Skip to content

गज़ल

निर्मला कपिला

निर्मला कपिला

गज़ल/गीतिका

July 20, 2017

खुशी से जिसे था गले से लगाया
उसी ने मुझे दर्द दे कर रुलाया

बहे अश्क तो भी सभी से छुपाए
धुंएं का तो उनसे बहाना बनाया

भले आजमा ले मेरे बाजूओं को
अभी उनमे हिम्मत बहुत है बकाया

ख़तावार छूटे हैं अक्सर यहाँ पे
मगर बेगुनाहों को फांसी चढ़ाया

न शिकवा शिकायत रही वक़्त से भी
मुझे अर्श से फर्श तक चाहे लाया

खुदा के सिवा कौन रहबर है मेरा
गिरा गर कभी तो उसी ने उठाया

निशाने सियासत के पैने बड़े थे
किसानों के मुद्दों को जड़ से मिटाया

हवाओं से रही दुश्मनी रोज जिसकी
वो अम्बर को भी फिर कहाँ जीत पाया

न बैठे बिठाए ही मिलती है मंजिल
तपा खुद जो सूरज सवेरा वो लाया

चमक लौट आयी थी चेहरे पे उसके
जो हीरे को पत्थर पे हमने घिसाया

Share this:
Author
निर्मला कपिला
लेखन विधायें- कहानी, कविता, गज़ल, नज़्म हाईकु दोहा, लघुकथा आदि | प्रकाशन- कहानी संग्रह [वीरबहुटी], [प्रेम सेतु], काव्य संग्रह [सुबह से पहले ], शब्द माधुरी मे प्रकाशन, हाईकु संग्रह- चंदनमन मे प्रकाशित हाईकु, प्रेम सन्देश मे 5 कवितायें | प्रसारण... Read more
Recommended for you