व्यवस्थापक- अस्तित्व
जन्मतिथि- १-०८-१९७३
शिक्षा – एम ए – हिंदी
एम ए – राजनीति शास्त्र
बी एड – हिंदी , सामाजिक विज्ञान
एम फिल – हिंदी साहित्य
कार्य – शिक्षिका , लेखिका
friends you can read my all poems on my blog (साहित्य सिंधु -गद्य / पद्य संग्रह)
myneerumohan.blogspot.com
Mail Id- neerumohan6@gmail.com
mohanjitender22@gmail.com

Books:
* एकल संग्रह प्रकाशनाधीन
1. पद्मांजलि ( नारी के मनोभावों का सजीव चित्रण) काव्य संग्रह
2. बाल साहित्य
3. कुहास से किरण तक…(हाइकु संग्रह)

Awards:
सम्मान -साहित्य पीडिया मंच पर २८०० साहित्यकारों में शीर्ष तीस साहित्यकारों मे  स्थान, उदिप्त प्रकाशन और आगमन साहित्यिक एवं सांस्कृतिक मंच द्वारा रचनाकार सम्मान, साहित्य संगम संस्थान द्वारा दैनिक श्रेष्ठ रचनाकार सम्मान, साहित्य संगम नारी संस्थान द्वारा दैनिक श्रेष्ठ रचनाकार सम्मान, साहित्य संगम द्वारा दैनिक समीक्षा का अवसर, साहित्य संगम संस्थान द्वारा भाव भूषण सम्मान, आगमन साहित्यिक एवं सांस्कृतिक मंच द्वारा आगमन राष्ट्रीय कार्यकारिणी सदस्य के रूप में सम्मानित ।

Copy link to share

ममता भरे बीते लम्हें

माँ की याद में कुछ भाव उमड़ आए जिन्होंने बीते लम्हें कुछ इस कदर याद दिलाए || *माँ ! आज तुम्हारी बहुत याद आई इस तन्हाई ने यह कैस... Read more

अटल बिहारी वाजपेयी : व्यक्ति और अभिव्यक्ति

शोध आलेख :- अटल बिहारी वाजपेयी : व्यक्ति और अभिव्यक्ति एक ध्रुवतारा अमर… प्रकाश था अलौकिक, छिप गया है बदलों की ओट में । अट... Read more

अटल बिहारी वाजपेयी : व्यक्ति और अभिव्यक्ति

शोध आलेख :- अटल बिहारी वाजपेयी : व्यक्ति और अभिव्यक्ति एक ध्रुवतारा अमर… प्रकाश था अलौकिक, छिप गया है बदलों की ओट में । अट... Read more

चलो जलाएँ मन का रावण

जल जाएगा पत्र का रावण नहीं जलेगा मन का दानव फैलाए हुए है बाँहें इतनी आगोश में लेने को अब अपनी एक दिन का है शोर अब बाकी राम क... Read more

स्वच्छ भारत अभियान (कविता )

स्वच्छ भारत अभियान (कविता ) 15 सितंबर से 20 सितंबर तक स्वच्छता अभियान से संबंधित सोशल मीडिया के माध्यम से बहुत से छाया चित्र और च... Read more

मेरा भारत 2020

मेरा भारत 2020 (लेख) परतंत्र भारत में नहीं जन्मे न देखी है परतंत्रता भारतीय होकर भी दोस्तों पाश के बंधनों में जकड़ी है हमा... Read more

फिल्मी पर्दा करे बेपर्दा

लेख - फिल्मी पर्दा करे बेपर्दा सभ्यता और संस्कृति किसी भी देश की सर्वश्रेष्ठ शीर्ष की धरोहर मानी जाती है । भारतीय सभ्यता और संस्... Read more

*हिंदी भाषा…भावों का समंदर

*हिंदी भाषा…भावों का समंदर अपनी भाषा में एक एहसास है । हिंदी देश का स्वाभिमान है । हिंदी से भविष्य और वर्तमान है । हिंदी भाव... Read more

****बच्चों पर पढ़ाई और अंकों का दबाव न डालें । ******

कहानी के माध्यम से संदेशयुक्त लेख ****बच्चों पर पढ़ाई और अंकों का दबाव न डालें । ****** पिताजी की इच्छा है कि रोहन दसवीं में क... Read more

हिंदी भाषा का प्राथमिक स्तर

व्याकरण प्राथमिक स्तर पर ही विद्यार्थियों की भाषा को आधार प्रदान करता है किंतु इसके लिए यह अनिवार्य है कि उसका अभ्यास निरंतर बना रहे... Read more

पतंग

1. बंधी पतंग मांझा-डोरी के संग लिए उमंग 2. शून्य तल में नृतन है करती मेरी पतंग 3. कटी पतंग दूजे को मिल जाए जागे तरंग ... Read more

सूर्याय नम:

1. भौर की बेला जगदीश्वर वास करो प्रणाम 2. नवीन प्रात: नव रश्मियाँ आएँ सूर्याय नम: 3. धरा गगन है स्वर्णिम जगत योग मगन ... Read more

शीत लहर

विषय- शीत लहर विधा- हाइकु १.बर्फीली वात बारिश की फुहार प्यास बढ़ाए 🌹🌹🌹🌹 २.शीत पवन कोहरे की चादर करे दमन 🌹🌹🌹🌹 ३.सर्दी... Read more

नारी शक्ति की संवाहक

चुप रहती नारकीय जीवन नारी सहती        चिंगारी जैसे सुलगती औरत रहती शांत      सीमा से बंधी जैसे होती है नदी नारी की छवि ... Read more

नन्हा नव वर्ष

नन्हा नवीन वत्सर नन्हें कदम बढ़ाता आ गया समक्ष करो इसका स्वागत मनाओ खुशियाँ भरपूर दिन बीतेंगे बढ़ता यह जाएगा हज़ारों रंग और खु... Read more

रंग नहीं ये…नासूर का मर्म है

रंग नहीं ये…नासूर का मर्म है एक रंग चढ़ा है दिल पर एक तन पर चढ़ गया । मिटाना चाहा जितना उतना ही देह पर बढ़ गया । दिल पर च... Read more

आया नया साल

झूम उठा है अंबर आज नव प्रभात नव कोपल के साथ पुराने संजोकर नए सपनों में आज आगे बढ़े हम सभी साथ-साथ मिटाकर वैर-वैमस्य को जगाएँ... Read more

मनभावन १० हाइकु

मिट्टी का माधो मत बन इंसान जीवन साध क्रोध है आता भवंडर मचाता त्रासदी लाता प्रात: की बेला उदित प्रभाकर लगा है मेला तरु... Read more

शहीदों को नमन

आज मैं नमन करती हूँ उन वीरों को जिनके बलिदानों की खातिर आज हम सबको यह साल भी नसीब हुआ । सीमा के सभी रक्षकों को जिनकी खातिर हम सब अप... Read more

विदाई

साल के अंतिम विचार के साथ विदाई ले रहे हैं हम सब साथ-साथ खुशनुमा यादों को संजोकर हम सब करे नए साल का आगाज़ साथ-साथ देहरी पर दी... Read more

मैं हूँ प्रसून

मैं हूँ प्रसून गुलाब, गेंदा, सूरजमुखी, मोगरा कहो या कहो चमेली । फूल हूँ मैं... रंग रूप हजार नाम से ही मेरी पहचान । लाल गु... Read more

आरक्षण नहीं संरक्षण चाहिए

लेख आरक्षण सामाजिक विषमता को प्राप्त करने के लिए दिया गया है न कि उसे हथियार बनाकर सामाजिक भेदभाव खड़ा करने तथा राजनीतिक स्वार्थ पू... Read more

जंगल में पाठशाला

गीदड़ को पढ़ने जाना है पढ़ लिखकर बाबू बनना है जंगल का राजा बन करके शेर की तरह शासन करना है गधे को गीदड़ की भांति पढ़कर नाम... Read more

फोन हानिकारक

घर की घंटी बजती है । माँ दरवाजा खोलती है । राजू - माँ आज बहुत भूख लगी है मुझे खाना दे दो स्कूल से बहुत काम मिला है  मुझे पूरा करना ... Read more

महादेवी वर्मा---देश का गौरव

महादेवी वर्मा---देश का गौरव ************************ प्रतिभावान कवयित्री मीराबाई की उपाधि पाई है । स्वतंत्रता सेनानी भी महाद... Read more

ममता,प्यार,करुणा,त्याग की मूर्त ( पन्नाधाय )

ममता,प्यार,करुणा,त्याग की मूर्त                 पन्नाधाय *************************** राणा के पुत्र को जीवन देकर अपने पुत्र क... Read more

सुंदरता और त्याग का प्रमाण रानी पद्मावती

सुंदरता और त्याग का प्रमाण रानी पद्मावती ********************************** पद्मिनी पतिव्रता नारी थी वो जौहर के लिए तैयार हुई ।... Read more

वीरता की मिसाल --झाँसी की रानी

वीरता की मिसाल --झाँसी की रानी ******************************* *मोरोपंत ताम्बे की बेटी मणिकर्णिका ताम्बे थी । नाना की थी बहन... Read more

सौतेली मां

इंसानियत कहीं खो गई अरुण घर में प्रवेश करता है आज भी रोशनी बहुत गुस्से में दिखाई दे रही थी । बच्चे दूसरे कमरे में सहमे से बैठे थे ।... Read more

बम पटाखे प्रदूषण कारक

रानी देखो क्या है बाहर धुआं -धुआं ही है बस आज सांस नहीं ली जाती है आँखें भी जलन मचीती हैं दीदी सच में आज धुआं है पर्यावरण... Read more

कागज बचाओ पेड़ बचाओ

कागज का उचित प्रयोग करो दुरूपयोग न इसका आज करो कल को तुम्हें संवारना है पर्यावरण को भी संभालना है कागज को अगर बचाओगे पेड... Read more

फोन हानिकारक

घर की घंटी बजती है । माँ दरवाजा खोलती है । राजू - माँ आज बहुत भूख लगी है मुझे खाना दे दो स्कूल से बहुत काम मिला है  मुझे पूरा करना ... Read more

****सफेद जोड़ा****

आज मन क्यूं इतना घबराया है । ईश्वर की इस धरा पर यह कैसा मंज़र छाया है । सफेद जोड़े में सिमटी-सी बैठी हूँ । मन में रह-रहकर सिर्फ ... Read more

दिपावली ## खुशियों की क्यारी

दीपों का जगमग त्योहार दीपज्योत्स्ना करें प्रकाश मावस के तम को हर लेती दीप आवाली जब घड़ लेती उत्साह उमंग उल्लास है लाती हर ... Read more

***यह कैसी शिक्षा***

विषय - नई शिक्षा नीति नीति चाहे नई हो या पुरानी उसका उद्देश्य केवल विद्यार्थियों का सर्वाँगिण विकास होना चाहिए । क्योंकि आज जिनके... Read more

वर्तमान शिक्षा प्रणाली और बच्चे

* नैतिक मूल्य रह गए है कम शिक्षा का अंत * भावी पीढ़ी है अंधकार में लुप्त शिक्षा त्रुटिपूर्ण * छात्र हुए है अनुशासन हीन श... Read more

****मैं और मेरे पापा****

माँ का प्यार कैसा होता है । पापा के सीने से लगकर ही यह जाना है । माँ की सूरत तो नहीं देखी है । हर वक्त पापा को ही अपने करीब पाय... Read more

सरल सुगम हिंदी व्याकरण (जानने योग्य बातें - ई और यी, ए और ये ,एँ और यें)

करते है हिंदी लिखने में अकसर ये गलती क्योंकि नहीं है ज्ञान लगाएँ कहाँ ई और यी ए और ये एँ और यें हिंदी नहीं है आसान समझ लो ज़रा... Read more

***अनुभव***

* कहते हैं एक चिंगारी या तो आग लगाती है या प्रकाश फैलाती है । रोशनी देने वाली चिंगारी का इस्तेमाल अगर ध्यान से किया जाए तो वह जीवन म... Read more

**नवरात्रि शुभ फलदायी**

विषय- नवरात्रि /नौ देवियाँ रचनाकार -नीरू मोहन विद्या - तांका पूर्ण करती रेंगा काव्य शैली * माँ का वास हो संकटों का नाश हो स... Read more

**आज भी तुझको याद करता हूँ**

****गज़ल**** आज भी तुझको याद करता हूँ हर घड़ी इंतजार करता हूँ देखने को भी आज तुझको में हर घड़ी बेकरार रहता हूँ क्या बीती... Read more

***खोजता स्वअस्तित्व अपना***

विषय- खोज/तलाश रेंगा काव्य शैली 5+7+5+7+7+5+7+5+7+7----- * माँ दरबार मनोकामना पूर्ण तलाश मेरी संपूर्ण फलीभूत इच्छाएँ हैं ... Read more

* खोजता आज स्वअस्तित्व अपना *

विषय- खोज/तलाश रेंगा काव्य शैली 5+7+5+7+7+5+7+5+7+7----- * माँ दरबार मनोकामना पूर्ण तलाश मेरी संपूर्ण फलीभूत इच्छाएँ हैं ... Read more

**आज भी तुझको याद करता हूँ**

****गज़ल**** आज भी तुझको याद करता हूँ हर घड़ी इंतजार करता हूँ देखने को भी आज तुझको में हर घड़ी बेकरार रहता हूँ क्या बीती... Read more

हमने गुरबत में भी दम साँसो में छिपा रखा था ।

गज़ल हमने गुरबत में भी दम साँसो में छिपा रखा था । कतरे-कतरे पे स्याही का असर लगता था । यूँ तो देखी थी जमाने की रुसवाई हमने । ... Read more

यूँ तो जिंदगी से मुझे शिकवे भी शिकायत भी

यूँ तो जिंदगी से मुझे शिकवे भी शिकायत भी जाने किस मोड़ पे मिल जाए पुराना साथी । गम जो जिंदगी का नासूर मुझे लगता है सोचते ही उ... Read more

***** अनुभव *****

* कहते हैं एक चिंगारी या तो आग लगाती है या प्रकाश फैलाती है । रोशनी देने वाली चिंगारी का इस्तेमाल अगर ध्यान से किया जाए तो वह जीवन म... Read more

***मेरी आवाज़ सुनो***

जापानी काव्य शैली(तांका) 5+7+5+7+7+5+7+5+7+7---- ***मेरी आवाज़ सुनो*** वहशी जन करें कुकर्म सब ममता घुटे तिल-तिल मरे माँ... Read more

मुझे इंसाफ चाहिए (एक माँ की पुकार)

* लोरी सुनाकर सुलाया था जिसको, प्रभात के आते ही जगाया था जिसको, अपने हाथों से स्कूल के लिए संवारा था जिसको, स्नेह भरे सीने से लगा... Read more

***गुरु बिन ज्ञान नहीं***

**रोज की तरह अध्यापिका कक्षा में प्रवेश करती हैं सभी बच्चों को आई लव यू ऑल कहती हैं ।बच्चों को भी पता है कि अध्यापिका सभी से उतना प्... Read more