शेर

बिछड़ कर जीने की तरकीब बना ली हमने

बिछड़ कर जीने की तरकीब बना ली हमने पीकर अश्क, लबों पर हंसी सजा ली हमने। शिकवा न गिला हम तेरी बेवफाई का करेंगे यह कसम आज तेरे सर की... Read more

यह अब आपकी समझ.

1. जीने का ढ़ंग क्या बदला, लोगों ने साम्प्रदायिक कह दिया, खाता हु पीता हु नित्यकर्म करता हु. इसमें भी जाति वर्ण धर्म दिखता है तुम... Read more

अधुरी अल्फाज मोहब्बत के

तेरे कहने का अंदाज ये आवाज दे जाती है । तेरी पहली चाहत की अनकही सी राज दे जाती है ।। दोस्त तुझे देखकर अकसर उन हसीनाओं से, एक छ... Read more

लफ़्ज हैं.. पर श्रेणी मालूम नहीं !!

नफरत नहीं है माध्यम ऊंचाई पाने को, लोकतंत्र में उसके भी भाव लगते देखे हैं, ज्यादातर लोगों की है भाव-दशा यही, मिलजुल लूट लेते है श... Read more

कुछ दिल से... शेर

१, इस शहर में अपना कोई नहीं, दिल अगर टूटे तो किसे पुकारें . चेहरों पर चेहरे हैं सभी के , दर्द भरी नज़रों से किस और न... Read more

अरमान

शायद वो चमक फिर ना आए मेरी आँखों में। कही कुछ धड़क रहा है भीतर उतना काफी है। #अरमान Read more

कमाई के पैमाने बदले !

छोड़ दो मुर्दों पर रोटी सेंकना, जिंदा लाशों का ढ़ेर क्या कम हैं, (कमाई कर खा लेने दो) बस इतने से रहम की उम्मीद है, नामुराद इससे भी... Read more

अरमान

यू ना सोच की किनारे पर खड़ा हूँ मै, एक आगाज़ हुआ है मेरे से; कल एक मुकम्मल काफ़िला तैयार होगा, आज शिकायत है तुमको ; मेरे शेर गीत ... Read more

अरमान

वक्त वक्त की बात है; पल पल बदलते ज़ज्बात है।। #अरमान Read more

अरमान

तुम्हारे पास होने पर शरारत करता है। तुमसे दूर जाने पर बगावत करता है। धडकता मेरे सीने मे है पर नाम तुम्हारा लेता है। ये दिल म... Read more

अरमान

एक दिली ख्वाहिश है....कि वो हमारे हो, आखिर कब तक ....नजरो नजरो मे ईशारे हो। #अरमान Read more

एक बात

हैरान हूँ उनकी गलतफहमियों से जिन्हें लगता है हमे कुछ मालूम नहीं है अपने अतीत को देखोगे तो जानोगे तुम तुमको सवारने में कितने जख्म... Read more

नए दौर के परिंदे

ना सुबह चाहिए ना शाम चाहिए हमें तो सारा जहाँ चाहिए हम परिंदे है आज के हमें सिर्फ घोसला नहीं सारा आसमान चाहिए। Read more

अधरों पर रखी हसरते मुल्तवी

रात की हर पहर ख्वाहिशे ले गई. दिल ने सज़दा किया मेरी ज़िक्र ले गयी. तुम सम्भालो मुझे रात कुछ केह गयी. दिल की तम्मना जवां बात दिल की... Read more

.....नहीं थकती

अश्रुपूरित नयन मेरे क्यूँ....? राह तुम्हारी तकते नहीं थकती शून्यमात्र बिन तेरे-जीवन के पल "प्रीत "हमारी कहते नहीं थकती मनुहा... Read more

कुछ शेर रफ़ी के नाम ...

कुछ शेर रफ़ी के नाम ... १, दिल से भुलाने की कोशिश की बहुत मगर , तब भी ह... Read more

नन्हे कदम

जीर्ण शीर्ण सी स्मृतियों पर नन्हे कदमो की दस्तक। जय हो पूर्ण उद्बार हो उसका सदा ऊँचा करे जग में मस्तक। सुधा भारद्वाज विकासनगर उ... Read more

नन्हे कदम

जीर्ण शीर्ण सी स्मृतियों पर नन्हे कदमो की दस्तक। जय हो पूर्ण उद्बार हो उसका सदा ऊँचा करे जग में मस्तक। सुधा भारद्वाज विकासनगर उ... Read more

खुदकुशी

Alok शेर Dec 23, 2017
ज़िंदगी से भागते भागते ,मौत से संवर गया क्या? वो एक शख्स ,जो हर रोज पंखे से लटकता था , कोई देखो उसे ,आज वो मर गया क्या?????? :... Read more

आज की दोस्ती

रूलाते फिर हसने की बात करते हो भाई सचिन तुम भी कमाल करते हो कभी कहते दोस्ती हम तुझसे ही निभायेंगे फिर कहते एक नहीं कईएक दोस्त बना... Read more

बदलाव पर शेर

हिसाब रखना है तो, रख कुछ इस तरह, कुछ शेष तो नहीं बचा, अब देने के लिए, . सनातन पर छाप है, नूतन है अब प्राण, पुरातन कौन कहे, ज... Read more

हकीकत में जिंदगी.. अभिनय से अलग होती है,

कुछ तो खास है सभी की जिंदगी में, वरन् कौन अपना कैसे बेगाना कहते, . चाहत की झलक मृग-मरीची की भांति है, दूर से सब पूरी पास जाकर दे... Read more

** जो निकली निःस्वास **

17.12.17 **** रात्रि **** 9.15 हमे दवाओ की नहीं आपकी दुआओं की जरूरत है जिसमे कोई चाह कर भी ज़हर नहीं घोल सकता है ।।... Read more

द्विपदी

किसी ने गर जो मेरे ग़म को तराशा होता हम भी कोयले से वह हीरा बन गए होते -------------------------------------------- प्यार को रि... Read more

दुपदी

प्यार चाहते सब , नफरत का क्या काम नफरत चंद सिरफिरों की बनी बपौती है। त्रिभवन कौल -------------------------------------------... Read more

एहसास

जो तुम यूँ मुस्कुराते हो दूर से ही देखकर हमको कैसे बताएं किस कदर हम दीवाने हुए जाते हैं। यूँ न जाया करो तुम छज्जे से अचानक ... Read more

तीन शेर

मुझे देखो मैं बूत हूँ मन्दिर में आस्था का बतौर रस्म आवोगे तो खाली ही हाथ जावोगे। दूरी भी नहीं कोई और पासभी नहीं हैं हु... Read more

आरजू

आरजू..... ..................... नजर भर देख लो हमको, हमें ना यूं बिसारो तुम, लगालो सीने से मुझको, नजर न फेर जाओ तुम। सुनो जी ते... Read more

शे'र

शे'र ज़िंदगी जीत की मोहताज़ नहीं दोस्तों, हार में भी वो पैगाम देती है। समझ जाते हैं समझने वाले, वरना जान भी ये ही लेती है। ___... Read more

हवा और फिज़ा

ये जो हवा का रुख है ! मौसम का मिज़ाज है ! इन हवाओं में ! इन फ़िज़ाओ में ! खो न जाना कभी ! इनमें नूतन रास्ते ! खोज़ने की ताकत कहाँ ... Read more

शेर खुद को पहचान !!

जीवन में अगर ! खुशबू की जरूरत होती ! साथ लगी होती !! कस्तूरी मृग नाभि बसे ! आपकी भी महकती होती !! . जिन्हें खुशबू चाहिए ! सौन... Read more

कामयाबी

कामयाबियों को रात भर की देर बस बाकि स्याह के लंबाई की, किसको ग़रज़ है ।। Read more

अंदाज़ सूफीयाना !!!

तमन्ना है ! बदल चले विधि विधान ! ताजूब ये हुआ ! गुजर गए बिन व्यवधान ! पनाह उन्हे चाहिए ! जो है गुनहगार ! या कर बैठे है विरोध... Read more

शायरी

Akib Javed शेर Nov 26, 2017
आशिकी छुपी हैं,तिश्नगी दिखी हैं बेखुदी जली हैं, शायरी लिखी हैं आदमी कही हैं, सादगी नही हैं रौशनी बुझी हैं,जिंदगी ढही हैं बेख... Read more

शेर

मौत जो मांगी तो न आई तमाम उम्र अब जीने की तमन्ना है तो आई गले लगने। देने को यह जिंदगी बची। है मेरे पास पर कोई नही मिलता इसका तल... Read more

लोगों का वास्ता !

कौन के हक के लिये लड़े, किन किन से बुरा बने ! मतलब निकलने बाद ! सब एक जैसे हो जाते है ! जब धर्म ने ही !!! रहम न दिखाया ! इंसानि... Read more

मिजाज आशियाना

नजर के खेल में ही नजरें चार होती हैं ! नफरत के खेल में धरती लाल होती है ! . अजीब है इश्क की शुरुआत ! महेंद्र अनजाने को भी अपना ब... Read more

मूछ

मूछ होती है मर्द की शान। मूछ घोटने वालो मे नही होती है जान।। मूछ वही रखता है,जिसमे होता है दम। नामर्द के मूछ हो जाती है कम।। @ ... Read more

शेर अहं को है जवाब !

हस्र तो देखो झूठी शान का, अकड़ बकड़ बम्बई बो, गिने गिनाए पूरे सौ, आन्ना बचा न पास में, . जो बढ़ न पाएं हाथ ममद को, वो खुद को डूंड... Read more

जरा सा रुके ! और सोंचे !

मालूम नहीं लोगों के मन से कुंठा निकलती नहीं है ! माँ खुद गीले में रहकर, बच्चे को सूखे में सुलाती है ! . पता नहीं ये समाज ! अपन... Read more

शेर:-नहीं है मेरे पास !

नहीं है मेरे पास, कुछ भी दिखावे को, जो है वो सबके पास है, क्या करें गुमान उस पर, आया एक हवा का झोंका, सब कुछ बिखर गया, . संजो... Read more

शेर:- धर्म और आस्था,

धर्म की कहानियां, असंतुष्ट लोगों ने लिखी हैं, संतुष्ट लोग तो, इसमें रोजगार खोजने में लगे है, . धर्म का मार्ग तो, खुद ही आस्था ... Read more

शेर की तरह/पर शेर नहीं,

*शरहदें दो मुल्क की पहचान, शर्त दो यारों की, दो भाईयों की पहचान, आंगन में दीवार, प्रेम-प्यार दो दिलों का है मिलन है, दो जिस... Read more

आज गीदड़ भी शेर है,

*भिगा हुआ हु पर लिप्त नहीं, किंतु "प्रेस के कोट" वाले दूर रहे ! शायद क्रीज खतरे में हो, गंदा तो पहले से ही बहुत है, . इतिहास को... Read more

शायरी

Akib Javed शेर Nov 12, 2017
नमाज़े इश्क की सदा क़ज़ा करते रहे हम ख्वाबो में ख़ुदाए इश्क को मांगते रहे हम है दफ़न मुझमे मेरी कितनी रौनके मत पूछ, उजड़ उजड़ कर जो... Read more

रख हौसले फौलाद तुम

Akib Javed शेर Nov 12, 2017
गर किस्मत बदलना चाहते हो.. तो हाथ में सदा "कलम" रखना संसार जीतना चाहते हो तो हाथ में अपने 'किताब' रखना रख हौसलो को साथ तुम रख... Read more

शेर..यथार्थ का बोध*

***स्वीकार किया है हमने, उसका नाम ताकि थोप सके, अपनी बुराई उसके नाम, खुद जिम्मेदारी लेने में बड़े झंझट है, . चिंतन है मानव की एक... Read more

मेरा यार नज़र आएगा....

मोहबत की इन रंगीन तस्वीरो में देखो,ऐतबार नज़र आएगा! इन तस्वीरों से धुल हटा कर देखो, एक अहसास नज़र आएगा! जज्बातो की हैं मेरी यह कहानी... Read more

इश्क़ -ऐ- हकीकी पर शेर

इस जीस्त की तमन्नाएँ कहीं खाक में ना मिल जाये , हर तमन्ना की बस एक ही आवाज़ के हम तेरे हो जाएँ , ... Read more

नाज

नाज होता है अक्सर तेरे दिल पर मुझे ऐसा दिल बहुत मुश्किल से मिलता है | ---------- दीप Read more