Edit

याद अब कुछ भी नहीं है एक मंजर के सिवा
हर जगह मैं ढूंढता हूँ खुद को अन्दर के सिवा

मुश्किलों ने मार डाला जी रही है ज़िंदगी
आदमी में है बचा क्या अस्थि पिंजर के सिवा

घोसलों में ही हमेशा जो रहे थे अब तलक
वो परिन्दें उड़ रहे हैं देखिए पर के सिवा

हँस रहा क्यों चोट खाकर इक पहेली बन गई
कौन समझे दर्द दिल के एक शायर के सिवा

लाख दौलत हम कमाएं जो रहे परदेस में
कुछ नहीं अच्छा लगे अपने ही इस घर के सिवा

5 Views
You may also like: