.
Skip to content

II सबसे बड़ा है पैसा..II(कुंडलिया)

संजय सिंह

संजय सिंह "सलिल"

कुण्डलिया

March 4, 2017

कुण्डलिया छंद —–

सबसे बड़ा है पैसा ,संबंधों को त्याग l
हम समझे मित्र हमारे ,चोर रहे दुरभाग ll

चोर रहे दुरभाग ,भाग तब कैसे जागे l
कष्टों का ही साथ ,खुशियां दूर ही भागे ll

अपने को भी बेच, दुनिया बाजार ऐसा l
आने दो आने भाव, इतना बड़ा ही पैसा ll

संजय सिंह “सलिल”
प्रतापगढ़, उत्तर प्रदेश l

Author
संजय सिंह
मैं ,स्थान प्रतापगढ़ उत्तर प्रदेश मे, सिविल इंजीनियर हूं, लिखना मेरा शौक है l गजल,दोहा,सोरठा, कुंडलिया, कविता, मुक्तक इत्यादि विधा मे रचनाएं लिख रहा हूं l सितंबर 2016 से सोशल मीडिया पर हूं I मंच पर काव्य पाठ तथा मंच... Read more
Recommended Posts
II जमाने का मेला II
एक मेला लगा लोग आने लगे l माल जो बिक गया लोग जाने लगे ll एक बहाना बनाना बड़ा काम था l हाल अपना बताने... Read more
II रहो मौन चुप साधि अब II(कुण्डलिया)
रहो मौन चुप साधि अब ,समय बड़ा बलवान l बोले बात खराब हो, छोड़ो तीर कमान ll छोड़ो तीर कमान, धीर भी बनकर देखो l... Read more
II  मां  II
मां को समर्पित---- डांटती है कभी मनाती है l तल्ख बातों में प्यार शामिल हैll आज सबकुछ मेरा दिया तुझको l कौन कहता करार शामिल... Read more
II शायरी II
भेद दिल के सब बताती शायरी l दो दिलों को पास लाती शायरी ll बात जो बनती नहीं तकरीर से l चंद लफ़्ज़ों में सुनाती... Read more