शेर

ख़ाक...

हो जाऊँगा ख़ाक इक दिन देखना तुम । फ़िर उठा ख़ाक मेरी, मुझे समेटना तुम ।। ✍️ #हनीफ़_शिकोहाबादी Twitter id 👉 @Er_Wr_Haneef Other... Read more

दिल है, दर्द है और ख़्वाहिशों का मातम है...

तन्हा सी ज़िंदगी है तन्हाई का आलम है, दिल है दर्द है और ख़्वाहिशों का मातम है ।। ✍️#हनीफ़_शिकोहाबादी Twitter 👉@ Er_Wr_Haneef ... Read more

रिश्ता

किसी रिश्ते को निभाना इतना आसान नहीं होता कभी हार कर निभाना पड़ता है कभी झुक कर निभाना पड़ता है उनकी गलतियों पर पर्दा डालना पड... Read more

जिनमें कोई बात हो

कभी कोई पीठ पीछे आपकी बात करें तो घबराइए मत बात उन्हीं की होती है जिनमें कोई बात हो। अंजली तिवारी Read more

हर चीज संभव है

इस दुनिया में कुछ असंभव नहीं हर वह चीज संभव हो सकती है अगर हम परिश्रम करें। अंजली तिवारी ✍️ Read more

शायरी

सरकार की मजबूरियों पे , जाना था दूरियों पे, घर हमारा दूर था, हर इंसान चलने को रस्ता मजबूर था, Jayvind Sing... Read more

शायरी

जुदा होने की हिम्मत बहुत थी ऐ मोहब्बत, लेकिन तुझे बेसहारा छोड़ने की हिम्मत न हुई,। Jayvind Singh Ngariya Ji Read more

शायरी

कुछ लोग तो हमारी जिंदगी में आईने की तरह होते हैं, हम हंसे तो वो हंस दे हम रोय तो वो भी रो दें, मगर इस जमाने में कंकड़ बहुत हैं, ... Read more

शायरी

जिंदगी की मायूसी ने हमें वो ज़ख्म दिये, छुपाते हैं और मन में रो दिए, लोगों को बताये तो वो सहारा न दिये, ज़ख्मों को सुनकर वो ह... Read more

शायरी

मैरी ख़बर तुम जहां तहां रखते हों, इसलिए तो तुम्हें बहा रखता हूं, जिन यादों में तुम बस्ते हो, उनको ही तो याद करके मैं ... Read more

शायरी

चेहरा मिल जायेगा खूबसूरत तो क्या हुआ, जब भी बात अच्छाईयों की आयेंगी, तो तुम मुझे याद करके, बहुत पछताओगे,। Jayvind Singh... Read more

शायरी

उलझनें तेरे मैरे रिस्ते की हैं, हम तुम एक दूसरे से अच्छी तरह घूल मिल जाये, हम खुद ही बता दें लोगों को अपने बारे में, ऐसा न ... Read more

शायरी

तू ढूंढ़ रही हैं जहा तहां मैं तेरे दिल के पास हूं, कुछ देर आंखे बंद करके देख मैं तेरे दिल का एहसास हूं,। Jayvind Singh Ngariya Ji Read more

शायरी

हमारे रिश्ते का एहसास हम दोनों ही समझते हैं, लोग तो देखते हैं और कुछ और समझते हैं,। Jayvind Singh Ngariya Ji Read more

शायरी

हमें तो वक्त का वो किनारा भी सताता हैं, जिसमें तुम्हारे होने का एहसास याद आता हैं, Jayvind Singh Ngariya Ji Read more

शायरी

हमारी चहात को यूं इल्जाम न दो, हम तुम्हारे लिए बहुत तड़पते हैं, आके इन यादों में भी समेट लो हमें, हमें गुम नामी का ना... Read more

शायरी

आज बड़े दिनों बाद उसे मैरे प्यार का एहसास हुआ, समय को क्या दोष दे हम उसे माहौल देखकर प्यार हुआ,। Jayvind Singh Ngariya Ji Read more

शायरी

तूं मुझे कितना देंगी धोका , अब तो दीदार कर लें, मैं बहुत समय से रोया हूं तेरे प्यार के लिए, अब न तड़पा ऐ जान ... Read more

शायरी

🌹🌸🌷🌺🌹🎋🌸🌷 वक्त बे वक्त मैं बे परवाहा रहा, तूॅ मुझे मिली मैं परवाहा रहा, समय गूजरा जरूर हैं मैरा , मैं तेरी यादो... Read more

शायरी

खामौसी से दिल में पयाम लिख दूं, तूं मुझे याद करें इतना में नाम लिख दूं, दर्द ऐ दिल तूं ने दिया हैं दर्द, उस दर्द को ... Read more

शायरी

जिंदगी की मायूॉसी में तुम याद आते हो, आकर यादों में बहुत सताते हो, कब मिलोगे इन राहों में ऐ सफ़र, अकेले चलने में त... Read more

शायरी

जज्बातों को समझने बाले कम होते हैं, इसलिए तो लोग अकेले में रोते हैं, महल तो जरूरत बारों के होते हैं, शायर के दिल में म... Read more

शायरी

हर सुबह तुम मुझे मत सताना, सोया हूं अगर मैं नींद में मत जगाना,। नींद में भी रहता हूं मैं तुम्हारी यादों में, जगा कर मुझे ... Read more

शायरी

अपनों की याद में यूं आंखें तड़प गई, आये नहीं वो कयी घड़ियां निकल गई,। क्या पता कोई मजबूरी या बहाना था, हमें तो बस उनके साथ वक्त... Read more

मेरे अल्फाज

1अगर इश्क हादसा है, तो इससे गुजरने दो दो दिलों को इसमें घायल होने दो 2चलना है, चलना है चलते ही जाना है ना झुकना है, ना रुकना है... Read more

शायरी

हमारी जिंदगी का कोई ठिकाना बन गया, कल कोई आया था वो जमाना बन गया, हम तुम्हारी यादों में रहते हैं ऐ सफ़र, हम तुम रहे थे एक साथ व... Read more

शायरी

जिंदगी के मायूॅसी के पलो को , वो मुझको बताती थी,। मैं जब उसके पास होता था, तो वो कंधे पर सिर रख कर रोने लग जाती थी,। Jayvi... Read more

शायरी

लोग करते हैं सक मुझ पर तेरे पास होने पर, अब तूं ही बता दें इनको क्या हक़ हैं मैरा तेरे पास रहने पर,। Jayvind Singh Ngariya Ji Read more

शायरी

चाहत में डूबा था, तेरे ग़म को छुपाना था,। जरा किताबों से पूछों, लिखने में भी कितना दीवाना था,। Jayvind Singh Ngariya Ji Read more

बेपरवाहियों ने सिखा दिया

बेपरवाईयों ने सिखा दिया जीना परवाह करते तो मर ही जाते होश खोकर सूकून मिल ही गया होश रखते तो खो ही जाते Read more

शेर

कोयलों को जब जब, चुप रहने का फरमान मिला है , कव्वो की काव-काव को,मधुरता का सम्मान मिला है । सतयुग हो या कलयुग हो, यह सच्चाई अटल ... Read more

इक प्यार भरी नज़र

वो मेरे अन्तर्मन को कुछ इस कदर झकझोर देती है, होठों से तो कुछ कहती नहीं, नज़रों से इस दिल को हिलोर देती है। Read more

कडवा सच

अपनी आँखों की किमत आयने से पूछो, अपने दिल की हकिकत अपने दिल से पूछो ! क्यों किसी दूसरे की गलती निकाल रहे हो, सलमान पहले जनाब अपन... Read more

इंसान की खोज।

पत्थरों के शहर में अब इंसान नजर नहीं आते, रहते हों इंसान जहाँ वो मकां नजर नही आते, थक गया हूँ ढूंढते ढूंढते एक अदद इंसान को, ... Read more

** कुछ स्याह रातें **

कुछ स्याह रातें अमां की अब और भी बाकी है ला'दे अब शराब-शबाब जो भी बाकी साकी है ।। मधुप बैरागी हुस्न क्या है ए... Read more

*** कागज की नाव ***

कभी कागज की नाव भी डूब जाया करती थी आज पत्थर के दिल भी तैरा करते हैं पानी में।। ... Read more

" शेर "

कभी पास आकर सुन लो मेरे दर्द की आह.. यूँ मीलों दूर से पूछोगे तो खैरियत ही कहूंगा .... --------- #बृज Read more

नामालूम अंदाज़

वो नाराज है निग़ाह से, या गुस्ताख़ी कोई मेरी । नामालूम जिस अंदाज़ से, निग़ाह उसने ने जो फेरी । .. विवेक दुबे... Read more

दर्द

जब लगता है जनाज़ा अरमानो का उठता है तब दर्द पिघल कर आँसुओं में ढलता है ####################### जिन्दगी के दर्द का यूँ छुपा ग... Read more

जीवन

जीवन दो धारी तलवार। नहीं जाता खाली इसका वार। - विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’ Read more

दरकार

भला किसे कब होती है, दोजख की दरकार तमोगुणी भी करता है, सुरग का इंतजार। Read more

पतवार

अपने-अपने हिस्से में है, सुख और दुख की पतवार मांझी जिसको जैसा मिला, लगा दिया भव पार। Read more

कुछ लम्हे

एक शेर बस कुछ लम्हे तेरी रवानी के। हम साथ रहे प्यासे पानी के । .... विवेक दुबे"निश्चल"@.. Read more

जिन्हें उँगली पकड़ कर चलना सिखाया ...

जिन्हें उँगली पकड़ कर चलना सिखाया, कलम पकड़ कर लिखना चाहते हैं, आज वही, बड़ा मुझसे दिखना - आनंद प्रकाश आर्टिस्ट Read more

तिरंगे से दिल्लगी

रंगों के शहर में हम थे गए ये नजरें तिरंगे से ना हटी भला और कहीं दिल देखे कहां जब देश से है हमको दिल्लगी Read more

जुनून जगाइए

यूं ही नहीं मिलती राही को मंजिल, एक जुनून जगाना पड़ता है | पूछा चिड़िया से कैसे बना आशियाना बोली धीरेंद्र बनके तिनका तिनका उठाना प... Read more

जय हिंद

ना हारने का डर है ना जीतने का ख्वाब है वतन फरोशी की खातिर यह दिल बददिमाग है Read more

प्यार

प्यार, तो मुझे आपसे आज भी है लेकिन, अब आपको पाने की चाहत खत्म हो गई है। Read more

लक्ष्य नही कोई

सेनापति भृमित है,प्यादे भी विस्मृत हैं । लक्ष्य नही कोई ,पर सैनिक घायल हैं । .... विवेक दुबे .... Read more

शौक

शौंक नहीं है मुझे अपने जज़्बातों को यूँ सरेआम लिखने का … मगर क्या करूँ , अब जरिया ही ये है तुझसे बात करने का Read more