.
Skip to content

II मोहब्बत का दिया…..I

संजय सिंह

संजय सिंह "सलिल"

कविता

February 17, 2017

मोहब्बत का दिया, यार अब तो जलाओ l
अब मेरे होसले को, मत और आजमाओll
********************************
बहुत कुछ है यहां खोया ,नफरतों में हमनेl
हम वतन और हमसे वतन ,उनको बताओll
*********************************
आज परेशान हम, ज्यादा पाने की धुन में l
जिसको जितना मिला ,उसमें ही मुस्कुराओll
*********************************
जिंदगी जो है यारों, एक मुश्किल डगर है l
रूठ कर और इसको, न मुश्किल बनाओ ll
*******************************
मैं समुंदर में भी, पार लग जाऊंगा l
बन पतवार बस ,तुम मेरे साथ आओ ll
*****************************
दीप भी जलेंगे ,होगी रोशनी यहां l
हो सके तो वहां ,तुम भी जगमगावो ll
*****************************
संजय सिंह “सलिल”
प्रतापगढ़, उत्तर प्रदेशl

Author
संजय सिंह
मैं ,स्थान प्रतापगढ़ उत्तर प्रदेश मे, सिविल इंजीनियर हूं, लिखना मेरा शौक है l गजल,दोहा,सोरठा, कुंडलिया, कविता, मुक्तक इत्यादि विधा मे रचनाएं लिख रहा हूं l सितंबर 2016 से सोशल मीडिया पर हूं I मंच पर काव्य पाठ तथा मंच... Read more
Recommended Posts
II शायरी II
भेद दिल के सब बताती शायरी l दो दिलों को पास लाती शायरी ll बात जो बनती नहीं तकरीर से l चंद लफ़्ज़ों में सुनाती... Read more
II...मिट्टी की खुशबू...II
किताबें धर्मों की जो भी वो नफरत दे नहीं सकती l वतन की मिट्टी की खुशबू खिलाफत दे नहीं सकती ll कभी हंसना कभी रोना... Read more
तेरा जादू मोदी
तेरा जादू मोदी बड़ा हो गया l यहां पर बखेड़ा खड़ा हो गया ll भरे नोट बोरी में सड़ते यहां l तिजोरी का ताला खुला... Read more
सारे फरेब
बिसात है बिछी ,वह खेल रहा है l सारे फरेब दिल , झेल रहा है ll हम प्यादे वह ,बजीर बादशाह l जीत किसकी ,कोई... Read more