गज़ल/गीतिका · Reading time: 1 minute

ग़ज़ल कहने की कोशिश

???एक ख़याल …………………..?????
_____________________________________________

न कोई आहटें होतीं न कोई शोर होता है;
मेरी तनहायियों पे सिर्फ तेरा ज़ोर होता है..!!
_____________________________________________

ज़रा सा हौसला रखना के बस शब ढल हई समझो;
अँधेरा सुब्ह से पहले बहुत घनघोर होता है..!!
_____________________________________________

कई रंगों में ढलती हूँ कई चेहरे बदलती हूँ ;
भला तुझसे मिलूँ कैसे ये दिल कमज़ोर होता है..!!
_____________________________________________

बता दे ? ऐ खुदा ! ये बेटियाँ तेरी कहाँ जायें;
गली , रस्ते में भँवरा “घर” में आदमखोर होता है..!!
_____________________________________________

मैं कहने से कभी हालात के बारे नहीं चूकी;_
वही कहता नहीं है जिसके दिल में चोर होता है..!!
_____________________________________________

उफ़नती हो बिगड़ती हो दिवाने तो दिवाने हैं;
दिवानों की नज़र में बस नदी का छोर होता है..!!
_____________________________________________

? अर्चना पाठक “अर्चिता” ?
_____________________________________________

2 Likes · 3 Comments · 47 Views
Like
3 Posts · 196 Views
You may also like:
Loading...