.
Skip to content

II मां II

संजय सिंह

संजय सिंह "सलिल"

गज़ल/गीतिका

February 19, 2017

मां को समर्पित—-

डांटती है कभी मनाती है l
तल्ख बातों में प्यार शामिल हैll

आज सबकुछ मेरा दिया तुझको l
कौन कहता करार शामिल है ll

मां ने तुमको बड़ा किया फिर भी l
छोटे रहने में प्यार शामिल है ll

कर्ज तू कैसे चुकाएगा उसका l
अपनेपन का उधार शामिल है ll

घर की चीजे अभी सभी की हो l
उनमें आज तेरा प्यार शामिल है ll

संजय सिंह “सलिल”
प्रतापगढ़ ,उत्तर प्रदेश l

Author
संजय सिंह
मैं ,स्थान प्रतापगढ़ उत्तर प्रदेश मे, सिविल इंजीनियर हूं, लिखना मेरा शौक है l गजल,दोहा,सोरठा, कुंडलिया, कविता, मुक्तक इत्यादि विधा मे रचनाएं लिख रहा हूं l सितंबर 2016 से सोशल मीडिया पर हूं I मंच पर काव्य पाठ तथा मंच... Read more
Recommended Posts
II शायरी II
भेद दिल के सब बताती शायरी l दो दिलों को पास लाती शायरी ll बात जो बनती नहीं तकरीर से l चंद लफ़्ज़ों में सुनाती... Read more
II  प्यार की भाषा... II
प्यार की भाषा पढ़ो फिर देखना l नाम मेरा भी जरा लिख देखना ll रोते बच्चों को हंसा दो है बहुत l काबा काशी भी... Read more
II  ए रातें सुला दूं....II
ए रातें सुला दूं सितारे बुझा दूं l मैं धीरे से उल्फत कि शम्मा जला दूंll बनाएंगे मिलकर नया ही जहां हम l जो है... Read more
II  रास्ते में हूं...II
रास्ते में हूं, पर उसे ढूंढता l नासमझ हूं यह, क्या ढूंढता ll ईंट बालू के जंगल, वही देवता l फरियादों का क्यों, असर ढूंढ़ता... Read more