जीवनदान चारण अबोध

पोकरण राजस्थान

Joined December 2018

कलम का धनी इत्मीहांन का कारण हूँ मैं, चारण हूँ में चारण हूँ

Copy link to share

रूहानी व्यथा कोरोना की

मानवता की महासदी में, काल बना है कोरोना! माँ भारती तेरे चरणों में, अब चीनी त्रासदी रोकोना!! वुहान शहर से निकला वायरस, संकट बना ... Read more

शीर्षक:- स्मरण शिखर के संघर्ष का

शीर्षक:- स्मरण शिखर के संघर्ष का छीनी है उसने हाथ से इस वास्ते क़लम...! वो जानता था दास्ताँ सच्ची लिखेगें हम.......!! '... Read more

सुलगते सवाल पुलवामा के

शीर्षक : सुलगते सवाल पुलवामा के खून से पाकिस्तान की सड़कें तर चाहियें मौलाना मसूद अजहर का सर चाहिये मोदी जी अब रहम नहीं रॉ... Read more

भानु चला उतरायण

विधा :-कविता शीर्षक :- भानु चला उतरायण रश्मियों के रथ पर हो के विराजित,भानु चला उत्तरायण ओर| कंचन से बच्चों के कर कांच के क... Read more

लहर लोकतंत्र की

शीर्षक :-लहर लोकतंत्र की विधा :- आलेख कवि :- जीवनदान चारण अबोध विश्व को विश्वास दिलवाने की ताकत केवल जनमत में ही है इसलिए मेर... Read more