.
Skip to content

II बिना बहर के कुछ शेर II

संजय सिंह

संजय सिंह "सलिल"

शेर

February 15, 2017

पलकें झुकाकर हम पर ना अहसान कीजिए l
ये अजनबी मुसाफिर पहचान कीजिए ll

दो लम्हा जिंदगी यह हंस कर गुजर जाए l
हो ऐसा फन कोई तो शुरुआत कीजिए ll

वक्त की है बंदिशे पाबंद आदमी है l
इन बंदिशों की कम कोई दीवार कीजिए ll

ऐसा भी क्या यहां जो मिल ही ना सके l
खुशबू है गवाह फूल का एहसास कीजिए ll

यह दर्द ए जिंदगी दो पल से अधिक क्या l
खुशी से अगर इसको गुजार दीजिए ll

चांद पर जाने को बेताब आदमी है l
धरती पे क्या नहीं उससे बात कीजिए ll

यह दूर के रिश्ते बस दूर से ही अच्छे l
पास आकर इनको न बर्बाद कीजिए ll

सारी दुनिया है मुसाफिर दो पल के वास्ते l
पहचान ठीक है दिल की न बात कीजिए ll

याद आएंगे बहुत ए मरने के बाद भी l
हो दिल से दुश्मनी तो इन्हें प्यार कीजिए ll

संजय सिंह “सलिल”
प्रतापगढ़, उत्तर प्रदेश l

Author
संजय सिंह
मैं ,स्थान प्रतापगढ़ उत्तर प्रदेश मे, सिविल इंजीनियर हूं, लिखना मेरा शौक है l गजल,दोहा,सोरठा, कुंडलिया, कविता, मुक्तक इत्यादि विधा मे रचनाएं लिख रहा हूं l सितंबर 2016 से सोशल मीडिया पर हूं I मंच पर काव्य पाठ तथा मंच... Read more
Recommended Posts
II..पाठ पढ़ ले प्रेम का...II
बात चलती जब कभी भी बंदगी की l घेरने लगती है यादें फिर किसी की ll मेरा रब वो मेरा ईश्वर है वही सब l... Read more
II  हक.. हमारा....II
हक लुटते हमारा, क्या मालूम नहीं हमें l कुछ बोलते नहीं, मगर बेबसी से हम II वह ढूंढते थे दौलत, जग के बाजार मे l... Read more
II शायरी II
भेद दिल के सब बताती शायरी l दो दिलों को पास लाती शायरी ll बात जो बनती नहीं तकरीर से l चंद लफ़्ज़ों में सुनाती... Read more
II क्या अब चाहिए II
मुझसे उसने हि पूछा क्या कुछ चाहिए l छूटे साथ तेरा ऐसा---नहीं अब चाहिएll छोटी मोटी मेरी -----कोई ख्वाहिश नहीं l अब मुझे अपने में... Read more