कवितागज़ल/गीतिकामुक्तकगीतलेखदोहेलघु कथाकहानीकुण्डलियाशेरहाइकुबाल कविताघनाक्षरीतेवरीकव्वाली

कर्म प्रधान

कहते हैं... किस्मत बड़ी बलवान तो कर्म का कहाँ स्थान ? अगर कर्म है प्रधान तो किस्मत का क्या काम ? इन दोनों विरोधाभास में हम सब ह... Read more

गुरु बिन गति नहीं

******** गुरु बिन गति नहीं ********* ******************************* गुरु शिष्य की रीति सदियों से चलती आई गुरु बिना कभी शिष्य... Read more

'आदरणीय गुरु'

सिखलाए, वो गुरु बतलाए, वो गुरु समझाए,वो गुरु इनसे बढ़कर कौन। चरणों में इनकी छाया हृदय में इनकी माया हरदम रहता हमपर साया इनसे... Read more

दिल का बुरा नही हूँ मैं

आदमी बहुत भला नही हूँ मैं बेशक औरों के जैसा नहीं हूँ मैं हाँ कुछ तल्ख़ है ज़ुबाँ मेरी मगर दिल का बुरा नहीं हूँ मैं देख के ... Read more

" आप से तुम "

बड़ी जल्दी तय कर लिया उन्होंने आप से तुम तक का सफर , शायद इसीलिए भी कम पड़ गया हमारे एहसासों का असर । काश थोड़ी देर लगाते तु ऐ हम... Read more

कभी कहीं।

कई बार सुना आज माना है, जीवन एक बहती धारा है, कभी कहीं है बेबस बहुत, तो कहीं मौजूद कोई सहारा है, कहीं सुना कि काबिल है, क... Read more

फूलों सा व्यवहार करो

घृणा के काँटे ना चुभाओ फूलों सा व्यवहार करो अपना हो या पराया हो हर अतिथि का सत्कार करो यदि बड़ा बनना है तो अपना हृदय ब... Read more

#गुरु की महिमा (#ताटंक छंद)

गुरु से बढ़के कौन धरा पर,जो मंज़िल दिखलाता है। खुद जलता है दीपक बनके,पर तम दूर भगाता है। नहीं स्वार्थ निज मन में रखता,सबको ज्ञान सिख... Read more

कथनी और करनी

मई माह की झुलसाती गर्मी में पारा पैंतालीस डिग्री को छूने लगा था । भरी दोपहर में सुर्य देव का क्रोध बरस रहा था । कंठ प्यास से सुखने ल... Read more

गुरु की महिमा

1 गुरु से ही मिलता हमें,बुरे भले का ज्ञान हाथ इन्हीं का थामकर, पथ होता आसान 2 गुरु ही सूरज चंद्रमा, गुरु धरती आकाश गुरु मन... Read more

गुरु महिमा

🌹गुरु पूर्णिमा की हार्दिक बधाई !🌹 मैं कंठ तुम ध्वनि हो मैं रज तुम जमी हो। मैं दीप तुम हो बाती तुमसे ही मैं आलोकित । तुम उच्... Read more

दूरियाँ

ट्रेन के डब्बे मे जब तुम पास बैठे मिले तो आदतन तुम्हारी भाषा, वेशभूषा खानपान को। मैं अपने फीते से नाप ही रहा था। कि अचानक... Read more

गुरुवर मेरी प्रार्थना

हे गुरुवर ये प्रार्थना, मेरी दो कर जोड़। नैया है मजधार में , तुम साथ न देना छोड़।।1।। गुरु कृपा से ही होती , उज्ज्वलता भरपूर। गुर... Read more

आत्म ग्लानि

अमर आठवीं पास करके नौवीं क्लास में पहुंचा था । छुट्टियों के पश्चात पुनः स्कूल खुले पन्द्रह दिनों से ज्यादा हो चुके थे । मगर अमर स्कू... Read more

बहाव

जेठ महिने की चिलचिलाती धूप के पश्चात जब बारिश की पहली बूंदे धरा पर पड़ी तो धरा ने उन्हें अपने आगोश में ले लिया । हर कोई खुशी... Read more

अच्छी नहीं लगती

!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!( गज़ल )!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!! मुहब्बत में जुदा परछाइयां अच्छी नहीं लगती किसी के इश्क में बदनामियां अच... Read more

प्यार का मौसम

(प्यार का मौसम) =========== मौसम आते रहे यूं ही जाते रहे पतझड़ गया तो बसंत भी आया बहारें भी आई घटाएं भी छाई भिगोने मन क... Read more

सर्वस मैं ही

जन्म से मरण तक आरम्भ से अन्त तक मैं निमित्त मात्र हूँ कलंक हूं गर्व हूं सरल हूं प्रचण्ड हूं अणु हूं विकराल हूं तुम्हारे ... Read more

लकीरें

********* लकीरें ******** *********************** ये जो हाथों की चंद लकीरें हैं मेरे भाग्य की बंद लकीरें हैंं बिन लकी... Read more

गुरुवर

हे ज्ञान चक्षु विज्ञान धन हे ज्योति जीवन भास्कर, सुज्ञान अमृत सा दिया मेरे गुरुवर, तुम कृपा कर। अज्ञान का घोर अंधकार थे कल... Read more

शिक्षक के सम्मान को

(1) शिक्षक के सम्मान को, पहुँचाये जो चोट। उस नेता के पक्ष में , कभी न करना वोट। कभी न करना वोट, खोंट राजा में भारी। करता लूट ख... Read more

दिली इच्छा

मैं फिर आना चाहूँगी अम्माँ कि डाँट खाने बाबू का प्यार पाने मैं फिर .......... रसोईं में अम्माँ का आँचल थामने उनके स्वाद ... Read more

रोना

एक रिश्तेदार की मौत पर उनके घर गया। माहौल गमगीन था। उनके पार्थिव शारीर के आसपास बैठी कई औरतें रो रही थी। वैसे तो उन्होंने अपनी ... Read more

" एक प्रश्न "

थप्पड़ बड़ा या गाली ये सवाल है बड़ा सवाली सबके सामने ये दोनों बड़े अपमानित से लगते हैं अकेले में क्या ये बड़े सम्मानित से लगत... Read more

गुरू गुण की खान

गुरू जी हैं गुण की खान, गुरू मिले सतसंग मिले, मिले है जीवन का सार, गुरू की वाणी अमृतमयी यह है जीवन का आधार, परमज्ञान ... Read more

वैवाहिक यौन उत्पीडन

एक मासूम की जिंदगी से खिलवाड़ का शोर सबको सुनाई देता है, पर होता जब किसी विवाहित के साथ तो ख़ामोश यह जहां हो जाता हैं, जहां की नज़... Read more

चाँद

#चंद्रग्रहण #lunareclipse2020 #LunarEclipse 🌷 #सुप्रभात 🌷 सूरज डूब चुका घना अंधेरा सर पर है, अंधेरी रात में अन्जान सा पहरा... Read more

सुस्वागतम......*****..

सुस्वागतम हे नववसंतराज आनंदित है पवन धनराज वृष्टि के आतुरता का आगाज सुस्वागतम हे नववसंतराज।। धरा भी प्रसन्न बड़ी है व्याकुल तुम... Read more

गुरु ईश्वर के रूप धरा पर

गुरु ईश्वर के रूप धरा पर, जग को पाठ पढ़ाते हैं पंचतत्व के पुतले को, एक इंसान बनाते हैं अंधकार हरते जीवन का, ज्ञान की ज्योति जलात... Read more

गुरु पूर्णिमा की शुभकामनाएं

चिंतन किया जब प्रथम गुरु का, माँ का चेहरा मेरे सामने आया, बातों ही बातों में माँ ने हमको, शब्द ज्ञान से परिचय दिलाया, जन्म लिया ... Read more

निराश नहीं होना

हार जीत सदा चलती, होना नहीं निराश । मौके बहुत सारे हैं, फिर कीजिए तलाश ।। चींटी से लेकर सबक, आगे बढ़ो जवान । एक बार का हारना,... Read more

सुशांत तुम फिर से आना

-: सुशांत तुम फिर से आना :- सुशांत तुम फिर से आ जाना अपने सुनहरे सपनों को पूरा कर जाना जो थे तुम्हारे ख्वाब वो तुम्हारे चलन... Read more

भारत वंदना

Uma jha गीत Jul 5, 2020
अखण्ड भारत, सुर-सर तारक, कण-कण शायद धारक, जग करे अर्चना, अछि शब्द खंडित, वाणी कुंठिलत करु कोना माँ अराधना । सप्तसिंधुनी, जंब... Read more

शांति वन से बापू बोले

शांतिवन से बापू बोले सुनो सभी इंसान रे हिंदू न मारा मुस्लिम न मारा क्यों मार दिया इंसान रे कोई ईश्वर कोई अल्लाह कोई कहे हे राम र... Read more

नीले गगन के तले

***** नीले गगन अशके तले ***** **************************** सब छोड़ कर बैठे नीले गगन के तले दिल हार कर बैठे नीले गगन के तले च... Read more

माँ

🌷 #माँ🌷 छुपा लेती है आँचल में, दुआ करती है, 'माँ' वो है जो हर वक़्त वफ़ा करती है ।। #हनीफ़_शिकोहाबादी ✍️ Read more

अंधेरे

डूबते सूरज की तरह आकाश से दूर एक छोर पर खो रही हूं या उग रहीं हूँ नहीं पता पर थकन इतनी की अब जी चाहता है बस उतार दूं ये लबादा ... Read more

ये दौर गलतफहमियों का/brijpal Singh

ये दौर है गलतफहमियों का। आप सवेरे-सवेरे जाग कर मोबाइल देखते हैं खासकर न्यूज से अपडेट रहने के वास्ते ऐसा किया जाता है सम्भवतः 90 प... Read more

कविता

आज लिखने बैठी में कविता, शब्दों से भरे झोली के साथ, पर, बेचारे शब्द खेल रहे अकड़ - बकड़, तंग कर रहे मुझे हर पल, नज़र अंदाज़ कर ... Read more

जागो हे इंसान....."

जुबां ही जुबां है सुनता कोई क्यों नहीं। आस्था का अपार भंडार तो है, शांत मनोवृति की भी दरकार है।। Read more

जीवन का हैप्पी मंत्र

रहना हर अवस्था में खुश है यही जिन्दगी का मूलमंत्र आते रहते सुख-दुःख चलता रहता जीवन अनन्त आती हैं जिन्दगी मे... Read more

-: साँझ का दीया :-

बुझा दे साँझ का दिया कोई..चारो ओर खामोशी फैली है मेरा दर्द भी तन्हा रात की तरह अकेली है निहारती रहती हूं अपने किस्मत की लकीरों क... Read more

देश की स्वाधीनता पर आंच आ सकती नहीं

देश की स्वाधीनता पर आंच आ सकती नहीं वीर की कुर्बानी अब बेकार जा सकती नहीं चीन हो या पाक दुश्मन सारे मुँह की खाएंगे इनकी कोई चा... Read more

कद

छत पर खड़े होकर जब राह चलते लोग बौने नजर आये। तब ये अहसास छलका कि मैंने मकान के कद को भी अपने साथ शामिल किया है आज। Read more

चलो चलें मितवा!

💫चलो चलें मितवा💫 चलो चलें मितवा! कोरोना के डर को भगाना है। सुरक्षा नियमों को अपनाकर जीवन को आगे बढ़ाना है। चलो चलें मितवा! ... Read more

प्रतिक्रिया

प्रतिक्रिया , तुम अब वैसी नही रही। पहले तुम आमने सामने दिखा करती थी। और नजरो से होते हुए मन मे बैठ जाती थी। तुम मेरी राह तका... Read more

आवाज दिल की

सफलता यूँ ही नहीं मिलती मेहनत भी करना पड़ता है पाने की खातिर हक अपना किश्मत से लड़ना पड़ता है कहते थे मुझसे जो पहले पढ़ लिख लो राज ... Read more

सोच मेरी

लगता है तुम्हें कि थोड़ी अलग है सोच मेरी हाँ मानती हूँ, चीजों को देखने का नज़रिया अलग है थोड़ा मेरा, तुम्हें तकलीफ़ है विरोध के ह... Read more

मनमोहना

मनमोहना..... तुमने हमेशा दिल की ही था सुना इतनी रानियों और पटरानियों के रहते सिर्फ़ राधा को ही था चुना , गोपियों से हैं तुम्हा... Read more

आजादी किस मायने में ?

आज़ादी..... किसी मायने में सोच की विचार की समझ की रिश्तों की समानता की भाषा की परिभाषा की क्या मिली है हमें ??? आज़ादी........ Read more