.
Skip to content

II….जो गाते रहे हैं….II

संजय सिंह

संजय सिंह "सलिल"

गज़ल/गीतिका

February 26, 2017

गमों को छुपा के जो गाते रहे हैंl
अकेले में आंसू बहाते रहे हैं ll

ए लैला ए मजनू किताबी जो बातें l
अनाडी जगत में निभाते रहे हैं ll

कहीं फूल जिद में खिलाने की धुन हीl
वो कांटों पे बिस्तर लगाते रहे हैं ll

ए जीवन भि अपना बे मतलब गवाया l
लिखा रेत का खुद मिटाते रहे हैं ll

मेरी मान लो तो मोहब्बत न करना l
कई मर मिटे कितने जाते रहे हैं ll

‘सलिल’ बात पूरी ना होगी कभी भी l
बहाने वो कितने बनाते रहे हैं ll

संजय सिंह ‘सलिल’
प्रतापगढ़ ,उत्तर प्रदेश ll

Author
संजय सिंह
मैं ,स्थान प्रतापगढ़ उत्तर प्रदेश मे, सिविल इंजीनियर हूं, लिखना मेरा शौक है l गजल,दोहा,सोरठा, कुंडलिया, कविता, मुक्तक इत्यादि विधा मे रचनाएं लिख रहा हूं l सितंबर 2016 से सोशल मीडिया पर हूं I मंच पर काव्य पाठ तथा मंच... Read more
Recommended Posts
II जिंदगी आंसुओं का ए सैलाब भी II
हर घड़ी वो जगाता जागो तो कभी l राह तुम को दिखाता देखो तो कभी ll बात कितनी हुई आसमां की मगर l एक गजल... Read more
II..पाठ पढ़ ले प्रेम का...II
बात चलती जब कभी भी बंदगी की l घेरने लगती है यादें फिर किसी की ll मेरा रब वो मेरा ईश्वर है वही सब l... Read more
II दिल के काबिल II
दिल के काबिल नहीं पर बिठाया उसे l बुलंदियों से भी ऊपर उठाया उसे ll मुझसे ही पूछता है वो पहचान अब l नींव का... Read more
II  ए रातें सुला दूं....II
ए रातें सुला दूं सितारे बुझा दूं l मैं धीरे से उल्फत कि शम्मा जला दूंll बनाएंगे मिलकर नया ही जहां हम l जो है... Read more