Skip to content

II…इलेक्शन सिर पर है….II

संजय सिंह

संजय सिंह "सलिल"

गीत

February 17, 2017

इलेक्शन सिर पर है, और नोट सारे हो गए कूड़ा l
कहां से वोट अब लोगे ,ख़तम है खेल नोटों का ll

छोड़ काली कमाई आप भी, बन जाओ अब गोरेl
नहीं तो है खड़ी जनता, लिए अब हार जूतों का ll

अभी तो नोट जाते हैं ,कल वह जेल भी देगा l
शत बार नमन उसको ,देश के सच्चे सपूतों का ll

संजय सिंह” सलिल”
प्रतापगढ़ ,उत्तर प्रदेश l

Author
संजय सिंह
मैं ,स्थान प्रतापगढ़ उत्तर प्रदेश मे, सिविल इंजीनियर हूं, लिखना मेरा शौक है l गजल,दोहा,सोरठा, कुंडलिया, कविता, मुक्तक इत्यादि विधा मे रचनाएं लिख रहा हूं l सितंबर 2016 से सोशल मीडिया पर हूं I मंच पर काव्य पाठ तथा मंच... Read more
Recommended Posts
II.....मैं तेरा फिर भी.....II
कैसे कह दूं कि चाहता है मुझे l एक मुद्दत से जानता है मुझे ll बात बन जाएगी मनाने से l आदमी ठीक मानता है... Read more
II दिल के काबिल II
दिल के काबिल नहीं पर बिठाया उसे l बुलंदियों से भी ऊपर उठाया उसे ll मुझसे ही पूछता है वो पहचान अब l नींव का... Read more
तेरा जादू मोदी
तेरा जादू मोदी बड़ा हो गया l यहां पर बखेड़ा खड़ा हो गया ll भरे नोट बोरी में सड़ते यहां l तिजोरी का ताला खुला... Read more
II...हदों को पार करना भी....II
जरुरी है मोहब्बत में हदों को पार करना भीl अकीदत में झुका हो सिर जरूरत वार करना भी ll कई टूटे कई बिखरे कई आबाद... Read more