शेर

बेपरवाहियों ने सिखा दिया

बेपरवाईयों ने सिखा दिया जीना परवाह करते तो मर ही जाते होश खोकर सूकून मिल ही गया होश रखते तो खो ही जाते Read more

शेर

कोयलों को जब जब, चुप रहने का फरमान मिला है , कव्वो की काव-काव को,मधुरता का सम्मान मिला है । सतयुग हो या कलयुग हो, यह सच्चाई अटल ... Read more

इक प्यार भरी नज़र

वो मेरे अन्तर्मन को कुछ इस कदर झकझोर देती है, होठों से तो कुछ कहती नहीं, नज़रों से इस दिल को हिलोर देती है। Read more

कडवा सच

अपनी आँखों की किमत आयने से पूछो, अपने दिल की हकिकत अपने दिल से पूछो ! क्यों किसी दूसरे की गलती निकाल रहे हो, सलमान पहले जनाब अपन... Read more

इंसान की खोज।

पत्थरों के शहर में अब इंसान नजर नहीं आते, रहते हों इंसान जहाँ वो मकां नजर नही आते, थक गया हूँ ढूंढते ढूंढते एक अदद इंसान को, ... Read more

** कुछ स्याह रातें **

कुछ स्याह रातें अमां की अब और भी बाकी है ला'दे अब शराब-शबाब जो भी बाकी साकी है ।। मधुप बैरागी हुस्न क्या है ए... Read more

*** कागज की नाव ***

कभी कागज की नाव भी डूब जाया करती थी आज पत्थर के दिल भी तैरा करते हैं पानी में।। ... Read more

" शेर "

कभी पास आकर सुन लो मेरे दर्द की आह.. यूँ मीलों दूर से पूछोगे तो खैरियत ही कहूंगा .... --------- #बृज Read more

नामालूम अंदाज़

वो नाराज है निग़ाह से, या गुस्ताख़ी कोई मेरी । नामालूम जिस अंदाज़ से, निग़ाह उसने ने जो फेरी । .. विवेक दुबे... Read more

दर्द

जब लगता है जनाज़ा अरमानो का उठता है तब दर्द पिघल कर आँसुओं में ढलता है ####################### जिन्दगी के दर्द का यूँ छुपा ग... Read more

जीवन

जीवन दो धारी तलवार। नहीं जाता खाली इसका वार। - विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’ Read more

दरकार

भला किसे कब होती है, दोजख की दरकार तमोगुणी भी करता है, सुरग का इंतजार। Read more

पतवार

अपने-अपने हिस्से में है, सुख और दुख की पतवार मांझी जिसको जैसा मिला, लगा दिया भव पार। Read more

कुछ लम्हे

एक शेर बस कुछ लम्हे तेरी रवानी के। हम साथ रहे प्यासे पानी के । .... विवेक दुबे"निश्चल"@.. Read more

जिन्हें उँगली पकड़ कर चलना सिखाया ...

जिन्हें उँगली पकड़ कर चलना सिखाया, कलम पकड़ कर लिखना चाहते हैं, आज वही, बड़ा मुझसे दिखना - आनंद प्रकाश आर्टिस्ट Read more

तिरंगे से दिल्लगी

रंगों के शहर में हम थे गए ये नजरें तिरंगे से ना हटी भला और कहीं दिल देखे कहां जब देश से है हमको दिल्लगी Read more

जुनून जगाइए

यूं ही नहीं मिलती राही को मंजिल, एक जुनून जगाना पड़ता है | पूछा चिड़िया से कैसे बना आशियाना बोली धीरेंद्र बनके तिनका तिनका उठाना प... Read more

जय हिंद

ना हारने का डर है ना जीतने का ख्वाब है वतन फरोशी की खातिर यह दिल बददिमाग है Read more

प्यार

प्यार, तो मुझे आपसे आज भी है लेकिन, अब आपको पाने की चाहत खत्म हो गई है। Read more

लक्ष्य नही कोई

सेनापति भृमित है,प्यादे भी विस्मृत हैं । लक्ष्य नही कोई ,पर सैनिक घायल हैं । .... विवेक दुबे .... Read more

शौक

शौंक नहीं है मुझे अपने जज़्बातों को यूँ सरेआम लिखने का … मगर क्या करूँ , अब जरिया ही ये है तुझसे बात करने का Read more

परिंदे ख्वाहिशों के ....

ख्वाहिशों के परिंदे अब फरफरा रहे हैं कुछ डेग भर रहे हैं ,कुछ लड़खड़ा रहे हैं । कल तक नहीं था जिन को , खुद पर यक़ीन देखो अब हौसले कि... Read more

पहली दफा

कुछ तो है ...., जो नींद मुझसे ख़फा है । है इश्क ये , या नादानी दिल की पर जो भी है , पहली दफा है ।। "स... Read more

तुम्हारी यादें........

अपनी यादों से कहो ना , मुझे नींद के हवाले छोड़ दे। भूल जाए अब मुझे , सारे रिश्ते-नाते तोड़ दे ।। :- सैयय्द... Read more

ख़ता

एक यही तो ख़ता हुई हमसे । मोहब्बत कम न हुई हमसे । एक खूबसूरत ख़ता कर बैठे । दिल लेकर उन्हें दिल दे बैठे । समझते समझौता जिसे,... Read more

इश्क़

यह इश्क़ शराब हुआ , नशा बे-हिसाब हुआ । होश नही रिंद को अब, साक़ी बे-ऐतवार हुआ । .... विवेक दुबे©... Read more

नजरे

न जाने आपकी नजरें मे ऐसी कया जादु है जब भी देखता हू, दिल मे आपके चेहरे नजर आते है। Read more

मोहब्बत, एक खुदा

मेरी मोहब्बत को साहिब, यूँ रुस्वा न कीजिए, पाक मेरी मोहब्बत, एक खुदा की तरह है। Read more

लम्हे

लम्हे ये सुहाने साथ हो न हो, कल में आज ऐसी बात हो न हो, आपसे प्यार हमेशा दिल में रहेगा, चाहे पूरी उम्र मुलाकात हो न हो। Read more

वजूद शायरी

दुनिया तेरे वजूद को करती रही तलाश, हमने तेरे ख्याल को दुनिया बना लिया। Read more

यू डूबे याद मे तेरी

यूं डूबे याद मैं तेरी मुहब्बत करके ओ जाना हमें अब और कोई गहराइयाँ अच्छी नही लगती तुम्हें ही याद कर कर के यूं आहें भरा करते तुम्हर... Read more

तुम्हें, हम इतना प्यार करते है

बदलना आता नही हमे मौसम की तरह हर एक रुत में तेरा इंतज़ार करते है ना तुम समझ सकोगे जिसे कयामत तक कसम तुम्हारी तुम्हे हम इतना प्य... Read more

मज़लूम

मजलूमों की दुआ न सही , जो "आह" ही सुन लेता मेरे मौला, तो आज इस जहन्नम की आग ना होती, किसी को भी फिर किसी जन्नत की चाह न होती । Read more

जिंदगी

हूँ होश में ............. मदहोश हूँ बहुत। ज़िन्दगी तेरे अंदाज से हैरान हूँ बहुत । .... विवेक दुबे"निश्चल"... Read more

ख्वाहिश

खुदगर्ज नहीं मेरी नज़रें पर अफसोस सदा मनाती हैं जिस पल तुम्हें मैं याद करूँ दीदार तुम्हारा चाहती हैं। Read more

मुलाकातों के चर्चे सरेआम क्या हुये

मुलाकातों के चर्चे सरेआम क्या हुये हर जगहां निगाहों के कैदखाना हुये _____________________________ बुरी नजरों के जाल इस कदर हो ग... Read more

बस प्यार अकेले तुम हो

मुझ जीव डगर के राही, इक यार अकेले तुम हो । जाने कितने ख्वाब बुना, बस प्यार अकेले तुम हो ।। Read more

शब्दों का चुरा ले गया कोई

शब्दों का चुरा ले गया कोई कागज़ को भीगो गया कोई आँखों से सपने ले गया कोई नज़र नहीं धुंधला गया कोई Laxman Singh Read more

तेरा इंतजार

लम्हा लम्हा तुझे याद करता रहता हूँ मैं... तेरी तस्वीर को ही सजदा करता रहता हूं मैं ! अब आ भी जाओ मेरे सनम.. हर घड़ी बस तेरा इंतज़ार... Read more

अभी घर से मकां के बीच का है फासला बाक़ी

अभी घर से मकां के बीच का है फासला बाक़ी तेरे आने न आने का है करना फैसला बाक़ी हैं मयख़ाने में जाम-ओ-मय-ओ-पैमाने बहुत लेकिन लबो ... Read more

कहेगे हमे

ये दुनिया ये लोग सब हंसेगे...हमे ये तो दुनिया है , ये तो व्याकुल करेगे हमे तुम इनसे कभी घबराना नहीं ए मेरी जान.. प्यार किया है ज... Read more

प्यासे को पानी

जब देखता हूँ तुझे तो औऱ प्यार हो जाता है मुझे... वो तुम्हारा पास आना दीवाना कर जाता है मुझे ! और जब लबों को अपने मेरे लबो पर रखती ... Read more

नज़र

तुम जब छत पर आती हो तो मुझे चाँद नजर आता हैं लेकिन वो तुम्हारा मुझसे नज़रे हटाना तकलीफ दे जाता है ए मेरी जान मुझे देखते ही रहा कर... Read more

शायरी

ऐसा साधु - संत न बनिए, जग हँसे और जेल हो जाय l इनके कुकृत्य ऐसे हो रहे, रावण भी पीछे छूट जाय ll Read more

शायरी

प्यार तो शाहजहाँ ने किया, मुमताज की याद में ताजमहल बनवा दिया, तू कैसा कम बख्त निकला, धन के लालच में जिंदा जला दिया ll Read more

अरमान

बडीअजीब सी बात है, जो सबका अजीज था, आज वो उदास है।। Read more

शेर

हमने टूट कर चाहना चाहा उसे जो चाहा हो गया और टूट गया लक्ष्‍मण सिंह Read more

(नींद बहुत जल्दी आती है)

मेरी कलम से... आनन्द कुमार मेरी तबियत नासाज है, या वह अब दिल में नहीं रही, बिस्तर पर जाते ही, अब नींद बहुत जल्दी आती है । Read more

एक शेर पुष्टि के साथ.

दिल के दर्द की दवा नहीं पास मेरे, हम तो "दिल ए दर्द" देते है, जिस किसी को दिल महफूज़ रखना है, "दर्द ए दिल" दवा खोज लें, . अौषधि... Read more

एक शेर

मत पूछ कि कैसे काली रात में उजाला हो गया ये दिल जला और उसके घर में उजाला हो गया लक्ष्‍मण सिंह Read more