.
Skip to content

II तेरी याद भी…..II

संजय सिंह

संजय सिंह "सलिल"

गज़ल/गीतिका

March 2, 2017

तेरी याद भी न बहलाए मुझे अब l
तेरे बिन दुनिया न भाए मुझे अब ll

रुलाने को दुनिया ही जब मुकम्मलl
तेरी याद फिर क्यों सताए मुझे अबll

जमाने से कह दो के कांटे बहुत हैंl
खुद ना चला वो बताए मुझे अब ll

कहां से मैं लाऊं अपनी हंसी फिर l
खुशी कोई ऐसी लुभाए मुझे अब ll

“सलिल” उम्र सारी ही जीना पड़ेगा l
जिंदगी जरा भी न भाए मझे अब ll

संजय सिंह “सलिल”
प्रतापगढ़ ,उत्तर प्रदेश l

Author
संजय सिंह
मैं ,स्थान प्रतापगढ़ उत्तर प्रदेश मे, सिविल इंजीनियर हूं, लिखना मेरा शौक है l गजल,दोहा,सोरठा, कुंडलिया, कविता, मुक्तक इत्यादि विधा मे रचनाएं लिख रहा हूं l सितंबर 2016 से सोशल मीडिया पर हूं I मंच पर काव्य पाठ तथा मंच... Read more
Recommended Posts
II तेरे बिन दुनिया ......II
तेरी याद भी न बहलाए मुझे अब l तेरे बिन दुनिया न भाए मुझे अब ll रुलाने को दुनिया ही जब मुकम्मलl तेरी याद फिर... Read more
II क्या अब चाहिए II
मुझसे उसने हि पूछा क्या कुछ चाहिए l छूटे साथ तेरा ऐसा---नहीं अब चाहिएll छोटी मोटी मेरी -----कोई ख्वाहिश नहीं l अब मुझे अपने में... Read more
II.....मैं तेरा फिर भी.....II
कैसे कह दूं कि चाहता है मुझे l एक मुद्दत से जानता है मुझे ll बात बन जाएगी मनाने से l आदमी ठीक मानता है... Read more
II  हक.. हमारा....II
हक लुटते हमारा, क्या मालूम नहीं हमें l कुछ बोलते नहीं, मगर बेबसी से हम II वह ढूंढते थे दौलत, जग के बाजार मे l... Read more