.
Skip to content

II क्या करूं II

संजय सिंह

संजय सिंह "सलिल"

गज़ल/गीतिका

February 10, 2017

मैं रहा सुर ताल में ,थी भीड़ ज्यादा क्या करूं l
बे सुरों से सुर मिलाना, ही न आया क्या करूं ll

आ गया था मैं भी तेरे, दर पे मजमा देख कर l
सिर झुकाना ही न आया, पढ़ के कलमा क्या करूं ll

हो सके तो माफ कर दे, जिंदगी मेरी मुझे l
मैं निकल मजबूरियों से, चल न पाया क्या करूं ll

गैर से शिकवा न कोई, मेरे अपने भी कभी l
राह मेरी चल न पाए, आज दुनिया क्या करूं ll

दौलतों की थी कमी, जो गर्दिशों का साथ था l
प्यार से की परवरिश, जीवन लुटाया क्या करूं ll

अब “सलिल” मुमकिन नहीं, यह सफर आगे बढ़े l
भोर की पहली किरण, सपना बिखरता क्या करूं ll

संजय सिंह “सलिल”
प्रतापगढ़, उत्तर प्रदेश l

Author
संजय सिंह
मैं ,स्थान प्रतापगढ़ उत्तर प्रदेश मे, सिविल इंजीनियर हूं, लिखना मेरा शौक है l गजल,दोहा,सोरठा, कुंडलिया, कविता, मुक्तक इत्यादि विधा मे रचनाएं लिख रहा हूं l सितंबर 2016 से सोशल मीडिया पर हूं I मंच पर काव्य पाठ तथा मंच... Read more
Recommended Posts
II....तुम्हारे बाद ये मौसम...II
न जाने दूंगा अभी तुमको बारिशो में मैं l तुम्हारे बाद ये मौसम बहुत सताएगा ll नहीं उसे कभी होता गुमान अपने पर l उठा... Read more
II सजा दिल लगाने की II
साथ मेरे मिली उसको, सजा दिल लगाने की l मुझको पता उसने मुझसे, यह छुपाया होगा ll बात कर लेता हूं अपनी, मैं मेरी ग़ज़ल... Read more
II  यादें सता रही है  II
यादें सता रही है गुजरे हुए दिनों की l जो साथ में गुजारे उन कीमती पलों की ll क्या बात मैं बताऊं कहती जो ए... Read more
II  बिन कहे सब कहा......II
बिन कहे सब कहा, फिर क्या रह गया l आते आते मेरा नाम, सा रह गया ll रुक गए थे कदम ,और लव भी हिले... Read more