असमंजस की घड़ी

जलते कोयले पर जमी राख की परत को मिलती रही है तुम्हारे स्पर्श से हवा अब इस सुलगी आग का क्या करूँ मैं? छोड़ दूँ गर इसे अपने नतीजे पे... Read more

"विश्वास"

"विश्वास" . . . ट्रेन तेज रफ्तार से गुजर रही थी। गझण्डी टीसन के सिग्नल पर ट्रेन धीमी हुई तो खिड़की से बाहर झांक कर देखा ... Read more

बनते बिगड़ते राजनीति

उन पर क्‍या विश्‍वास करें जिन्‍हें है अपने पर विश्‍वास नहीं वे क्‍या दिशा दिखाएँगे दिखता जिनको आकाश नहीं जिले की राजनीति में ... Read more

स्वीकार है: जीवन की ललकार

रणक्षेत्र सजी हुई है सेनायें सुसज्जित खड़ी है तैयार जीत हो या हो भले ही हार, है स्वीकार जीवन की मुझे ललकार। जल रहा प्रत्येक क्... Read more

राजनीति:- बदलती निष्ठा बदलती विचारधारा

पार्टी बदले, बदले नेता क्षण में बदल जाये विचारधारा ढंग न बदला राजनीति का तो फिर क्या बदला ? चुनाव का शोर कार्यकर्... Read more

खतरे से खाली नही

आज एक मित्र से मुलाकात हुई दुनिया जहान की बात हुई फिर, कहा उसने.... पहले कलम तुम्हारी उगलती आग थी, जहाँ अक्षर बनते चिंगारी थे ... Read more

मैं विद्रोही तेवर का

मैं विद्रोही तेवर का- विद्रोह लिखता हूँ गढ़ता हूँ असत्य को सत्य की कसौटी से इतर मानता हूँ भर मन में विषाद, प्रेम ना लिख पाता हूँ ... Read more

बदलते दृश्य

सम्मान-प्रतिष्ठा के प्रभावी दृश्य सुंदर इतिहास के तुंग स्वर्ण-कलश सब आदर्श आदर्श पथप्रदर्शक ज्ञानवान शिक्षक विज्ञान, साह... Read more

मै साक्षात माधव हूँ।

एक तरफ अक्षौहिणी सेना यादवों की दूसरी तरफ मंद मंद मुस्कुराता माधव है। अगणित तलवार अक्षौहिणी सेना की निहत्था खड़ा माधव, अकेला ही ... Read more

काले बादल

मंडरा रहे काले बादल दे रहे अशुभ आहट सुना भी है देखा भी है काले बादलों की काली करतूते द्वेष, साजिश और कलह से होते परिपूर्ण काल... Read more

क्रूर होंगे।

हर किसी मे भरा उत्तेजना का भाव आक्रोश प्रदर्शित करते मनोभाव बदलते सोच, बनते बिगड़ते भाव देख सुन लगता है मानो जल्द ही, होंगे क्र... Read more

मृग-तृष्णा

कभी थिर सी कभी अधीर सी कभी बैचेन सी कभी निश्चिन्त सी मन दौड़ता रहा है पाने की इच्छा स्वर्ण-मृग की तोड़ता है मर्यादा की वर्जनाएं ... Read more

जीवन : एक रंगमंच

एक मंच उठते पर्दे धीमा प्रकाश मधुर आवाज परछाईयां आकृतियां दिखते कलाकार बोलती आंखे हवा में लहराते हाथ रुदन का शोर हंसने की आ... Read more

मैं लिखता क्यों हूँ

कहते पूछते और बरसते, सहकर्मी, हितैषी, मित्र और संगी, तुझे ही पड़ी है तू ही सही , तू लिखता क्यो है?? सवाल कर देते विचलित म... Read more

काश हम लोहार होते

काश हम लुहार होते दे पैनापन कलम को तलवार बनाते कर पैना विचारों को भट्टी की ज्वाला में कलम से भाव जगाते दिल के संग दिमागों म... Read more

कॉलेज है!!

कॉलेज है कर्मी है शिक्षक है है छात्र छात्रा शिक्षा फरार है कॉलेज है काउंटर है स्टाफ है ठंड है धूप सेंक रहे है बारह हजार छ... Read more

नयापन क्या है

नव वर्ष के जश्न मनाते लोग हर तरफ हंगामा शोर क्यो मचा रखा है मुझे ये तो बता, इसमें नयापन क्या है लोग वही होंगे सोच वही रहेंगे प्र... Read more

बुनते स्वप्न्न

स्वप्न जो बुने हमने वो कांच के थे टूट कर ध्वस्त हो गए वो स्वप्न्न जिसे तपाया कम आंच पे थे स्वप्न्न जो बुने हमने वो मिट्टी के... Read more

जवाब बनें समाधान बनें

आएगा फिर एक नया साल फिर उठेंगे ढेरों सवाल प्रश्न ढेरो, सब के जेहन में है पर जवाब का अकाल है समस्याएं उठाना कर्तव्य बना समाधान... Read more

सबकुछ बदल गया है!!

कंहा खो गयें वो जीवन के पल वो जीवन की रंगीनियां देखते निहारते तितलियां मिलते मुस्कुराते दिन कट जाते थे अब दिलोदिमाग में… कोई नह... Read more

रक्तबीज

पढा है कथा कहानियों में सुना है माँ काली ने रक्तबीज का संहार किया था गिर रक्त धरा पे ना प्रकट हो पुनः रक्तबीज काली ने रक्त की बूं... Read more

भारत मे डर लगता है....

जो चला रहे थे गोलियां कर रहे थे धमाका पकड़े जा रहें मारे जा रहें तो बरप रहा हंगामा खतरे में है भारत तो सब अच्छा लगता है मारे ... Read more

वाद- प्रतिवाद

मार्ग जो करें भीड़ तय चलना उसपे ग़वारा नहीं खुद की सोच और विचारधारा इतनी अशक्त और कमजोर नहीं सोचता हूँ कभी कभी वाद प्रतिवाद से... Read more

अजब है।

जनता अजब है नेता गजब हैं जो शरीफ है चुप है जो बदमाश है उन्हें माइक देते है तरह-तरह के हंगामे है शोर है सरगर्मी है यहाँ शोक ... Read more

संवेदनाएं पड़ी मृत है!!

क्यो ढोते रहें ये संवेदनाएं होती है ये लाश की बोझ सी भारी किसी के परेशानी किसी के दुख को कंहा कोई कम कर पाया खेलते खेलते संवेदना... Read more

"शमशान" एक हकीकत

"शमशान" एक हकीकत जब एक लाश ले कंधे पे पहुंचे जब शमशान में देखा, दूजी अधजली है तीसरी की राख ठंडी पड़ चुकी है जाते ही लग गयें... Read more

पुजारी, शैतान और लाल कुत्ता

एक है मंदिर ढेरों पुजारी उसमें हर किस्म के छोटे-बड़े नए-पुराने उस बीच एक धूर्त शैतान वेश पुजारी का कर धारण कर मांस मदिरा का... Read more

संवेदनाएं लिखता हूँ।

राजनैतिक सोच नहीं अपनी संवेदनाएं लिखता हूँ। मेरी संवेदनाएं आपसे भिन्न है शायद भावनाएं और परिस्थितियां विभिन्न है। या तो आप ... Read more

गुट और गुटबाजी

क्या दिन थे वो याद आते है सब मे भाईचारा सब साथ थे। जहां मर्जी, गप्पे हांकने बैठ गए। कंही हंसी-मजाक कंही ठहाके लगा आए। बने जब... Read more

खेल शतरंज का

ढेरो खेल खेलें बचपन मे गिल्ली डंडा, फुटबॉल और क्रिकेट लूडो कैरम और शतरंज भी हर खेल से होते मनोरंजन और स्वास्थ्य लाभ पर शतरंज जो ... Read more

इंकलाब जिंदाबाद ! जिंदाबाद इंकलाब !!

क्षण-क्षण, क़दम-क़दम बुनते रचते साजिशों का जाल घिरे हैं ईमानदार सवाल से, और बेईमान को जवाब भी चाहिए जवाब-दर-सवाल है के इन्... Read more

मेरे साथ मेरा स्वाभिमान

सुना है कि अब तुम पत्रकार भी हो गए हो ना समझ था पहले अब बदतमीज भी हो गए हो। बहुत गुस्सा था तुम्हे शोषण और व्यवस्था के खिलाफ अब उस... Read more

डूबते भरोसे

अवसरवादी मतलबी समाज मे सहज भरोसे के पुल भरोसेमंद नहीं होते , इसीलिये ये आकस्मिक निर्माण विश्वासघात की बाढ़ में बह ही जाते हैं ब... Read more

मेरी कलम

रुक पड़ी कलम आज लिखते-लिखते कई बार आखिर क्यों सोचता रहा ! शायद ! न सुहाता हो कलम को मेरा लिखना जैसे ढेरों को पसंद नहीं। ... Read more

साथ कौन है?

मैं ढेरों लोगों को जानता हूं उनमें से कुछ से है मित्रता कुछ से आत्मीय संबंध कुछ के प्रति दिल मे है सम्मान कुछ जबरदस्ती पाते सम्मान... Read more

लड़ाई जारी है।

लड़ाई जारी है। साढ़े दस बजे जाना है ना कार्य करना है ना पढ़ाना है करके मीटिंग बाकियो को भड़काना है आज हड़ताल है कालेज में जाम... Read more

रणभूमि का सारथी

रणभूमि में आपके साथ हैं। रणभूमि में लक्ष्यों का संधान करते हुए आपने पूछा था एक दिन कि, शस्त्रों को छोड़ कर क्यों चुन लेते हो च... Read more

संघर्ष....विभीषण और जयचंद का

एक अजीब सा वातावरण चारों तरफ पल रहा है। कोई खुद को राम और किसी को रावण कह रहा है। गुट बने है कुछ विभीषण कुछ जयचंद तो कुछ तटस्थ... Read more

साजिशें

हरामखोरो को आज़ादी है, काम करने वाले पाबंद रहें, जिसको चाहें जो करें , खाएं-पीएं आनंद रहें। साँपों को आज़ादी है, मौका है माहौल है ... Read more

भड़ास

हवा का रुख कैसा है, हम समझते हैं हम उसे पीठ क्यों दे देते हैं, हम समझते हैं हम समझते हैं खून का मतलब पैसे की कीमत हम समझते हैं क... Read more

ठगा सा....

वो अर्थ हीन है , ऐश्वर्य से परे सा । अर्थ हीन होकर भी , अर्थ से भरा सा । रुकता नही जो कभी, वो ज़ीवन से भरा सा । ओढ़ता अंबर वो , ... Read more

जिंदगी

जिन्दगी मेरी डरी हुई है सहमी हुई है एक डर है जो पल - पल मन को कंपा देता है ना जाने कहीं जो राख उड़ जाये चिंगारी भभक उठेगी स... Read more

हम ना मानेंगे!!

धूर्त और बेईमान सजे-धजे हैं तो क्या हम मान लें कि धूर्तता और बेईमानी भी एक सजावट है? अवसरवादी और चमचे मज़े में हैं तो क्या हम ... Read more

हाँ, मैं विद्रोही हूँ!!

हाँ,माना मेरी कुछ आदत ख़राब है!! कोई झूठ, मुझसे सही नहीं जाती मुँह देखे की मुझसे कही नहीं जाती । मैं उनसे कैसे मधुर संबंध रखू... Read more

परछाइयां

झूठी परछाइयाँ.... तुम देखते हो जो छोटा आदमी.... वो छोटा नहीं है.. तुम देखते हो जो, बड़ा आदमी... वो भी बड़ा नहीं है... ... Read more

जीना सीख लिया है।

बे-रंग नहीं रहेगी अब ज़िंदगी... मैंने रंग बदलना सीख लिया है कंटीले रास्तों पर चलते-चलते गिरकर संभलना सीख लिया है धूर्तो से भ... Read more

जीवन का सार है हिंदी....

जीवन का सार है हिंदी हिंदुस्तानियों का अभिमान है हिंदी... भारत भूमि देवी सामान तो देवी का श्रृंगार है हिंदी.. जय हिंद की भाषा है... Read more

चापलूसी...."एक कला"

चापलूसी ! माना एक बला है किन्तु गज़ब की कला है जो – हर किसी को आती नहीं और कइयों की जाती नहीं | ना योग्यता ना डिग्री ना पूंज... Read more

आखिर कौन हूँ मैं ???

आखिर कौन हूँ मैं ??? कितने नकाब ओढ़ रखे है मैंने हर पल बदलता रहता हूँ--- मै हर क्षण बदलने वाला व्यक्तित्व हूँ मेरा रूप हर क्षण ब... Read more

मैं जाऊं कहाँ.....

सोचता हूँ कभी कभी.... बचपन में...वो हमारा मोहल्ला था और वे थी हमारे मोहल्ले की सडकें सडकें भी कहाँ? पगडंडियाँ! टूटी फ़ूटी, उबर... Read more