.
Skip to content

II मुख खोलें तो बोलिए II

संजय सिंह

संजय सिंह "सलिल"

कुण्डलिया

February 16, 2017

मुख खोलें तो बोलिए , कुछ तो मीठे बोल l
अपने ही सब हो गए ,कौन पराया बोल lI

कौन पराया बोल ,शब्द की महिमा ऐसी l
ज्यों भटके को राह, पथिक को मंजिल जैसी lI

यही गीता कुरान ,और रामायण बोले l
सोचे शत शत बार ,तभी अपना मुख खोलें ll

संजय सिंह “सलिल”
प्रतापगढ़, उत्तर प्रदेश l

Author
संजय सिंह
मैं ,स्थान प्रतापगढ़ उत्तर प्रदेश मे, सिविल इंजीनियर हूं, लिखना मेरा शौक है l गजल,दोहा,सोरठा, कुंडलिया, कविता, मुक्तक इत्यादि विधा मे रचनाएं लिख रहा हूं l सितंबर 2016 से सोशल मीडिया पर हूं I मंच पर काव्य पाठ तथा मंच... Read more
Recommended Posts
II ख्वाब कि दौलत II
अगर साथ होते न,तब रात होती l अलग से हमारी, यहां बात होती ll न कोई परखता, कि कितनी कमाई l वफाओं कि दौलत,अगर साथ... Read more
II  एक चितवन से.....II
एक चितवन से ए मन चपल हो गया l बात कुछ तो रही जो विकल हो गया l जाने क्या कह गई अधखुली सी पलक... Read more
II ठहर गया हूं मैं  II
हर कोई गुजर जाता है, हवा के झोंके की तरह l दुनिया की दौड़ में शायद ,ठहर गया हूं मैं lI आज मुझसे भी किसी... Read more
II जमाने का मेला II
एक मेला लगा लोग आने लगे l माल जो बिक गया लोग जाने लगे ll एक बहाना बनाना बड़ा काम था l हाल अपना बताने... Read more