.
Skip to content

II..आशिकी के सामने…II

संजय सिंह

संजय सिंह "सलिल"

गज़ल/गीतिका

February 25, 2017

कब चला है बस किसी का आशिकी के सामने l
दो जहां की क्या खुशी तेरी हंसी के सामने ll

आजकल मदहोश है हम बे सबब ही रात भरl
नींद भी आती कहां अब तो खुशी के सामने ll

रूप ऐसे के खिला जैसे कमल हो झील मेंl
सादगी भी सीखती कुछ सादगी के सामने ll

क्या हुआ कैसे हुआ बिन कुछ कहे ही सब हुआ l
रेत के टीले के जैसा मैं नदी के सामने ll

बिन तेरे अब जिंदगी यह कल्पना से भी परे l
ए जुबा खामोश उसकी एक अदा के सामने ll

हो ‘सलिल ‘जब पार पाना बाढ़ से मुश्किल बहुत l
छोड़ दो सब कर भरोसा अब किसी के सामनेll

संजय सिंह’सलिल’
प्रतापगढ़,उत्तर प्रदेश l

Author
संजय सिंह
मैं ,स्थान प्रतापगढ़ उत्तर प्रदेश मे, सिविल इंजीनियर हूं, लिखना मेरा शौक है l गजल,दोहा,सोरठा, कुंडलिया, कविता, मुक्तक इत्यादि विधा मे रचनाएं लिख रहा हूं l सितंबर 2016 से सोशल मीडिया पर हूं I मंच पर काव्य पाठ तथा मंच... Read more
Recommended Posts
II...मैं आईने के सामने....II
पहले मैं था,जब, रब ने मिलाया आपसे l आईना था सामने,मैं आईने के सामने ll मैं हूं जाने कहां ,होश अब तक आया नहींl मौत... Read more
II क्या अब चाहिए II
मुझसे उसने हि पूछा क्या कुछ चाहिए l छूटे साथ तेरा ऐसा---नहीं अब चाहिएll छोटी मोटी मेरी -----कोई ख्वाहिश नहीं l अब मुझे अपने में... Read more
II तेरे बिन दुनिया ......II
तेरी याद भी न बहलाए मुझे अब l तेरे बिन दुनिया न भाए मुझे अब ll रुलाने को दुनिया ही जब मुकम्मलl तेरी याद फिर... Read more
II  जरूरी है  II
आंखों की भाषा से आगे, बढ़ना जरूरी है l शब्द ना दे साथ फिर भी, कहना जरूरी है ll आंखों का क्या खुशी में भी,... Read more