II नसीबा हि दुश्मन.....II

नसीबा हि दुश्मन हमारा हुआ है l
जहां डूबी कश्ती किनारा हुआ है ll

मेरी मुफलिसी छोड़ जाती नहीं हैl
मेरा घर हि उसका ठिकाना हुआ है ll

दिया उसने जबसे पता अपना लिखकर l
मुसीबत क ही आना-जाना हुआ हैll

थि साजिश रकीबों कि पहचान अपनी l
मुलाकात बस एक बहाना हुआ हैll

जो रिश्ते थे पहले ही टूटे सभी हैं l
रहा फर्ज अब तो निभाना हुआ हैll

चलाए थे हमने सभी तीर अपने l
छुपे पीठ पीछे यह धोखा हुआ हैll

बचाया नहीं हमने गिरके भि खुद को l
कई दाग जो रंग चोखा हुआ है ll

‘सलिल’ भूल सब कुछ सिला क्या मिलेगा l
लगाया गले जो भि मेरा हुआ हैll

संजय सिंह ‘सलिल’
प्रतापगढ़, उत्तर प्रदेश l

Like Comment 0
Views 63

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share