Skip to content

Category: Sahitya

जेवर-बुलंदशहर हाइवे पर हुई दुर्दान्त ह्त्या व महिलाओं के साथ हुए गैंगरेप से द्रवित होकर उपजे हुए कुछ मुक्तक...
जेवर-बुलंदशहर हाइवे पर हुई दुर्दान्त ह्त्या व महिलाओं के साथ हुए गैंगरेप से द्रवित होकर उपजे हुए कुछ मुक्तक... हाइवे पर हैं दरिन्दे, लूटते जो... Read more
दोहा
मीन -मेख भारी पड़ा, झेल रही दुःख त्रास. व्यथित स्वार्थी भावना,भावुक हुआ उदास.. --इंजी० अम्बरीष श्रीवास्तव 'अम्बर'
दोहा
समसामयिक दोहे: प्लाटिंग मौरंग उत्खनन, सभी गया जो छूट. आय बंद सो हो रहे, मर्डर रेप व लूट.. गुंडे कातिल माफिया, अतिशय सक्रिय आज. एकमात्र... Read more
डॉ० विश्वनाथ मिश्र के प्रति ...
स्नेहभाव पूरित हृदय, सरल सौम्य व्यवहार. विश्वनाथजी नित्यप्रति, बरसाते थे प्यार.. शुचि संस्कारित शुद्ध मन, त्याग समर्पण भाव. अति विनम्र गंभीरता, मोहक मृदुल स्वभाव.. हमें... Read more
समसामयिक कुंडलिया छंद
___________________________________ सरिया बिन छत डालते , करते रहे कमाल। कहलाते इंजीनियर मिस्त्री वंशीलाल। मिस्त्री वंशीलाल, आत्मविश्वासी इतने। ढाली अपनी स्लैब, बिना प्रबलन ही उसने। बीते... Read more
हमारे प्रिय पुत्र भूषण के जन्म दिवस पर ...
मंगलमय हो जन्मदिवस यह, स्नेहपूर्ण रसधार मिले। गुरुजन का आशीष रहे, माँ सरस्वती से प्यार मिले।। जीवनपथ हो ज्ञान प्रकाशित हो विनम्र मुखमंडल शुचि, कर्मक्षेत्र... Read more
मुद्रा का अपमान..
सिक्के घर रख आइये, सबसे मिलता ज्ञान. बाजारों में हो रहा, मुद्रा का अपमान.. मुद्रा के अपमान से, सिक्का रोये एक. अब कोई लेता नहीं,... Read more
शिक्षक दिवस
शिक्षक दिवस जिनके आशीषों से हम सब जीवन में रँग भरते हैं. वे शिक्षकगण गुरुवत निशिदिन कष्ट हमारे हरते हैं. संयम, कठिन परिश्रम, धीरज, अनुशासन... Read more
पीर हिन्दी की....
हिन्दी मुक्तिका ___________ मित्र उर्दू सुपोषित हरित हो गयी, कामना स्वार्थपरता फलित हो गयी, आज हिन्दी दिवस आ गया साथियों, मातृभाषा पुनः अब व्यथित हो... Read more
भारत रत्न लौह पुरुष सरदार पटेल के प्रति ..
भारत रत्न लौह पुरुष सरदार पटेल सिंह समान गर्जना स्वर में किन्तु हृदय अति कोमल था. आँधी जैसी चाल तुम्हारी, साथ तुम्हारे दल-बल था. मानचित्र... Read more
★जीत हासिल होते ही सफेद पोशाखी नेताओ के तेवर बदल जाते हैं★
Sonu Jain कविता Dec 14, 2017
*जीत हासिल होते ही सफेद पोशाखी नेताओ के तेवर बदल जाते है* ★ अपने नाम और पार्टी के परचम फेराते फिरते है,, भोली भाली जनता... Read more
पुनर्निर्माण
इस जग को दरकिनार कर संपूर्णता का निःशेष श्रृंगार कर खुद को रोज मिटाता हूँ हर दिन नया बन जाता हूँ चाहता हूँ घरद्वार बदलना... Read more
माँ
समय की घड़ी दिखाकर माँ मुझको समझायी तो थी एक एक घड़ी जीवन की इकाई है बतलायी तो थी; तब हमने माँ के हर इशारो... Read more
~* मुक्तक *~
विरह वेदना सही ना जाये, आ जाओ मन मीत l हम तुम दोनो मिल कर गायें, प्रेम प्रीती के गीत l तुम बिन सूनी मन... Read more