कवितागज़ल/गीतिकामुक्तकगीतलेखदोहेलघु कथाकहानीकुण्डलियाहाइकुबाल कविताघनाक्षरीतेवरीकव्वाली

आओ मिलकर दीप जलायें

जग से सारा तिमिर मिटायें आओ मिलकर दीप जलायें दूर- दराज अकेले- वंचित आओ सबका साथ निभायें आओ मिलकर दीप जलायें कुछ भटके हु... Read more

मेरी प्रेम गाथा भाग 9

प्रेम कहानी भाग 9 नवोदय विद्यालय में ग्रीष्मकालीन अवकाश हो गए और विद्या के अन्य विद्यार्थियों की भांति मैं भी अपने घर माँकी मम... Read more

कोरोना यौद्धा सम्मान

***कोरोना योद्धा सम्मान*** *********************** कोरोना योद्धाओं सम्मान में दीपक जलाएं निज मकान में अन्धेरे में प्रकाश... Read more

सपनों का भारत बन जा

सुख समृद्धि के मेरे सपने, उन सपनों का भारत बन जा। तुझ पर न्यौछावर जो अपने, उन अपनों का भारत बन जा।। अति विशेष कुछ नियम बना दे पा... Read more

ईश्वर के आंसू (कथात्मक काव्य)

ईश्वर = हर बस्ती हर झुग्गी हर झौपड़ी में धुआं धुआं सा क्या है.. मनुष्य = आग लगी है आग लगी है - ईश्वर = ये कैसी आग है भाई ! ... Read more

Sls-ns लो दीपक जला जंग में

अपने मन में यह किया विश्वास जंग में होगा सब मगल होगा अब हर बुराई और पाप का अंत इस जग से लो दीपक जला जंग में किया अन्धकार को समाप्... Read more

5 अप्रैल नई उम्मीद का पर्व प्रकाश पर्व

कविता 5 अप्रैल नई उम्मीद का पर्व प्रकाश पर्व आओ उम्मीद का दीप जलाए विश्वास, परहित, हौसले, श्रद्धा सबको लेकर संकल्प उठाएं । क... Read more

मुक्तक

दिया जलाएं अंधेरा मिटाने के लिए सोई हुई एकता को जगाने के लिए ये एक ऐतिहासिक पल होगा कोरोनावायरस हटाने के लिए नूरफातिमा खात... Read more

दीया जलाओ

मैं भी जलाता हूँ तुम भी जलाओ कुछ दीया जलाओ, कुछ जले लोगो को जलाओ.. कोरोना भाग जाएगा ऐसा नहीं है एकता का पैगाम है इसे अपनाओ ध्रुत... Read more

ऐसे हार नहीं मानेंगे

हार जीत तो लगी रही है सदियों पहले से इस जग में फूलों के संग कांटे भी हैं जीवन पथ की हर एक डग में हंस कर आगे बढ़ जाएंगे ऐसे हार... Read more

नीम-हकीम खतरा-ए-जान

नीम-हकीम खतरा-ए-जान आए बिल्ली जब बंद कर लेते हैं आँखें सभी कबूतर ताकि टल जाए संकट आँखें बंद नहीं लाइट बंद करने के आदेश हैं... Read more

आदमी

आदमी खुद को ठीक से कहां जानता है ! लेकिन देखिए खुद से ज्यादा दूसरों को पहचानता है । सही जगह पर ग़लत आदमी बैठा है इसीलिए तो ... Read more

*"कविता'*

नमन मंच -🙏🚩जय माता दी *कविता* कोरे कागज पर मन की बातों को लिख कविता बन जाती है। अंतर्मन में उम्मीद जगाकर शब्दों की नई दिश... Read more

सज्जन का अपमान

दुष्टों का होता रहे,........जहाँ सदा सम्मान । लाजिम है होना वहाँ ,सज्जन का अपमान ।। सज्जनता का आजकल,यही एक आधार ! ताला रहे जुब... Read more

*"संभव"*

*संभव* प्रातःकाल, पसरा सन्नाटा, सूनी हैं सड़कें, सहमे लोग, असुरक्षित। ➿➿➿➿➿➿➿➿ विश्व , ... Read more

ग़ज़ल;- क्या अँधेरों में हमें ऐब छुपाने होंगे...

क्या अँधेरों में हमें ऐब छुपाने होंगे। घर की बिजली को बुझा दीप जलाने होंगे।। ताली थाली को बजा ध्यान जगत का भटके। अपनी नाकामी छु... Read more

आलोकित तन-मन कर लें

इक ऐसा दीप जलाएं घर से बाहर द्वार देहरी जगमग कर लें मन-भीतर का तमस मिटाएं सब भय हर लें इक ऐसा दीप जलाएं आलोकित तन-मन कर लें । Read more

सम्यक साहित्य रत्न प्राप्त लेखक श्री सज्जन क्रांति जी की पुस्तक "एक चोट लोहार की" (नाटक -भीमा कोरेगांव की शौर्यगाथा) के बारे में नितेश जावा के विचार.

पुस्तक समीक्षा..... पुस्तक - "एक चोट लोहार की" (नाटक - भीमा कोरेगांव की शौर्यगाथा) ■ लेखक - श्री सज्जन क्रांति. ■...दलित साहित्यक... Read more

वाल्मीकियों के अदम्य साहस की साक्षी पुस्तक – 1857 की क्रांति में वाल्मीकि समाज का योगदान

पुस्तक समीक्षा..... दीपक मेवाती 'वाल्मीकि' की कलम से. जो कुछ भी वर्तमान में घट रहा है, उसका एक इतिहास अवश्य है. इतिहास को वर्तमान... Read more

दीया एक जलाना है

घोर अंधकार मिटाना है तो दीया एक जलाना है। निराशा का तिमिर हटाना है, तो आशा का दीया जलाना है। एक-एक से अगणित होंगे जन-जन को यह... Read more

युग प्रवर्तक दीप जल

युग प्रवर्तक दीप जल प्रतिदिन प्रतिपल दिव्य ज्योति प्रकाशित कर जग में प्रतिक्षण अज्ञानता रूपी अन्धकार को चीरकर ज्ञान का सिन्ध... Read more

इश्क

_*जाने किस तरह से "छूते "हैं लोग*_ _*के बीमार हुए जाते हैं*_ _*हमें "छुआ" था किसी ने*_ _*तो इश्क हुआ था*_............💞💖😘 Read more

नो दीये है उनके नाम जो समर्पित है देश के काम --आर के रस्तोगी

आज नो बजे,नो दीये जलाऊंगा | कौन सा किसके नाम है दीया , यह सबको खुले आम बताऊंगा || पहला दीया उन सब डाक्टरों के नाम | जो करते ह... Read more

*"आओ हम सब मिलकर दीप जलाएं"*

*आओ मिलकर दीप जलाएं* आओ हम सब मिलकर उम्मीद का दीप जलाएं। सांझ ढले अंधियारा दूर कर ज्योति जला उजियाला फैलाएं। अंर्तमन के तम विकारो... Read more

एक दीया देश के नाम

💐एक दीया देश के नाम💐 ----------------------------------- दीप जलेगा हर घर में जब,ये दूर तिमिर हो जाएगा। हम एक हुए संकल्प यही,उत्सा... Read more

अर्थांगनी

सप्तपदी के फेरे लेते वक्त जिसके साथ जीने मरने कि कसम खाती है, वह पत्नी अपना पूरा जीवन अपने पति की खुशीयो के लिए समर्पित कर देती है। ... Read more

Friendship Twist.... By - Nitin Dhama

ये Love Story नहीं है l ये दो दोस्तों के बीच में Friendship Twist है और वे दो दोस्त हैं - दिशा और दक्ष एक बार दक्ष अकेला ए... Read more

Sls-ns शायरी 1

पत्थर पर जो तेरा नाम हम लिखने गय तेरी मुरत बना बैठे हम सोचा तेरी मुरत को सज़ा दें हम वह हमें पहचानने से इंकार कर बैठे ।। हम क्... Read more

तुम्हारा यू हर बार चले जाना

तुम्हरा बिना बोले चले जाना । ना कोई खबर ,ना कोई चिट्ठी , ओर बरसो बाद तुम्हरा इस तरह मेरे घर की दहलीज पर इस तरह आना ये कोई इत्तेफाक ... Read more

खुद से ज्यादा

@@@@@@@@(खुद से ज्यादा)@@@@@@@@ ++++++++++++++++++++++++++++++++++ @@@@@@@@@@@@@@@@@@@@@@ चाहा है खुद से ज्यादा तुमको ही चुना ह... Read more

प्रेम गीत

*********प्रेम गीत********** ************************* हम तेरे बिन कहीं रह नहीं सकते तुम बिन अब हम जी नहीं सकते जब से मिले ह... Read more

चलो जलाएँ दीप

रखें फासला बीच का,.जाएँ नही समीप । तमस दिलों का दूर हो,चलों जलाएँ दीप ।। अँधियारा भागे सदा , घटता दिखे विकार ! तब जा कर होगा क... Read more

(सोचिए .. समझिए....और अपना निर्णय खुद लीजिए)

(सोचिए .. समझिए....और अपना निर्णय खुद लीजिए) ******************************************** दोस्तों एक गुजारिश है आप ... Read more

आओ मिलकर दीप जलायें

आओ मिलकर दीप जलायें _____________________ जब तिमिर संसृति में अमा सा विस्तीर्ण क्रन्दन निरुपाय सा जल रहा विश्व अनल सा , संसृत... Read more

कोरोना वाली दिवाली

आज घर के चौखट ,छत पर । ये कैसी फैली किरण है । दीप, मोमबत्ती का कैसा ये प्रकाश प्रखर है । कोई टार्च जलाए &,फ्लैश लाइट जलाए मो... Read more

न्यायालय और व्यवस्था

एक *महिला मित्र ने पूछा है की :- क्या *न्यायालय में *न्याय मिलता है ? . अब ये भला कोई *पीडित थोड़े पूछेगा ! एक *अहंकार से ग्रस्त ... Read more

संसार राम तुम बिन अब तो न चल सकेगा

संसार राम तुम बिन अब तो न चल सकेगा अवतार फिर धरा पर लेना तुम्हें पड़ेगा अब स्वार्थ की दिलों में बहने लगी नदी है अच्छाई खो गई ... Read more

चलो,जंलाएं दिए!

राह में चलते हुए, मिल जाते हैं कितने ही राही-राहगीर! और बिछुड जाते हैं, दो राहों पर! जो चले थे साथ हम सबके । पर ,यह देखना हमारा... Read more

आओ एक दीप जलाएं हम

देश ये पूरा साथ खड़ा है, ये दिखलाने की बारी आओ एक दीप जलाएं हम, है दीप जलाने की बारी अपने मन से, जीवन से , तम दूर भगाने की बारी आ... Read more

ग़लती

*जीवन की सबसे बड़ी ग़लती वही होती है* *.....जिस ग़लती से* *हम कुछ सीख नहीं पाते है..!* 🌹🌹 Read more

तुम

*💞आँखों के सामने तुम नही हो तो क्या हुआ......!* *पलकों को मिलाते ही तुम ही तुम हो.*.💞💞💞💞💞💞💞💞 Read more

दिल के अल्फाज

तेरी #वेवफाई का #शिला कुछ इस #तरह_से अब देंगे हम । तुझे #पता भी नहीं #चलेगा इस कदर #नफरत करेंगे हम ।। जिस #दिल में तुम्हे रखा ... Read more

आओ दीप जलाएं

‘आओ हम सब मिल एक दीप जलाएं’ आलोकित हो घर-आंगन झूम उठे सबका पुलकित हो मन ऊपर नभ मुस्काए आओ हम सब मिल एक दीप जलाएं. मधुर स... Read more

आ जाओ तुम पास हमारे, उड़कर मेरे ख्वाबों से

करते हो परेशान क्यूँ मुझको, आज फिर अपनें यादों से आ जाओ तुम पास हमारे, उड़कर मेरे ख्वाबों से बहते से जज्बात है अपनें, सपनो मे ... Read more

दीपक नही जलाये जी

जिनके दिमाग मे भूसा हो ,वो दीपक नहीं जलाये जी। क्या मालूम वो आग पकड़ले ,सारा भेजा जल जाये जी। यह बात बहुत ही गहरी है ,सबको मत समझाओ... Read more

तेरी हर मासूमियत पर मेरा गजल निकला है

ये चाँद जो मेरी गलियों में आजकल निकला है मानों मेरी राहतों का सफर चल निकला है देखकर तुझे, कही होश न गवा बैठूं तो ये दिल तेरी ओर... Read more

बस तेरी याद

जब महफिल थी वीरानी सी हर ओर उदासी थी छाई तब प्यार की चिट्ठी साथ लिए बस तेरी याद चली आई जब आंसू बहते आंखों से और चले सर्द स... Read more

तुझसे दूरियाँ सोचकर डर जाता हूँ मैं

तुझसे दूरियाँ, सोचकर डर जाता हूँ मैं तुझे दर्द, तो सिहर जाता हूँ मैं काश तुझे खुद में छुपा लेता तेरी मुस्कुराहटों से निखर जात... Read more

सबने एक दीप जलना है घर में --आर के रस्तोगी

सबने एक दीप जलाना है घर मे | सब जगह प्रकाश हो जाएगा || सारे संसार से यह कातिल कोरोना | स्वत: ही सम्पात हो जाएगा || बड़े दौर गु... Read more

कोरोना संकट पर दोहे

कोरोना संकट पर दोहे ■■■■■■■■■■■■■■ ऐसी विपदा आ गयी, हुये सभी मजबूर। लम्बी दूरी नापते, पैदल ही मजदूर।। आया रोग जहाज से, सहम गए ... Read more