शेर

परिंदे ख्वाहिशों के ....

ख्वाहिशों के परिंदे अब फरफरा रहे हैं कुछ डेग भर रहे हैं ,कुछ लड़खड़ा रहे हैं । कल तक नहीं था जिन को , खुद पर यक़ीन देखो अब हौसले कि... Read more

पहली दफा

कुछ तो है ...., जो नींद मुझसे ख़फा है । है इश्क ये , या नादानी दिल की पर जो भी है , पहली दफा है ।। "स... Read more

तुम्हारी यादें........

अपनी यादों से कहो ना , मुझे नींद के हवाले छोड़ दे। भूल जाए अब मुझे , सारे रिश्ते-नाते तोड़ दे ।। :- सैयय्द... Read more

ख़ता

एक यही तो ख़ता हुई हमसे । मोहब्बत कम न हुई हमसे । एक खूबसूरत ख़ता कर बैठे । दिल लेकर उन्हें दिल दे बैठे । समझते समझौता जिसे,... Read more

इश्क़

यह इश्क़ शराब हुआ , नशा बे-हिसाब हुआ । होश नही रिंद को अब, साक़ी बे-ऐतवार हुआ । .... विवेक दुबे©... Read more

नजरे

न जाने आपकी नजरें मे ऐसी कया जादु है जब भी देखता हू, दिल मे आपके चेहरे नजर आते है। Read more

मोहब्बत, एक खुदा

मेरी मोहब्बत को साहिब, यूँ रुस्वा न कीजिए, पाक मेरी मोहब्बत, एक खुदा की तरह है। Read more

लम्हे

लम्हे ये सुहाने साथ हो न हो, कल में आज ऐसी बात हो न हो, आपसे प्यार हमेशा दिल में रहेगा, चाहे पूरी उम्र मुलाकात हो न हो। Read more

वजूद शायरी

दुनिया तेरे वजूद को करती रही तलाश, हमने तेरे ख्याल को दुनिया बना लिया। Read more

यू डूबे याद मे तेरी

यूं डूबे याद मैं तेरी मुहब्बत करके ओ जाना हमें अब और कोई गहराइयाँ अच्छी नही लगती तुम्हें ही याद कर कर के यूं आहें भरा करते तुम्हर... Read more

तुम्हें, हम इतना प्यार करते है

बदलना आता नही हमे मौसम की तरह हर एक रुत में तेरा इंतज़ार करते है ना तुम समझ सकोगे जिसे कयामत तक कसम तुम्हारी तुम्हे हम इतना प्य... Read more

मज़लूम

मजलूमों की दुआ न सही , जो "आह" ही सुन लेता मेरे मौला, तो आज इस जहन्नम की आग ना होती, किसी को भी फिर किसी जन्नत की चाह न होती । Read more

जिंदगी

हूँ होश में ............. मदहोश हूँ बहुत। ज़िन्दगी तेरे अंदाज से हैरान हूँ बहुत । .... विवेक दुबे"निश्चल"... Read more

ख्वाहिश

खुदगर्ज नहीं मेरी नज़रें पर अफसोस सदा मनाती हैं जिस पल तुम्हें मैं याद करूँ दीदार तुम्हारा चाहती हैं। Read more

मुलाकातों के चर्चे सरेआम क्या हुये

मुलाकातों के चर्चे सरेआम क्या हुये हर जगहां निगाहों के कैदखाना हुये _____________________________ बुरी नजरों के जाल इस कदर हो ग... Read more

बस प्यार अकेले तुम हो

मुझ जीव डगर के राही, इक यार अकेले तुम हो । जाने कितने ख्वाब बुना, बस प्यार अकेले तुम हो ।। Read more

शब्दों का चुरा ले गया कोई

शब्दों का चुरा ले गया कोई कागज़ को भीगो गया कोई आँखों से सपने ले गया कोई नज़र नहीं धुंधला गया कोई Laxman Singh Read more

तेरा इंतजार

लम्हा लम्हा तुझे याद करता रहता हूँ मैं... तेरी तस्वीर को ही सजदा करता रहता हूं मैं ! अब आ भी जाओ मेरे सनम.. हर घड़ी बस तेरा इंतज़ार... Read more

अभी घर से मकां के बीच का है फासला बाक़ी

अभी घर से मकां के बीच का है फासला बाक़ी तेरे आने न आने का है करना फैसला बाक़ी हैं मयख़ाने में जाम-ओ-मय-ओ-पैमाने बहुत लेकिन लबो ... Read more

कहेगे हमे

ये दुनिया ये लोग सब हंसेगे...हमे ये तो दुनिया है , ये तो व्याकुल करेगे हमे तुम इनसे कभी घबराना नहीं ए मेरी जान.. प्यार किया है ज... Read more

प्यासे को पानी

जब देखता हूँ तुझे तो औऱ प्यार हो जाता है मुझे... वो तुम्हारा पास आना दीवाना कर जाता है मुझे ! और जब लबों को अपने मेरे लबो पर रखती ... Read more

नज़र

तुम जब छत पर आती हो तो मुझे चाँद नजर आता हैं लेकिन वो तुम्हारा मुझसे नज़रे हटाना तकलीफ दे जाता है ए मेरी जान मुझे देखते ही रहा कर... Read more

शायरी

ऐसा साधु - संत न बनिए, जग हँसे और जेल हो जाय l इनके कुकृत्य ऐसे हो रहे, रावण भी पीछे छूट जाय ll Read more

शायरी

प्यार तो शाहजहाँ ने किया, मुमताज की याद में ताजमहल बनवा दिया, तू कैसा कम बख्त निकला, धन के लालच में जिंदा जला दिया ll Read more

अरमान

बडीअजीब सी बात है, जो सबका अजीज था, आज वो उदास है।। Read more

शेर

हमने टूट कर चाहना चाहा उसे जो चाहा हो गया और टूट गया लक्ष्‍मण सिंह Read more

(नींद बहुत जल्दी आती है)

मेरी कलम से... आनन्द कुमार मेरी तबियत नासाज है, या वह अब दिल में नहीं रही, बिस्तर पर जाते ही, अब नींद बहुत जल्दी आती है । Read more

एक शेर पुष्टि के साथ.

दिल के दर्द की दवा नहीं पास मेरे, हम तो "दिल ए दर्द" देते है, जिस किसी को दिल महफूज़ रखना है, "दर्द ए दिल" दवा खोज लें, . अौषधि... Read more

एक शेर

मत पूछ कि कैसे काली रात में उजाला हो गया ये दिल जला और उसके घर में उजाला हो गया लक्ष्‍मण सिंह Read more

बिछड़ कर जीने की तरकीब बना ली हमने

बिछड़ कर जीने की तरकीब बना ली हमने पीकर अश्क, लबों पर हंसी सजा ली हमने। शिकवा न गिला हम तेरी बेवफाई का करेंगे यह कसम आज तेरे सर की... Read more

यह अब आपकी समझ.

1. जीने का ढ़ंग क्या बदला, लोगों ने साम्प्रदायिक कह दिया, खाता हु पीता हु नित्यकर्म करता हु. इसमें भी जाति वर्ण धर्म दिखता है तुम... Read more

अधुरी अल्फाज मोहब्बत के

तेरे कहने का अंदाज ये आवाज दे जाती है । तेरी पहली चाहत की अनकही सी राज दे जाती है ।। दोस्त तुझे देखकर अकसर उन हसीनाओं से, एक छ... Read more

लफ़्ज हैं.. पर श्रेणी मालूम नहीं !!

नफरत नहीं है माध्यम ऊंचाई पाने को, लोकतंत्र में उसके भी भाव लगते देखे हैं, ज्यादातर लोगों की है भाव-दशा यही, मिलजुल लूट लेते है श... Read more

कुछ दिल से... शेर

१, इस शहर में अपना कोई नहीं, दिल अगर टूटे तो किसे पुकारें . चेहरों पर चेहरे हैं सभी के , दर्द भरी नज़रों से किस और न... Read more

अरमान

शायद वो चमक फिर ना आए मेरी आँखों में। कही कुछ धड़क रहा है भीतर उतना काफी है। #अरमान Read more

कमाई के पैमाने बदले !

छोड़ दो मुर्दों पर रोटी सेंकना, जिंदा लाशों का ढ़ेर क्या कम हैं, (कमाई कर खा लेने दो) बस इतने से रहम की उम्मीद है, नामुराद इससे भी... Read more

अरमान

यू ना सोच की किनारे पर खड़ा हूँ मै, एक आगाज़ हुआ है मेरे से; कल एक मुकम्मल काफ़िला तैयार होगा, आज शिकायत है तुमको ; मेरे शेर गीत ... Read more

अरमान

वक्त वक्त की बात है; पल पल बदलते ज़ज्बात है।। #अरमान Read more

अरमान

तुम्हारे पास होने पर शरारत करता है। तुमसे दूर जाने पर बगावत करता है। धडकता मेरे सीने मे है पर नाम तुम्हारा लेता है। ये दिल म... Read more

अरमान

एक दिली ख्वाहिश है....कि वो हमारे हो, आखिर कब तक ....नजरो नजरो मे ईशारे हो। #अरमान Read more

एक बात

हैरान हूँ उनकी गलतफहमियों से जिन्हें लगता है हमे कुछ मालूम नहीं है अपने अतीत को देखोगे तो जानोगे तुम तुमको सवारने में कितने जख्म... Read more

नए दौर के परिंदे

ना सुबह चाहिए ना शाम चाहिए हमें तो सारा जहाँ चाहिए हम परिंदे है आज के हमें सिर्फ घोसला नहीं सारा आसमान चाहिए। Read more

अधरों पर रखी हसरते मुल्तवी

रात की हर पहर ख्वाहिशे ले गई. दिल ने सज़दा किया मेरी ज़िक्र ले गयी. तुम सम्भालो मुझे रात कुछ केह गयी. दिल की तम्मना जवां बात दिल की... Read more

.....नहीं थकती

अश्रुपूरित नयन मेरे क्यूँ....? राह तुम्हारी तकते नहीं थकती शून्यमात्र बिन तेरे-जीवन के पल "प्रीत "हमारी कहते नहीं थकती मनुहा... Read more

कुछ शेर रफ़ी के नाम ...

कुछ शेर रफ़ी के नाम ... १, दिल से भुलाने की कोशिश की बहुत मगर , तब भी ह... Read more

नन्हे कदम

जीर्ण शीर्ण सी स्मृतियों पर नन्हे कदमो की दस्तक। जय हो पूर्ण उद्बार हो उसका सदा ऊँचा करे जग में मस्तक। सुधा भारद्वाज विकासनगर उ... Read more

नन्हे कदम

जीर्ण शीर्ण सी स्मृतियों पर नन्हे कदमो की दस्तक। जय हो पूर्ण उद्बार हो उसका सदा ऊँचा करे जग में मस्तक। सुधा भारद्वाज विकासनगर उ... Read more

खुदकुशी

Alok शेर Dec 23, 2017
ज़िंदगी से भागते भागते ,मौत से संवर गया क्या? वो एक शख्स ,जो हर रोज पंखे से लटकता था , कोई देखो उसे ,आज वो मर गया क्या?????? :... Read more

आज की दोस्ती

रूलाते फिर हसने की बात करते हो भाई सचिन तुम भी कमाल करते हो कभी कहते दोस्ती हम तुझसे ही निभायेंगे फिर कहते एक नहीं कईएक दोस्त बना... Read more

बदलाव पर शेर

हिसाब रखना है तो, रख कुछ इस तरह, कुछ शेष तो नहीं बचा, अब देने के लिए, . सनातन पर छाप है, नूतन है अब प्राण, पुरातन कौन कहे, ज... Read more