.
Skip to content

II रहो मौन चुप साधि अब II(कुण्डलिया)

संजय सिंह

संजय सिंह "सलिल"

कुण्डलिया

March 3, 2017

रहो मौन चुप साधि अब ,समय बड़ा बलवान l
बोले बात खराब हो, छोड़ो तीर कमान ll

छोड़ो तीर कमान, धीर भी बनकर देखो l
झुकने में भी शान ,बचे पेड़ों से सीखो ll

पानी बहता ढाल, नदी से भी कुछ सीखो l
ढलता सूरज शाम, रहा चुप साधे देखो ll

संजय सिंह ‘सलिल’
प्रतापगढ़ उत्तर प्रदेश l

Author
संजय सिंह
मैं ,स्थान प्रतापगढ़ उत्तर प्रदेश मे, सिविल इंजीनियर हूं, लिखना मेरा शौक है l गजल,दोहा,सोरठा, कुंडलिया, कविता, मुक्तक इत्यादि विधा मे रचनाएं लिख रहा हूं l सितंबर 2016 से सोशल मीडिया पर हूं I मंच पर काव्य पाठ तथा मंच... Read more
Recommended Posts
II.....मैं तेरा फिर भी.....II
कैसे कह दूं कि चाहता है मुझे l एक मुद्दत से जानता है मुझे ll बात बन जाएगी मनाने से l आदमी ठीक मानता है... Read more
II क्या अब चाहिए II
मुझसे उसने हि पूछा क्या कुछ चाहिए l छूटे साथ तेरा ऐसा---नहीं अब चाहिएll छोटी मोटी मेरी -----कोई ख्वाहिश नहीं l अब मुझे अपने में... Read more
II  नसीबा हि दुश्मन.....II
नसीबा हि दुश्मन हमारा हुआ है l जहां डूबी कश्ती किनारा हुआ है ll मेरी मुफलिसी छोड़ जाती नहीं हैl मेरा घर हि उसका ठिकाना... Read more
II दिल के काबिल II
दिल के काबिल नहीं पर बिठाया उसे l बुलंदियों से भी ऊपर उठाया उसे ll मुझसे ही पूछता है वो पहचान अब l नींव का... Read more