कवितागज़ल/गीतिकामुक्तकगीतलेखदोहेलघु कथाकहानीकुण्डलियाहाइकुबाल कविताघनाक्षरीतेवरीकव्वाली

कुंडलियाँ

कुंडलियाँ ~~~~~~~~~~~~ साधक थे विज्ञान के, गढ़कर ज्ञान कलाम। दिया मिसाइल देश को, तब है ... Read more

चंद्रयान 2

चंद्रयान 2 (1) चंद्रमा में हम जा चुके, भारत का ये गौरवशाली। दूसरा था ये अभियान। चंद्रयान 2 अंतरिक्ष यान। ... Read more

मेरे देश के वैज्ञानिक

मेरे देश के वैज्ञानिक (१) चाहे ज्ञान हो या विज्ञान हो, या इसरो का गुणगान हो। देश के उन वैज्ञानिकों का, बारंबार उ... Read more

हाइकु

हाइकु ***** 1 चंद्रयान टू-- भेजा अंतरिक्ष में श्रीहरिकोटा। 2 देश की चाह-- मिशन सफल हो चंद्रयान टू। 3 मिशन ... Read more

मुक्तक

१. मैं कुछ रोज उस से जाके उलझ जाती हूँ सुलझाने की ज़िद में और उलझ जाती हूँ। ...सिद्धार्थ २. बहस में जाओगे तो हार ही जाओगे इश्... Read more

मुक्तक

१. कुछ और नही बस इतनी खराबी है खुद को मिटा कर भी हसीन दुनियां बनानी है तुम्हे गर प्यार से हो प्यार तो तुम्हें भी साथ लाने की मे... Read more

मुक्तक

१. हम भारत के नीच लोग नीचे गिरते ही जाएंगे किसान न रहे तो क्या हम एक दूजे को ही खाएंगे ??? ... सिद्धार्थ २. चल सखी हम घास काट... Read more

मुक्तक

१. आईने ने हंस कर कहा उम्र ने तो बस अपना काम किया देह के कोरे किताब पर कुछ लकीरों को तेरे नाम किया ! ...सिद्धार्थ २. मेरा चाक-ए... Read more

ना बात करो तलवारो की

ना बात करो तलवारो की, न ढालो की कृपाणों की, ना बात करो दीवानो की, दिलवालो की मस्ताँनो की, ना बात करो राजा रानी के, किस्से वेद ... Read more

जीवनयापन

उगता सूरज बहता पानी उड़ता पक्षी चलती पवन बढ़ता राही खिले सुमन टिमटिमाते तारे लहराती फसलें जल लाते मेघ जलता दीपक सभी कहते है... Read more

माई

जिंदगी की सिलेट पर कुछ सफ़हे मिटने को है कहां जाके रोऊँ मेरा पहला प्यार बिछड़ने को है। सबसे हसीन सबसे जहीन है वो, नौ महीने बड़ा ह... Read more

करवाचौथ की कहानी

बहुत समय पहले की बात है कि एक साहूकार बनिये के सात बेटे तथा एक बेटी थी जिसको सभी भाई व भाभी उसे "करवा" नाम से पुकारते थे | सभी सात... Read more

प्रहरी किसान

खेत में किसान , सीमा पर जवान, देते देशभक्ति का पैगाम । पसी बहा फसल पकाता, खून बहा कर, रक्षा करता। रात अंधेरे सीमा की रक्षा ... Read more

परिचय कलम का

कविता नही लिखता मे हँसने हँसाने की, न दुश्मन की न दुश्मन को उकसाने की l कविता लिखता हूँ मे सब को राह दिखाने की, क्योकि जरूर है... Read more

पत्नी की कल्पना

प्त्नी प्रकृति की श्रेष्ठ सुंदर रचना क्या मैं ही हूँ पत्नी की कल्पना जिसको सोचा उसने ख्वाबों में सजाया होगा अपने अरमानों मे... Read more

मुझमें भी इक जंगल है

मुझमें भी इक जंगल है, लहलहा रहे, अनगिनत पेड़, कुछ छोटे,कुछ बड़े, कुछ जंगली जो स्वछंद उगे और बड़े, कुछ आशाओं के फल लिए ताके आसमान... Read more

1070 रहते हो दिल के पास

दूर हो तुम, फिर भी दूर नहीं। रहते हो सदा दिल के पास कहीं। जब चाहूँ मैं तुमसे बातें होती हैं। होता दूरी का एहसास नहीं। आँख बंद ... Read more

करवा चौथ पर विशेष

व्रत ये करवा चौथ का,पत्नी का पति प्रेम। लम्बी वय पति की रहे,निर्जल करती नेम।। सुख किरणों-सा भेंट कर,जीवन कर आबाद। चाँद तुझे है ... Read more

दोहे- जनता मालिक है मगर...

दोहे- जनता मालिक है मगर... ■■□■■□■■□■■□■■ नेताओं की बात पर, मत करना मतभेद। लोकतंत्र की नाव में, ये करते हैं छेद।। कुछ नेता गूं... Read more

करवांचौथ पर बीबी की फरमाईशे ---आर के रस्तोगी

रखती हूँ व्रत बस तुम्हारी ही ज्यादा उम्र के लिये | बस करवांचौथ पर इतनी फरमाईश पूरी कर दीजिये || हो गई साड़िया बहुत पुरानी फैशन भी... Read more

गुनहगार कौन?

सबूती आधार पर बेशक संज्ञान ले। हर चीज़ का सबूत होता है जान ले। बेगुनाही का सबूत नही पर पास में। तो क्या किसी को गुनहगार मान ले। ... Read more

#भक्त_हूँ_गुलाम_नही!

मेरे जी हुजरी का, लेते तुम सलाम नही। अजी मै भक्त हूँ, तेरा नही गुलाम कोई।। तूने कभी गौर से, न देखा है पयाम कोई। अजी मै भक्त हूँ, ... Read more

करवाचौथ

मैं तुम्हारी चाँदनी हूँ तुम हो मेरे चंद्रमा मैं तुम्हारी हूँ सजनिया तुम हो मेरे बालमा चाँद से हम मांग लेंगे प्यार की लंबी उमर... Read more

झांक कर देख लो

झांक कर देख लो हो सकता है बाहर कोई जरूरतमंद ,या भूखा व्यक्ति या कोई अनाथ बालक भी हो सकता है हो सकता है उम्मीद का जंगल ही खड़ा... Read more

मोबाइल दैत्य

मोबाइल खा गया है जीवन प्यार रिश्तों का टूट गया है पूर्ण आधार मोबाइल दैत्य जब से है आया रिश्तों का निगल गया प्रेमप्यार जो थे ... Read more

सती प्रथा

भारतीयता की है पहचान भारतीय संस्कृति संस्कार होता परस्पर आदान प्रदान पीढी को पीढी से संस्कार भारतीय संस्कृति है समृद्ध विभ... Read more

उड़ चल पंछी अकेले

यह निशा घटेगी, भोर आयेगी कोयल जीवन राग सुनाएगी, जब वासंती मधुमासी छायेगी और खिलेंगे पुष्प नये नवेले। उड़ चल पंछी अक... Read more

करवा चौथ

करवा चौथ पर्व उड़ाता हैं नोट पति बेचारे के उड़ाता यह होश साल में आए यदि यह बार बार पति की नही ना बच पाए पगार भरतार दीर्घायु का... Read more

खूब कमाते मगर भिखारी

तन मेरा था मन मेरा था , लेकिन मिलन नही होया। बचपन में डरता पापा से, छुप छुप कर तन्हा रोया। थोड़ा बड़ा हुआ तो कांधे, बांध दिया म... Read more

सच के तो कभी पास बहाना नहीं होता

सच के तो कभी पास बहाना नहीं होता जो छीन के मिलता है वो पाना नहीं होता रहने लगी है ज़िन्दगी कमरों में यहाँ बन्द मिल जुल के अब ... Read more

जीवन यात्रा

जिसका न हो कोई अंत वही होता है अनंत ब्रह्मांड अनंत सृष्टि अनंत देव अनंत ईश पक्षिय है अनंत मन की चंचलता अनंत इच्छ... Read more

आज दीवाना हुआ हूँ

आज दीवाना हुआ हूँ देखिए क्या इश्क़ है। चाँद-सा देखूँ तुझे तो दिल बनाता अक्स है।। रूप की किरणें मिली हैं रूह तब से ही खिली। नूर-स... Read more

एहसास

क्यूँ कोई इतना खास हुआ जाता है क्यूँ किसी से इतना लगाव हो जाता है किसी के रोने से रोना, हँसने से हंसना आता है क्यूँ कोई इतना खास ... Read more

आओ बनायें एक और कलाम

मैं कलाम का आशिक हूँ।दिवाना हूँ और अपनी प्रेरणा का मुख्य किरदार इस महान शख्स के भीतर ही पाता हूँ।मेरे शब्द असक्षम हैं पर भावना अत्यं... Read more

*बेसुध सियासत*

सोफा गद्दीदार गद्दारों को नींद बहुत आती है, घर में बिलख रही माँ, सियासत खिलखिलाती है। उजड़ रही है मांग किसी की गोद उजड़ रही, उ... Read more

जी आप पहले.जैसे नहीं रहे

पत्नी ने पति से कहा जी जरा सुनिए पति सहमा हुआ बोला हाँजी!फरमाइए जी !आप पहले जैसे नहीं रहे पति ने प्रतिउत्तर में कहा जी बदला भ... Read more

मधुमास

ये रात दुल्हन-सी सजी आया सुखद मधुमास रे। मनमोहना पूरे करेंगे आज सबकी आस रे। वसुधा सजी है सौम्य अनुपम सब सुखद अहसास रे। सोलह कल... Read more

चलो चलें कश्मीर घूमने

-लावणी छंद सृजन चलो चलें कश्मीर घूमने, शिमला नैनीताल नहीं। इस धरती का स्वर्गं यहीँ है, इसकी कहीं मिसाल नहीं। शांत सुखद बर... Read more

मर्यादा

-लावणी छंद सृजन मर्यादा में जीवन जीना,जीवन शोभायमान है। बिम्बित हो मानस अंबर में,नव किरण स्वर्ण समान है। संयम,नित्य-नियम अ... Read more

देवीमां को समर्पित गीत

110 देवी गीत हो मइया--4 कर दो कृपा तोरे पैंया परूँ चरणों में सेवा दिन रैना करूँ तोरे छैंया रहूँ। हो मईया ----2 कर दो कृपा त... Read more

मीठी कविता

◆◆◆◆ 112 मीठी कविता है बात जलेबी डूबी जो चाशनी, नर्म दिल तो देखो जैसे हो रसमलाई----2 लाते जो पेड़ा बर्फी या कि गुलाब जामुन क... Read more

नीतिपरक दोहे

117 /नीतिपरक दोहे/ अकिंचन को मिलता कोई, जब अनमोल रतन। रखता उसे सम्भालकर, करके लाख जतन।। कामी को काया मिले, उसका... Read more

रंगरेज कन्हैया लाल

115 / रंगरेज कन्हैया/ रज रज रमे रमेश हैं, रंगे राधिका रंग। श्याम वर्ण के श्यामजी, राधा गोरे अंग। होली के बहुरंग में, खिल... Read more

दोहे

/ दोहे/ जीवन के दिन चार हैं, लगा दियो उपकार। सबसे बढ़ कर धर्म है, परमारथ लो जान।। सुख की घड़ियाँ हैं अभी, काहे होत अधीर। चक्र समय ... Read more

ग़ज़ल

ग़ज़ल- चाहे जैसी मुश्किल हो पर,मत मन में लाचारी रख। आगे बढ़ना चाह रहा तो ,हिम्मत से भी यारी रख।।1 बचपन को तालीम दिलाना ,माना... Read more

ग़ज़ल

ग़ज़ल- चाहे जैसी मुश्किल हो पर,मत मन में लाचारी रख। आगे बढ़ना चाह रहा तो ,हिम्मत से भी यारी रख।।1 बचपन को तालीम दिलाना ,माना... Read more

मुक्तक

तेरी आरजू मरने नहीं देती मेरा गम जीने नहीं देता Read more

रहो निर्भय (सायली लेखन)

1 सन्नाटा निर्भय सैनिक चल उठी गोलियों शत्रु हाहाकार विजय 2 लड़की निर्भय अकेली चली घर से मिले मनचले कराटे स्... Read more

मानवता

ताटंक छंद आधारित गीत मानव जन्म मिला है हमको, मानवता अपनाना है। देवों को दुर्लभ काया से, कुछ तो लाभ उठाना है। जो है जग में द... Read more

श्रम

ताटंक छंद आधारित मुक्तक गीत ख्वाब उसी के पूरे होते, जो श्रम को अपनाता है। गगन नापने की खातिर निज, पंखों को फैलाता है। बहुत की... Read more