये जिंदगी, लेगी कब तक इम्तिहान जो उठ ना सके हारा हुआ इंसान इस जिंदगी के बोझ में न जाने कि... Read more

प्यारी माँ

सोती है देर से, तुझसे पहले जग जाती जग कर तेरे लिए भोजन है पकाती तुझको नहला धुला कर स्कूल भी पहूँचाती सारे काम करने के बाद घर के क... Read more