जन्म 20/04/84 पटना (बिहार)
शिक्षा- स्नातकोत्तर
पेशा- Chief Operating Officer @Carp Group of Industries India Ltd.

Copy link to share

'करणी' के कर्म

"क्षत्रिय" तेरी तलवार में नहीं वह धार जिस दिन से तुमने किया, नौनिहालों पर प्रहार !! कुन्द कर गए, राम का इतिहास नहीं बची चौहानों... Read more

दाऊ

खट्टू सा मैं, बलराम सा वो समग्र चाहतें पूरी कर दे ऐसा हीं था, बलवान था वो ।। चल पड़ा जब, जीवन पथ पर चढ़ती यमुना को चीरे तक्षक क... Read more

गुड्डी

गुड्डी सी उड़ती जीवन काया शहद पिलाती थी महामाया पात्र जो छूटा, सब जग रूठा बचपन नहीं रहा अब भींत (पास/भीतर) मृग सा प्यासा उसको ढ... Read more

लल्ला

____________लल्ला______________ मुरली का संगीत है पसरा वृन्दा व वरसाने में तड़प रही है तेरी मईया लोहे की चार दिवारों में !! रो... Read more

आखिर क्यों ?

न जाने शादियों की ये दुकानें क्यों हैं जब मन हीं मन से मिले नहीं तो गुण मिलान की,फरमाइशें क्यों हैं ? पी के रीत से जी लेना हीं ... Read more

गफलत

तोड दियें सारी तहमीदें पर कुछ न, अपने हाथ लगा खा चुकें थें सारी कसमे पर रब का ना साथ मिला ।। कसक कसम की अब भी बाकि कुछ प्याले... Read more

कामयाबी

कामयाबियों को रात भर की देर बस बाकि स्याह के लंबाई की, किसको ग़रज़ है ।। Read more

तुम और मैं

तू गरजता रहा मैं तरसता रहा शगुफ़ा-ए-दिल हमारा बनता रहा ।। दरस दियो, इस चाहत में आँखें छलकती रहीं, तू इतरता रहा तू मचलता रहा,... Read more

अभिमन्यु

काश मैं तुझको अपनी उमरिया दे पाता आँसू जो भी होतें उनको पी जाता अपनी खुशियाँ तुझको सारी दे जाता मर के फिर से, लौट के दुनियाँ में ... Read more

राज़ की बात खुल गई

देख लिया गुलाबी सपना आँखों की बात हो गई छुप गया , बदरी में चाँद राज़ की बात खुल गई ।। आँखों हीं आँखों में साथ का वादा भरी बर... Read more

अस्मत

देखा था उसको कई रोज पहले पहलू में अपनी इज़्ज़त बचाये सरपट दौड़ता एक बाप बच्ची को अपनी काँख में दबाये ।। लूटी थी अस्मत मासूम बाला... Read more

मंज़िल

रात का काजल आँख में मल के ले पुरवईया साथ चले देख दूर वह वहाँ खड़ी है सपने आँखों में कुछ, प्यार लिए । मेरी मंज़िल धुंधली धुंधली ... Read more

उपमा

तुझे उपमा दूँ तो आखिर किसकी उपमा से भी तू अनुपम अनुपमता में हीं मैं भटका कैसे करूँ , मैं तेरा वर्णन ।। बर्फ के भीतर से रश्मि, ... Read more

मेरे संग

दिखता था हर रोज़ एक सपना नई मंज़िले नपती थीं खिलता था हर रोज़ गुल एक जब मेरे संग वो चलती थी । रत्न बिखरते थें . बालों से जब जब व... Read more

आकर तो देखो

आओ बाँहों में , समा कर तो देखो . चाह की तरंग न छिड़े , चले जाना बस एक बार नज़रें , मिला कर तो देखो दूर खड़ा है एक मुसाफिर पार कर... Read more

सपना

एक आसमां एक साहिल हो अपना एक घर , एक आँगन हो अपना । खिलतें फूल हजारों जिसमें खुशियों से महकता घर हो अपना ।। चाँद की मादक किरणों ... Read more

अकेलापन

न जोश मुझमें है, न हीं रंग मुझमें है , मुझ हीं से है अकेलापन~अकेलापन~अकेलापन !! दूर तक फैला गम्भीर सा "अर्श" को छूता, मुझसे ... Read more

ख़ाब

अब तो ख़ाबों में भी नहीं आतें हैं वो । मैंने खुली नज़रो से कभी ख़्वाब नहीं देखा ।। Read more

औरत

एक औरत के हैं रंग हज़ार कभी मीरा के पद , कभी लक्ष्मीबाई की दहाड़ ।। कभी सृजनकर्त्री , कभी दुर्गा की तलवार औरत के हैं रंग हजार । ... Read more

उसकी आँखें

रोज़ तकती हैं उसकी आँखे देखतीं हैं सबकुछ उसकी आँखें भँवरे का तड़पना , तडपते रहना हर रोज़ देखतीं हैं आँखें ।। कई बार मैंने कोशिश क... Read more

तेरी याद

मेरे खामोश लबों के हिलने से तेरी आवाज़ आई । सच कहता हूँ उस पल तेरी, बहुत याद आई । पत्तों की सरसराहट से दिल में कहीं हलचल हुई ।... Read more