Skip to content

Category: शेर

दुपदी
प्यार चाहते सब , नफरत का क्या काम नफरत चंद सिरफिरों की बनी बपौती है। त्रिभवन कौल ------------------------------------------- ख़ामोशी की होती है अपनी ही ज़ुबान... Read more
एहसास
Atal CHAUBEY शेर Dec 10, 2017
जो तुम यूँ मुस्कुराते हो दूर से ही देखकर हमको कैसे बताएं किस कदर हम दीवाने हुए जाते हैं। यूँ न जाया करो तुम छज्जे... Read more
अटल चौबे
Atal CHAUBEY शेर Dec 10, 2017
मौन हूँ मैं आज, नाकामी पर अपनी। वज़ह क्या है? कोई समझे, तो बोलूँ! ✍️अटल©
अटल चौबे
Atal CHAUBEY शेर Dec 10, 2017
मासूमियत का मेरे, जिसने गला दबाया है। वो चाहतें भी कभीं, मासूम हुआ करती थीं! ✍️अटल©
तीन शेर
मुझे देखो मैं बूत हूँ मन्दिर में आस्था का बतौर रस्म आवोगे तो खाली ही हाथ जावोगे। दूरी भी नहीं कोई और पासभी नहीं हैं... Read more
शे'र
शे'र ज़िंदगी जीत की मोहताज़ नहीं दोस्तों, हार में भी वो पैगाम देती है। समझ जाते हैं समझने वाले, वरना जान भी ये ही लेती... Read more
लिखावट खराब है,,,,
लिखावट भले ही खराब है जनाब,,, पर लिखता बड़ा अच्छा हूँ,,,, तुम लिखते होंगे कलम , पेन से,,, मैं जज्बात से कागज़ भरता हूँ,,,,
शायरी
Akib Javed शेर Nov 26, 2017
आशिकी छुपी हैं,तिश्नगी दिखी हैं बेखुदी जली हैं, शायरी लिखी हैं आदमी कही हैं, सादगी नही हैं रौशनी बुझी हैं,जिंदगी ढही हैं बेखुदी वही हैं,... Read more
शेर
मौत जो मांगी तो न आई तमाम उम्र अब जीने की तमन्ना है तो आई गले लगने। देने को यह जिंदगी बची। है मेरे पास... Read more
मूछ
Prashant Tiwari शेर Nov 24, 2017
मूछ होती है मर्द की शान। मूछ घोटने वालो मे नही होती है जान।। मूछ वही रखता है,जिसमे होता है दम। नामर्द के मूछ हो... Read more
शेर:- धर्म और आस्था,
धर्म की कहानियां, असंतुष्ट लोगों ने लिखी हैं, संतुष्ट लोग तो, इसमें रोजगार खोजने में लगे है, . धर्म का मार्ग तो, खुद ही आस्था... Read more