स्वागत हैं मेरे जज्बात साज़ गीतों में. कभी जब मैं यूँ ही तन्हा बैठता हूँ ,और अचानक ही पुरानी यादों की बारिशें,मेरे जेहन में बेतरतीब से ख्याल बूँद बनकर, मेरी कलम से कागज़ पे लफ्ज़ उकेरने को मचलने लगती है II

Copy link to share

रिश्तों मे बदलाव की बहार -1

हर रिश्ता कुछ कहता है आशुतोष हर रिश्ते की एक अलग परिभाषा पर हर रिश्ते मे एक बात समान छोटो को मान , बड़ो को सम्मान ।।1।। पर अ... Read more

हैरानी

अगर हो सके तो "आशुतोष' , सब्र कि उंगली पकड़ इस कदर चलो , रास्ते हैरान हो। वफ़ा की गिरेबान पकड़ इस कदर चलो , मोहब्बत हैरान हो । आशा ... Read more

सलवटे

यादों की रूहानी सलवटे है शर्ट की तरह । गर्म हवा की धाप भी सुकून जो ना दे पाती है पल प्रति पल में दिल में एक टिस सी रहती है ... Read more

जिस्म

जिस्म का फर्क है आशुतोष आदमी बना जिद से औरत बनी समझौते से । आदमी करता रहा जिद औरत करती रही समझौते तभी ये हसन है इंसानियत क... Read more

बेपरवाह जिंदगी की

ठहरी हुई निगाहें तेरी जब पत्थर सी हो जाती हैं, मैं जोड़ता हूँ चाहतों की कड़ियाँ ।। अश्क तेरे जब प्रेम रवानी से हो जाते हैं , मैं ... Read more

मेरा सदग्रंथ कहे ये बारंबार

ये अश्क होते मोती , ये नयन होता सागर । ये झुल्फे होती बादल , ये सिर होती बारिश । ये गाल होते गुलाब , ये हुस्न होता खुशबु । मगर... Read more

मेरा सदग्रंथ..... नज्म-ए-दिल

तेरी अदाओ के मयखाने मे , कशमकश है मोहब्बत की , फिर क्यू ये तेरा दिल शोर ना करे । अश्क बेकरार है आँखो मे आने को , सुलगती आग को... Read more

मेरा सदग्रंथ.…....सौदा-ए-जज्बात

चाहत की दस्तक को पैरों तले ना रोध दे बेमेल से शब्द, आओ सनम खोमोशियो का सौदा करें । ख्वाईशो की रूह से लिपटी जिन्दी मोत सी तलखतर ... Read more

मेरा सद्ग्रन्थ.........तेरी जीवन रीत

जिंदगी प्रीत है , साजन संग जुड़ी रीत है बेअदब ही सही निभाए जा रहे हो । उल्फत है ना जाने कैसी , साज़ फिर भी छेड़े जा रहे हो । याद... Read more

ये हैं आशिक़ी

एक बार हमारी प्यारी किशोरी राधा रानी से कृष्ण ने पूछा ,कुंज गली मे कोई एतबार नही करता , कहते है सब छलिया मुझे । इस छलिया से इतनी मोह... Read more

तासीर शब्दों की

तासीर शब्दों की कभी नरम तो कभी गरम होती है । कभी फूलों सी नरम कभी लौहे की जंजीर होती है । फरक बस इतना है नरमी इबादत की गरम... Read more

नज्म-ए-आशिकी

जब पिघल रहे हो जज्बात तो फिर , दिल मे धुंआ क्यू ना करु । सर-ए-महफ़िल मे अक्सर निगाहें उन्हें ढूढ़ती है, जो कभी नजरों से उतरे ही नही... Read more

मेरे राधा रमण सरकार

जिंदगी की केन्वॉश पर हर उभरता रंग, सिर्फ तेरी वजह से है मेरे राधा रमण सरकार ।। देहरी के दीपक मे चमक , जुगनु मे रोशनी की ललक , स... Read more

हिन्द मेरा अभिमान

ये जो हिन्द भूमि है ,वो एक चलता फिरता राष्ट्रपुरुष है । इसके कण कण मे व्याप्त है मानस के नायक राम और गीता के कर्म योगी घनश्याम की छव... Read more

रिश्तों मे गिरावट

चाहत जो बदली नजारे बदल गए अब घर मे ना आँगन ना तुलसी का पौधा अब बस आस्था के नाम डराने वाले एस.एम.एस. आ गये ना रही नानी माँ की कहा... Read more

एक लड़की की चाह

चाह एक दबी दबी सी थी काश मेरा भी एक भाई होता कभी लड़ती और झगड़ती और अपनी हर जिद बनवा लेती पर ये हो ना सका जब किन्ही बहन भाई ... Read more

सयानी लड़की

वो है एक सयानी लड़की परिवार के लिए पारसमणि से कम नही महज छोटे कपड़े ना देखो अराजक सोच को मार देख सकते हो तो देखो वो है एक स्व... Read more

सिमटती मोहब्बत

साल दर साल सिमटती मोहब्बत इस कदर "आशुतोष" दिल मे धुंआ रख लोग वफ़ा ढूढ़ते हैं । कश्ती मझधार मे डूबी तब किस्मत को बेवफा मान तार... Read more

अनकही सी बातें

चले आओ मेरे साथिया सावन मे फुहार की तरह फागुन मे मल्हार की तरह जेठ मे तपन की तरह या दिसम्बर मे सर्द रातों की तरह करनी है तुम ... Read more

बहन विरासत है

महज बहन नही हो तुम ,मेरे सपनों की आवाज हो ,मेरे सुनहरे भविष्य का आगाज हो, घर के आंगन की तुलसी हो , माना कि एक दिन घर छोड़ साजन के घर... Read more

सादगी के गहने

सादगी के गहने से अपनी जिंदगी सवार लेते पर ये हो ना सका । मन मे जमी मैं की खुरचन करुणा और प्रेम से अधिक मोटी हो गयी है । घरों क... Read more

वजह तुम हो

मैं तो चलु नजरों के मैख़ाने ले कर पर वो तर जाए , घनश्याम वजह तुम हो । मैं तो देहरी के दीपक से होड़ कर खुद को जला लु , पर मेरी जिंदग... Read more

दृष्टि प्रेम पथ

अक्सर कुछ कुछ सुना है और कुछ कुछ जीवन के अनुभव से जाना है , दृष्टि ही सृष्टि का निर्माण करती है । वही दृष्टि क्या प्रेम पथ पर अडिग प... Read more

मेरी माशुका

मेरी माशुका सिर से पैर तक चलता फिरता काव्य उसके हर एक शब्द लबों से निकल कर रूह को हैं छु देने वाली प्रेम और समर्पण की धारा ... Read more

मेरी कलम

मेरी कलम है कोई बेमेल सी कश्मीरी सरकार नही वो कोई ऐसी बात नही करती जिसका इंसानियत से सरोकार न हो इसमें रंग है देश भक्ति के ... Read more

आखिर मन ही तो है

आखिर मन ही तो है कभी ख्याली बूंद बन महल सजाने लगता है और कभी दूसरे ही पल खुद के बनाय घरोंदे को खुद ही तहस नहस करने लगता है । आख... Read more

हसीना का सबक

कल हसीना की एक झलक देखी , वो राहों पे कही गुनगुना रही थी । फिर ढूंढा उसे अपने दिल के अंदर , जहां वो आँख मिचोली कर मुस्कुरा रही... Read more

दीवार , छत और जमीन

बड़ी खूबसूरती से बनाया घर तो रिश्तों को बेबाक़ी से जीना सिख पाते तो कोई बात थी ।। उल्फत तो देखो करामत तो देखो यहां है दीवारें ... Read more

पहली मुलाकात

समय के चक्र को कुछ पीछे पलटना मेरे दिल को जैसे सुकून दे गया । यादों की सिलवट मे आज भी लिखी है बड़ी सलीक़े से तेरी मेरी वो पहली मुल... Read more

गजल गीत का सौदागर

मैं गजल गीत का सौदागर कुछ गीत बेचने निकला हूँ । जो दर्द दफन है सिने मे वो दर्द बेचने निकला हूँ ।। मैं गजल गीत का सौदागर कुछ ... Read more

गाँव की बेटी

रिश्तों को पैसों से नही तोलती है वो हां वो एक गांव की बेटी है ।1। उसकी सुंदरता बाजारू सामान की मोहताज नही , वो मन से सुन्दर , त... Read more

मेरी माशुका की बेटी

समय कहता है मेरा वतन मेरी असल माशुका है और मेरी माशुका की बेटी जो असल मे मेरी बहन है उसे जन्म लेने दो । छु लेने दो तनिक ... Read more

अनामी

असल नाम क्या है मेरा ना मैं जानती हूँ ना कोई और बस इतना जानती हूँ बेटी हूँ मैं मोह की लालच मेरा भाई क्रोध संग मैं बडी हु... Read more

तपन को पत्ता बता दो

छोटु के पापा , गुड़िया की मौसी , मुन्नी की नानी , लटकु के दादा , भटकूँ के चाचा , तगड़ू के जीजा , सकडु के साले, पतलू के भाई जिन्हें भी ... Read more

राजनीती और विज्ञान

राजनीतिक गतिकी का नियम :- राजनेता ना निर्मित होते है , ना ही नष्ट किये जाते है , सिर्फ एक रूप से दुसरे रूप मे परिवर्तित होते है ,उ... Read more

नजर आओगे कभी ना कभी

यदि चाह हमारे दिल मे है , तुम नजर आओगे कभी ना कभी । भोली सूरत , सोनी सिरत तेरी साथी , मिल जाओगे आप कभी ना कभी । फेसबुक, व्हाट्सए... Read more