Dr. Sarla Singh

Joined January 2017

Copy link to share

सहारा

सहारा बनो तो सहारा तुम उनका बनो , जिनका कोई जहां में होता नहीं। मजारों पे चादर चढ़ते हर दिन , गरीबों को चादर ... Read more

चरित्रहीन

चरित्रहीन --------------- सफेदपोश चरित्रहीनो से , दुनिया पटी पड़ी है भाई। दौलत- चादर से ढककर, कहलाते... Read more

उलझन (कहानी )

"उलझन" .............. शाम का समय ,आकाश में बादल छाये हुए थे, हवा तेज चल रही थी और मौसम भी जाड़े का ।ल... Read more

बेटी

बेटी ...... बेटी माँ के कलेजे का टुकड़ा बार बार ये सुनती रहती हूँ मैं उसी कलेजे के टुकड़े को... Read more