.
Skip to content

II जीवन की आपाधापी में…..II

संजय सिंह

संजय सिंह "सलिल"

गीत

February 12, 2017

जीवन की आपाधापी में ,
ज्ञान दबा सब कापी मे l
किसे चाहिए ज्ञान यहां पर,
सब पैसो की मापी मे ll

जीवन की आपाधापी में ….

आज के बच्चे होनहार हैं,
हमसे पिज्जा बर्गर मांगे l
अपना बचपन बीता था ,
दस पैसे की टॉफी में ll

जीवन की आपाधापी में ….

एसी में रहकर क्या जानो,
मजा पूस की सर्दी का l
कंबल ओढ़ अलाव तापना,
रातें ठिठुरन भरी रजाई मे ll

जीवन की आपाधापी में ….

बीता समय बताए हमको,
अक्सर ही समझाए हमको l
अब तो जीवन बिक जाता है,
खाली यहां पढ़ाई में ll

जीवन की आपाधापी में ….

भाग-दौड़ का आया जमाना,
हाय हलो मोबाइल पर l
क्या पता रात भर जागे कैसे,
भरें प्रेमरस पाती में ll

जीवन की आपाधापी में ….

संजय सिंह “सलिल”
प्रतापगढ़, उत्तर प्रदेश l

Author
संजय सिंह
मैं ,स्थान प्रतापगढ़ उत्तर प्रदेश मे, सिविल इंजीनियर हूं, लिखना मेरा शौक है l गजल,दोहा,सोरठा, कुंडलिया, कविता, मुक्तक इत्यादि विधा मे रचनाएं लिख रहा हूं l सितंबर 2016 से सोशल मीडिया पर हूं I मंच पर काव्य पाठ तथा मंच... Read more
Recommended Posts
II.....मुश्किल है पर अच्छा है  II
टूटा दिल और टूटे सपने ,पहले ही सब दफन किएl कफन ओढ़ कर जिंदा रहना ,मुश्किल है पर अच्छा हैll आऊंगा कह कर जाना ,लिपट... Read more
II जहां मांग खत्म हो जाती है...II
जहां मांग खत्म हो जाती है l जहां स्वाद खत्म हो जाता है ll ना कुछ अपना रह जाता है l सब कुछ अपना हो... Read more
II टूट गया कुनबा  ...II
टूट गया कुनबा, सब कुर्सी के दीवाने हैंl सत्ता का नशा इतना, अपने भी बेगाने हैं ll ना लाज शर्म कोई , बेशर्म कहे फिर... Read more
II  यादें सता रही है  II
यादें सता रही है गुजरे हुए दिनों की l जो साथ में गुजारे उन कीमती पलों की ll क्या बात मैं बताऊं कहती जो ए... Read more