II मोहब्बत का दिया.....I

मोहब्बत का दिया, यार अब तो जलाओ l
अब मेरे होसले को, मत और आजमाओll
********************************
बहुत कुछ है यहां खोया ,नफरतों में हमनेl
हम वतन और हमसे वतन ,उनको बताओll
*********************************
आज परेशान हम, ज्यादा पाने की धुन में l
जिसको जितना मिला ,उसमें ही मुस्कुराओll
*********************************
जिंदगी जो है यारों, एक मुश्किल डगर है l
रूठ कर और इसको, न मुश्किल बनाओ ll
*******************************
मैं समुंदर में भी, पार लग जाऊंगा l
बन पतवार बस ,तुम मेरे साथ आओ ll
*****************************
दीप भी जलेंगे ,होगी रोशनी यहां l
हो सके तो वहां ,तुम भी जगमगावो ll
*****************************
संजय सिंह “सलिल”
प्रतापगढ़, उत्तर प्रदेशl

Like Comment 0
Views 57

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share