Radha jha

Howrah

Joined February 2018

Copy link to share

सुन कान्हा

क्यों तेरे शरणों मे कान्हा, सभी झुकाते अपना मस्तक, ऐसी भी क्या खूबियां हैं तुम में, जो तुम को सब रिझाते है, हम तो तेरे वंशज ह... Read more

शक

शक है तलवार वह, जो करती वार सभी पर, ना किसी को जीने देती, हर रिस्ते नाते तोड़ देती , यह शक और कि बात छोड़ो , शक छोड़ती नही भक्त ... Read more

ढुंढ लिया

ग़म में भी ख़ुशी ढुंढ लिया, मैं ने हर ज़ख्म का मलहम ढुंढ लिया।। दर्द में भी राहत ढुंढ लिया, मैं ने प्रेम की व्याख्या ढुंढ लिया।।... Read more

कम हो जाए

ग़म में ही सही, जरा मुस्करा कर तो देखो सायद ग़म कम हो जाए।। कोई नहीं तो मूर्ति से ही बातें कर लो, सायद तान्हा कम हो जाएं।। ... Read more

ग़रीबी

फटे हुए कपड़े है, रूठे हुए नैना, टुठे हुए जवान है, देखो ना घर न बैना, सड़क हि बस्ती है, राह हि स्वर्ग, स्वान है मित्र उनके, ... Read more

मां

मां एक शब्द नहीं, एहसास है मां वह कल्प वृक्ष है, जो पूर्ण करती सभी मनोरथ को, देवताओं कि हमें जरूरत नहीं, जब तक दुनिया में मां ख... Read more

सपने में आई थी नदियां

सपने में आई थी नदियां, कहने लगी अपनी कहानियां धरती के आधार कि बातें, सुर्य, चांद , सितारे ओर रातें कि माछ, हंस , शंख है बच्चे उस... Read more

सुखी नैन

रोना भी भूल गया नेयना उसकी, हंसी तो ना जाने कहां गुम हो गयी, ग़म भी दूर भागती है उससे, देख क्या नसीब उसकी, दुनिया ने सोचा ,वह ख... Read more

सिख लिया

बदलते समय में ढलना सिख लिया, तेरे ग़म में अब रोना सिख लिया, अंधेरा में ज्योति जलाना सिख लिया, ग़म में खुशियां ढुंढना सिख लिया, द... Read more

फरेबी बाबा

टूट गया सब रिश्ते नाते, टूट गया सब बन्धन यहां, छूट गया सब घर वार मेरा, दुनिया की नजर में, बन गया जब मैं संन्यासी पर मैं बना फरे... Read more

प्रश्न खुदा का

कब कहां था हमने, आप ग़लत हम सही, कब कर रहे थे आप काम सही, जो बाधा बने हम उस कार्य में, कब रुठे थे हम, जो आप आये थे... Read more

बदनामी

मौत से डरता नहीं, मौत आती है सभी कि, डरता हुं बदनामी से, जो पूछ कर आती ना कभी, ना जाने कितने को खा गयी, यह"बदनामी" ने हमें तो ... Read more

भिक्षुक कि जिंदगानी

स्वान से बद्तर जिंदगानी मेरी, क्या सुन पाओगे कहानी मेरी? तरसते हैं दाने - दाने के लिए हम, अब क्या बताऊं कहानी अपनी?? घर - आंगन... Read more

हां नारी हुं मैं

हां नारी हुं मैं, दुनिया कि बन्धन कि कड़ी हुं मैं, कहते हैं मेरा कोई अस्तित्व नहीं, पर, बिना मेरे यह दुनिया नहीं, हां नारी हुं ... Read more

कर्ण का धर्मसंकट

हां केशव, दे रहा था मैं साथ दुराचार का, दे रहा था मैं साथ अन्याय का, लौग कहेंगे मुझे दुराचारी, पर क्या मेरे साथ हुआ था न्याय, ज... Read more

अधुरा न्याय

अग्नि परीक्षा दिलवा कर लाए थे राम, फिर भी त्याग दिया उसे, जब उसे जरूरत थी तुम्हारी, क्या सोचा कौन संभालेगा उसे? जब पीङा होगी उसक... Read more

प्रकृति पिङा

धैर्य मेरा बिखर गया, ना जाने कब, कहां किधर गया। टूट गया वचन मेरा, अहिंसा कि राह ,अब हिंसा में बदल गया, अहिंसा... Read more

छुट्टी के बहाने

मेडम , अब तो छोड़ दो हमें दर्द हो रहा है हाथों में रोता होगा मेरा पेन भी देख अत्याचार आपके अरे ,कोई समझाओं इन्हें, नन्हे बच्चे... Read more

सखी निराली

मां एक एहसास हैं, मां एक आस है, मां पूर्ण करती दुनिया हमारी मां बिन देखो रूठा है दिल मेरा मैं एक ज्योति तो , मां उस कि रोशन... Read more

प्यासा नैन

रात के अंधेरे में , चांद को न ढ़ुंढ़ो, ढ़ुंढ़ो उस नयना को, जो हर पल खोचती है उस चांद को चांद का क्या अपनी रोशनी से जगमगा जाएगा,... Read more

अंतर्मन दिपिका

सुबह का सूरज गया चांद को मनाने दिन में संभाल लुंगा इस दुनिया को पर रात में संभाल लेना तुम देखो दुनिया चल रही है गलत राह पर संभाल... Read more

मुझे बेटी बनना है

ना ईश, अब तो मुझे बेटी हि बनना है, दन्द देने उन दरिंदों को सुन ईश, तुमसे करनी है बात एक तुम रेहना साथ मेरे हर कदम में ताकि , म... Read more

कन्या भ्रूण कि आवाज

रो रही थी एक भ्रूण कचरे में, पूछने पर पता चला फेंक दिया मां ने उसको जन्म से पहले। देखो यह आधूनिक समाज, रो -रो वह कह रही थी, पूछ... Read more

आदर

आओ बच्चों करें प्रणाम, दुःख - सुख का है साथी राम, सुर्य को करो प्रणाम, दो धन्यवाद उजाले के लिए, नदियां को करो प्रणाम, दो धन्यव... Read more

अकेलापन

होता है क्या अकेलापन, पुछो उन मां से, लाड़ले जीनके फौज में खङे, पुछो उन बच्चों से, शहीद हो गए जिनके तात, अकेलापन महसूस कर... Read more

इंतजार

आसमान के नीचे मैं इंतजार ‌‌‌कर रही तुम तो भूल गए हमको परन्तु अब भी मैं राह देख रही Read more

विश्वास है मुझे

विश्वास है मुझे, तु तो रहेगा, चाहें कोई रहें ना रहें, परन्तु , तु खङा रहेगा, साथ मेरे हर कदम में, जैसे आत्मा रहती... Read more

दिल तोङ दिया ओ कन्हाहि

Radha jha गीत Mar 18, 2018
दिल तोङ दिया रे कन्हाहि, अब मैं किते जवा जी, अब मैं किते जवा जी।। काले-काले नैन तेरी, बहुत याद आई ... Read more

रिती है संसार कि

रिती है संसार कि, जीने नहीं देती चैन से। कुछ करो तो भला, ना करो तो बला,। देख नजारा "राम"रे, कैसी है,तेरा" काम "रे। जो रोते वे ... Read more

संसार कि उल्टी चक्कर

लकङी के अर्थी में फूल हजारे जाते हैं, दुनिया के दस्तूर तो देखो, जब हम हंसते, तब गम मनाते जाते हैं, संसार कि उल्टी चक्कर में, हमा... Read more

भूकंप

आह! पशुपतिनाथ चुप क्यों बैठे हो, अपने भक्तों का रख लो प्राण।। अपने बच्चों को दें दो जीवन दान, टूट गया जब"धरहरा", मर गई सब "हरहरा... Read more

आदमी

इन्सानों के दुनिया में, ना जाने क्या- क्या बन जाते हैं। खुद ही उलझते - खुद ही सुलझते, खुद में खुद बन कर रह जाते । अ... Read more

निगाहों से देखा कि

निगाहों से देखा कि, तिर चल गई। लगी जो दिल में , कि आह निकल गई। देखा जो घायल दिल, कि बाह फैल गई।।। Read more

आतंकवाद

मानवता शर्मसार हुआ, जग में फिर अंधकार हुआ।। विछोह हुआ भाई बहन में, जल गया चिराग घर का, लुट गया सुहाग किसी का, चला गया वह छोङ अप... Read more

रात के परिंदे

रात के परिंदे, प्रियतम को बुला ले। मिलने को बेचैन बहुत, कही वह मुझे भुला ना दे। रात के परिंदे, मुझे राह दिखा दे। तेरे प्रेम ... Read more

खेलगे हम आज होली ये!!!

Radha jha गीत Feb 28, 2018
होली के रंग में, कान्हा के संग में, आओ रे आओ खेलें आज होली ये। सखियां भी संग ले,देख सब दंग, खेलन है मुझे आज होली रे। पिचकारी लाई... Read more

नारी दर्द

कुछ शर्म करो,कुछ शर्म करो, मुझे अपना हक मिलने दो, जिसने यह संसार बसाया, उसे भी शर्म आता होगा, देख तुम्हें मानव बनकर। जिसने तुम्... Read more

मैं तो होरि खेलन आऊगी

Radha jha गीत Feb 26, 2018
मैं तो होरि खेलन आऊगी, शायामा तेरे नगरिया, राधे तेरे नगरिया। मैं तो बाके‌ं कि हो जाऊगी, राधा तेरी नगरिया, शायामा तेरि नगरिया। ... Read more