.
Skip to content

II सजा दिल लगाने की II

संजय सिंह

संजय सिंह "सलिल"

शेर

February 22, 2017

साथ मेरे मिली उसको, सजा दिल लगाने की
l
मुझको पता उसने मुझसे, यह छुपाया होगा ll

बात कर लेता हूं अपनी, मैं मेरी ग़ज़ल से l
हाल क्या उसका ना जिसे, यह शरमाया होगा ll

शमशीर से नहीं मिलता ,दुनिया का तख्तो ताज l
झुक जाओ तो, कदमों में सब आया होगा ll

कुछ मजबूरियां तो होगी, उसकी भी “सलिल” l
ऐसे ही तो नहीं जख्म ,अपना छुपाया होगा ll

संजय सिंह “सलील”
प्रतापगढ़ उत्तर प्रदेश
पोस्ट

Author
संजय सिंह
मैं ,स्थान प्रतापगढ़ उत्तर प्रदेश मे, सिविल इंजीनियर हूं, लिखना मेरा शौक है l गजल,दोहा,सोरठा, कुंडलिया, कविता, मुक्तक इत्यादि विधा मे रचनाएं लिख रहा हूं l सितंबर 2016 से सोशल मीडिया पर हूं I मंच पर काव्य पाठ तथा मंच... Read more
Recommended Posts
II पेड़ों का साया II
कुछ तो कदर करो ,दुनिया में लाने वालों की l बहुत पछताएगा जब ,सिर पर ना साया होगा ll आसान नहीं होता ,दुनिया का सफर... Read more
II दिल के काबिल II
दिल के काबिल नहीं पर बिठाया उसे l बुलंदियों से भी ऊपर उठाया उसे ll मुझसे ही पूछता है वो पहचान अब l नींव का... Read more
II  प्यार की भाषा... II
प्यार की भाषा पढ़ो फिर देखना l नाम मेरा भी जरा लिख देखना ll रोते बच्चों को हंसा दो है बहुत l काबा काशी भी... Read more
II  ए रातें सुला दूं....II
ए रातें सुला दूं सितारे बुझा दूं l मैं धीरे से उल्फत कि शम्मा जला दूंll बनाएंगे मिलकर नया ही जहां हम l जो है... Read more