कवितागज़ल/गीतिकामुक्तकगीतलेखदोहेलघु कथाशेरकहानीकुण्डलियाहाइकुबाल कविताघनाक्षरीतेवरीकव्वाली

दोहा ग़ज़ल (बात करो दो टूक)

जैसा खुद को चाहिए, करिए वही सलूक बात घुमाने से भला, बात करो दो टूक होगा ये सबसे बड़ा, जीवन में अपराध सहकर अत्याचार भी, अगर रह... Read more

हस्ताक्षेपी पति शिक्षक

**** हस्ताक्षेपी पति शिक्षक ******** ******************************* आओ तुम्हें सुनाते हैं एक अजब कहानी मियाँ बीबी नौकरी में ... Read more

'परिंदों की दुनियाँ'

उषा चढ़ी रात ढली मन बाग - बाग हुआ। बागों को देख चिड़ियों को देख घोसलों में परिदों को निरेख। नीड़ से झाँक रहे हैं वे करते इंतज़ार ... Read more

तारीकियों में गिरफ्तार हुए

तारीकियों में गिरफ्तार हुए ********************* फ़िक्र ज़िंदगी में लाचार हुए चारों तरफ हैं बन्द द्वार हुए उजालों से बहुत दूर... Read more

क्या बात कहूँ , क्या जाने दूँ ..

है बात बहुत इस दिल में दबी , क्या बात कहूँ , क्या जाने दूँ .. आँखों से समझलो, तो अच्छा है, या बोलो तो, जुबाँ पर आने दूँ | शायद... Read more

गुनाह हो गया है, इज़हार करना..

गुनाह हो गया है, इज़हार करना हुई है मोहब्बत , मुझे माफ करना समझा है सब ने, सच को भी झूठा क्योंकी सच ही जता कर, है लोगों ने लूटा ... Read more

सच और झूठ

सच और झूठ दो-दो अक्षर के पर मतलब अम्बर धरती का कभी दुखों के बहते आंसू कभी ख़ुशी के आंसू सा सच बोलो तो रूठे दुनिया झूठ से सबन... Read more

~ अधूरा रिस्ता ~

तुमसे जुदाई का हर मंज़र आँखों से मेरे क्यों जाता नही कोई भी लम्हा क्यों न हो दिल पल भर को चैन पाता नही माना थोड़ा सा बेपरवाह ... Read more

बीमारी का यही मर्ज हैं...

हर चेहरे पर मास्क हो, थोड़ी थोड़ी दूरी हो, पास न आएगी बीमारी, निभा लो यह जिम्मेदारी, आप सब हो समझदार , है आपके उच्च विचार,... Read more

कीमत चुकानी पड़ेगी

कीमत चुकानी पड़ेगी बोलोगे तो कीमत चुकानी पड़ेगी चुप रहोगे तो कीमत आने वाली पीढ़ियों को भी चुकानी पड़ेगी बोलिए आवाज बुलंद क... Read more

बगिया

कितने मौसम गुजर गये थे अब आयी है बारी उसकी । सपनो के मिल जाने से बदल गयी हैं राहें उसकी । सुखद हवाओं के झोकों से ... Read more

अभी से चेत जाओ तुम

नदी के गर्भ से इतना, न लेकर रेत जाओ तुम। खजाना लूटकर ऐसे, न अपने केत जाओ तुम। पड़ेगी मार जब उसकी, मिले जीवन नहीं फिर से- ... Read more

उसका मैं दीवाना हूं

जिसके पीछे पड़ा हूं, उसका मैं दीवाना हूं। वह मुझे तिरछी नजर से तो देखती है, पर कभी भी हां में जवाब नहीं देती है।। भगवान से मां... Read more

आप की हर बात का, इंतजार रहता है मुझे..

आप की हर बात का, इंतजार रहता है मुझे.. आप की हर बात का, एहसास रहता है मुझे | क्या करूँ तन्हाई में, अब दिल नहीं लगता.. हरपल तुम्हे... Read more

मोहब्बत की कुछ बूंदें..

मोहब्बत की कुछ बूंदें, यूँ ही लुटा देता हूँ मैं। उसके हर सितम को, हस के भुला देता हू... Read more

भारत माता की माटी

दुर्लभ है भारत की माटी, जन्म यहीं फिर पांऊं नहीं किसी पर बोझ बनूं, मैं काम किसी के आऊं दुर्लभ है भारत की माटी, जन्म यहीं फिर पाऊ... Read more

बंदे सोच जरा जीवन में

बंदे सोच जरा इस दिल में, जीवन पाया है किस तन में कितनों को खुशियां बांटी, किस किसको दुख पहुंचाया कितना धरती को महकाया, कितना कि... Read more

ज़िंदगी अभी बाकी है।

नयी उम्मीद के रूप में, नयी सुबह फिर जागी है , आखों का खुलना इशारा है, कि ज़िंदगी अभी बाकी है, पूरे करने हैं जो , कई अरमान अ... Read more

इंसानियत,

सब कुछ मुझे मिला पर औकात में रहा, ये जिंदगी तुझे समझा तेरी बात में रहा, कितने को मिल जाती है फ़न की दौलत, फ़न भूला जो इंसान तो किस ... Read more

मेरी कविता,

लिख न सका जो कह न सका, कविता जिसका मैं हो न सका, शब्दों अर्थों तक पहुंच कठिन, और भाव भी अंतिम हो न सका, दुख दर्द की क्या परिभाषा... Read more

ऑनलाइन कोरोनाकाल में प्रेम विवाह

**ऑनलाइन कोरोनाकाल प्रेम विवाह** ******************************* फेसबुक पर लड़के ने लड़की को देखा देखते ही मन मचला कहे तुमसा न ... Read more

दीप

दीप अकेला विश्वास और गर्व से भरा अन्धकार में विजय पाने को हर्ष से भरा जलती हुई लौ से सन्देश दे रहा निज जलकर जग को प्रकाशित कर रहा... Read more

कहां कहां बता तेरा साया नही जायेगा.

कहां कहां बता तेरा साया नही जायेगा. हमसे तो तेरा प्यार भुलाया नही जायेगा. साथ जिऊंगा साथ मरूंगा बताया था तुमको. इससे ज्यादा तेर... Read more

छोड़ दिया..

छोड़ दिया मैंने इकरार करना, छोड़ दिया मैंने इजहार करना, जब किसी को मेरी मोहब्बत का एहसास ही नहीं, फिर क्या इस ज़माने में प्यार कर... Read more

खुश है वो देखो कितना..

खुश है वो देखो कितना, मेरे टूटने के बाद। देखा भी न मुड के पीछे, मेरे रूठने के बाद। Read more

रो पड़ता हूं ये सोच-सोच..

रो पड़ता हूं ये सोच-सोच, किस हाल में जीती होगी तुम होकर तन्हा, हो होकर हताश, मेरी याद में होती होगी गुम सुनो जान न रुठो ऐसे ... Read more

यादें तेरी..

कितना सताती हैं यादें तेरी, जब-जब अकेला होता हूं मैं। कैसे दिखाऊं मैं हाल-ए-जिगर, छुप - छुप कर तन्हा रोता हूं मैं।। Read more

दिल धक् से धड़क ही जाता है..

ये दिल का भी दीवानापन, कुछ समझ नहीं मैं पाता हूं। कहने को बहुत है बात मगर, क्या बात कहूं, शर्माता हूं। न देखूं तुझे तो चैन नही... Read more

मैं ग़लत हूं, कुछ की नज़रों में..

मैं ग़लत हूं, कुछ की नज़रों में, क्यूं बयां करूं, मैं कैसा हूं मैं जानता हूं, मैं जैसा हूं। मुझे नहीं सफाई देनी है, मुझे नहीं ... Read more

यह संसार, मायामयी मस्ती l

गुरू कबीरा को प्रणाम ( शृंखला ) ----------- मायामयी मस्ती की पाठशाला l सहज ज्ञान ले लो निराला निराला ll प्यास पनपे परम परम हो, प... Read more

कविता के मयख़ाने

मेरी जवानी तेरी जवानी की मोहताज़ नहीं, शोर तो बहुत है पर तूँ कोई आफताब नहीं, फट चुके हों सारे पन्ने,कवर का क्या करें, जो मयख़ाने मे... Read more

दिल को भा जाए कोई

बातों बातों में यूँ दिल को भा जाए कोई। आँख मीचूँ भी तो ख्वाब में आ जाए कोई। जो मैं सो जाऊँ तो आहिस्ता जगाए कोई। साथ जागे भी सपन... Read more

क्या करूँ

दिल गा रहा है गीत सुनाकर मैं क्या करूँ? धुन कोई प्यार वाली बजाकर मैं क्या करूँ? जिसने सजायी जिंदगी वह खुद ही साथ है फिर मंदिरों क... Read more

चोर ये चार चल दिए

छम छम पायल, खनखन कंगन, चम चम झुमके -हार चल दिए। अरमानों की डोली लेकर जाने किधर कहार चल दिए । ओंठ रसीले , नयन नशीले, प्यार तुम्हारा... Read more

शायरी

अजब एहसास बनाया तुमने हम पर, सामने कोई और भी आ जाए याद तुम ही आते हो,। Jayvind Singh Ngariya Ji Read more

उसे गुलाब पसंद है मुझे गुलाबी सी वो

उसे सर्दियाँ बहुत पसंद है और मुझे सर्दियों मे वो उसे चाय बहुत पसंद है और मुझे चाय पे वो उसके साथ बैठूँ तो हर चीज बहकी सी लगती है ... Read more

जरा छू के गुजरना

तेरी चाहत की खुशबू से महकती है शाम मेरी गर तू आये हवा बनकर तो जरा छू के गुजरना ©अrun Read more

क्या करते ?

शिकायत हाकिमे शहर से किसकी करते, मुनासिब धर्म यही अब हिजरत करते । धूप-छांव तो चलता रहता है अक्सर, फिलहाल हम भूख का चिंतन करते। ... Read more

मां का प्यार

शब्द ब्रह्म नहीं लिख सके महिमा मातु अपार मां के आंचल में भरा प्रेम है अपरंपार भूल नहीं सकता जीवन भर मां के आंचल का प्यार Read more

दिल ये भटकता है जनाब अच्छा नही लगता.

दिल ये भटकता है जनाब अच्छा नही लगता. मत डालो चेहरे पर नकाब अच्छा नही लगता. यूं तो कितने सितारें हैं आसमां की महफ़िल में. पर कही... Read more

समझने को बेचैन हो रहा है कोई

खुद को मुझमें खो रहा है कोई, उसके ख्याल में सो रहा है कोई, वो इमोजी भेजता है हर बात पर, समझने को बेचैन हो रहा है कोई। ©अनुरा... Read more

लॉक डाउन से अन-लॉक 1.0

अभी मत सोचो कोई बात नहीं, अन-लॉक 1.0 में भयभीत होने वाली कोई बात नहीं। यह तो आपदा काल है, इतनी आसानी से होते सामान्य हालात न... Read more

रिश्ते

होते हैं बड़े नाजुक रिश्ते समेटो उन्हें दामन में सरक गयी अगर झोली बिखर जाते रेत से देता मौला मोहब्बत बेपनह समेट सको... Read more

माँ ! हम यह कहाँ आ गए ? ( हथिनी के शिशु का अपनी माँ से प्रश्न )

माँ ! हम यह कहाँ आ गए ? यहाँ तो बादल ही बादल छाए । माँ ! तू तो भोजन की तलाश में निकली थी , फिर हम इधर कैसे आ गए ? हम दोनों भूखे... Read more

ख़ुदग़र्ज़ हूं मैं

मुझे मालूम है कि मैं बहुत ख़ुदग़र्ज़ हूं। किसी का बोझ हूं किसी का कर्ज हूं। इश्क में जलता चिराग़ मत समझो मोहब्बत ना भले मगर तेरा ... Read more

आइए मिलकर वृक्ष लगाए हजार

आइए मिलकर वृक्ष लगाए हजार नेकी कमाये और शुद्ध मिले बयार पेड़ की सुरक्षा हो अपने पुत्र जैसा पेड़ बचाओ न करो अत्याचार ... Read more

*"गर्मी का मौसम "*

"गर्मी का मौसम" गर्मी का ये मौसम आया ,धरती अंबर तपती झुलस रही ये काया। सुबह सबेरे दिन चढ़ जाता ,भोर भई सूरज ने फैलाई अपनी माया। तप... Read more

किसान की जीवटता

किसान की जीवटता अवशान वर्षा रित बढ़ता तुषार ठिठुरती सांझ ओझल उदित सांध्य गीत की मधुर ध्वनि सिमटती स्वर्णिम यामिनी की ओर। ... Read more

तू ईश्क है

तू ईश्क है हमराह भी तू चैन दिलका चाह भी कैसे कहूं तुम कौन हो क्या पता क्यों मौन हो। अरमान तुम अभिमान तुम बख्शीस-ओ- वरदान तुम ... Read more

मारेगी जालिम तन्हाई

*मारेगी जालिम तन्हाई* ******************* दिल रोये आँख भर आई दुखी मन से मैं दूँ दुहाई प्रीत में सजा यही पाई मारेगी जालि... Read more