.
Skip to content

II जहां मांग खत्म हो जाती है…II

संजय सिंह

संजय सिंह "सलिल"

मुक्तक

July 8, 2017

जहां मांग खत्म हो जाती है l
जहां स्वाद खत्म हो जाता है ll

ना कुछ अपना रह जाता है l
सब कुछ अपना हो जाता है ll

वह तुमको वही पर मिलता है l
और भीतर ही बस जाता है ll

संजय सिंह ‘सलिल’
प्रतापगढ़, उत्तर प्रदेश l

Author
संजय सिंह
मैं ,स्थान प्रतापगढ़ उत्तर प्रदेश मे, सिविल इंजीनियर हूं, लिखना मेरा शौक है l गजल,दोहा,सोरठा, कुंडलिया, कविता, मुक्तक इत्यादि विधा मे रचनाएं लिख रहा हूं l सितंबर 2016 से सोशल मीडिया पर हूं I मंच पर काव्य पाठ तथा मंच... Read more
Recommended Posts
II  राह में था काफिला....II
राह में था काफिला भी खो गया l मंजिलों का आसरा भी खो गया ll वह न आए याद क्यों जाती नहीं l अक्स खोया... Read more
II दीप उम्मीद का II
मुश्किलें भी मिली चैन जाता रहा l ठोकरों से सदा जख्म पाता रहा ll चांद आता रहा और जाता रहा l दीप उम्मीद का जगमगाता... Read more
II  नसीबा हि दुश्मन.....II
नसीबा हि दुश्मन हमारा हुआ है l जहां डूबी कश्ती किनारा हुआ है ll मेरी मुफलिसी छोड़ जाती नहीं हैl मेरा घर हि उसका ठिकाना... Read more
II...इलेक्शन सिर पर है....II
इलेक्शन सिर पर है, और नोट सारे हो गए कूड़ा l कहां से वोट अब लोगे ,ख़तम है खेल नोटों का ll छोड़ काली कमाई... Read more