23.7k Members 50k Posts

ll मां ll

डांटती है कभी मनाती है l
तल्ख बातों में प्यार शामिल हैll

“आज सबकुछ मेरा दिया तुझको l
कौन कहता करार शामिल है ll”

मां ने तुमको बड़ा किया फिर भी l
छोटे रहने में प्यार शामिल है ll

कर्ज तू कैसे चुकाएगा उसका l
अपनेपन का उधार शामिल है ll

घर की चीजें अभी सभी की हों l
उनमें आज तेरा प्यार शामिल है ll

संजय सिंह “सलिल”
प्रतापगढ़ ,उत्तर प्रदेश l

This is a competition entry.
Votes received: 21
Voting for this competition is over.
2 Likes · 25 Comments · 95 Views
संजय सिंह
संजय सिंह
131 Posts · 6.2k Views
सिविल इंजीनियर हूं, लिखना मेरा शौक है l गजल,दोहा,सोरठा, कुंडलिया, कविता, मुक्तक इत्यादि विधा मे...
You may also like: