लेख

एक मुलाकात

अनजान रास्ते और एक मुलाकात । दो पल की बाते और जन्मों का साथ ।। बने होंगे ऐसे भी रिश्ते जो इस क़दर मिले होंगे । किसी डगर पर दोनों ... Read more

टूटते ख़्वावों का ताना बाना

टूटते ख़्वावों का ताना बाना मैं 9 या 10 वर्ष का रहा हूंगा, पिताजी परिवार सहित बिलराम से कासगंज शिफ्ट हुए। मुझसे तीन वर्ष बड़ी बहिन... Read more

माता वैष्णो देवी धाम

माता वैष्णो देवी धाम दर्शन जून के महीने में धूल भरी लू चल रही थी। दोपहर के वक्त लोग घरों में ही कैद हो जाया करते हैं। हम भी अपने ... Read more

आधुनिकता

आधुनिकता तो एक सोच है, एक विचार है, जो व्यक्ति को इस दुनिया के प्रति अधिक जागरूक व मानवीय दृष्टिकोण से जीने का सही मार्ग दिखलाती है।... Read more

गाए

हिन्दू धर्म में गाए हमारी माता होती है। गाए माता होने के साथ साथ घरेलू जानवर भी है। गाए का पौस्टिक दूध हमें स्वस्थ रखता है। गाए का प... Read more

ऐसी बातें जो पालकों को अपने बच्चों से कभी नहीं कहनी चाहिए

नमस्कार माननीय पाठकों । मेरा यह मानना है कि सभी माता-पिता अपने बच्चों का पालन-पोषण करने के साथ ही इसी कोशिश में लगे रहते हैं कि ... Read more

मेधावी विद्यार्थी के लक्षण

मेधावी विध्यार्थी के लक्षण मेरे विचार से मेधावी छात्रों की मुख्यत : तीन श्रेणियाँ होती हैं । प्रथम श्रेणी उन विध्यार्थियों की है ज... Read more

भीम आर्मी चीफ चंद्रशेखर आज़ाद !

"ईमान बेच कर जो सियासी मंडी में, सत्ताधीशों को माई-बाप लिखते हैं खबरों की उस मंडी को, इस कलिकाल का अभिशाप हम कहते हैं !" भीम ... Read more

स्त्री सरिता सादृश्या

"स्त्री सरिता सादृश्या" ' गो विद द फ्लो' अर्थात जैसा वक़्त आये, उसके संग -संग बहो.. क्या सचमुच हम ऐसा कर पाते हैं?या इस उक्ति को ... Read more

मुस्कुराते हुए करें बाधाओं का स्वागत

प्रत्येक मनुष्य अपने जीवन मे अनगिनत बाधाओं का सामना करता है।बाधाएं हमारी राह में आने वाली वो रुकावटें हैं जो हमें आगे नही बढ़ने देतीं... Read more

गिद्ध हैं सारे के सारे !

ये जो बंगाल में हो रहा है, क्या वो हमारे मतलब का है ? है ही लोकतंत्र पर ये बड़ा सबाल है। और हम इस लोकतंत्र के अहम हिस्स्से। तो मतलब... Read more

कुछ भुली-बिसरी स्कूल की बचपन की यादें - रामश्री आया के घर के विशेष यादगार पल

इस समूह के सभी पाठकों को मेरा प्रणाम और आप लोग मेरे सभी लेख, कविताएं और कहानियां पढ़ने में भी अपनी दिलचस्पी दिखा रहे हैं, उसके लिए... Read more

हमारे प्रधान सेवक !

हमारे प्रधान सेवक ठान कर बैठे हैं कि झूठ का सर झुकने नहीं देंगे। गज़ब-गज़ब झूठ बोलते हैं भाई बड़े से बड़ा झूठा पानी मांगे उनके आगे। अब क... Read more

प्रेरणा

प्रेरणा, यह शब्द सभी जानते है पर इसका मतलब बहुत कम लोग जानते हैं। तुम जो भी काम करते हो उसका कारण है प्रेरणा। तुम्हारे हर व्यवहा... Read more

सीखना

जियो एसे जैसे कल तुम मर जाओगे, सीखो ऐसे जैसे तुम अमर रहोगे। -महात्मा गांधी सीखना, इसने यहाँ एक बहुत बड़ा मतलब अौर महत्व इस ए... Read more

तबीयत खराब होने पर भी अपने शिशु को स्तनपान करा सकती है "मां"

इस समूह के समस्त सम्माननीय पाठकों को मेरा प्रणाम । आज में आपको दूध पीने के फायदों के बारे में कुछ उपयोगी जानकारियां इस लेख के माध... Read more

किसानों की समृद्धि का लक्ष्य

भारत एक कृषि प्रधान देश है यहां की 60% से अधिक आबादी प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से कृषि पर निर्भर है। परंतु ढांचागत व्यवस्था में कम... Read more

ब्रिटेन में एक महिला ने एक साथ तीन बच्चों को जन्म दिया, इनमें जुड़वा भी

जी हां पाठकों मेरा प्रणाम । कैसे हैं आप सब ?एक नयी जानकारी से अवगत कराने फिर उपस्थित हूं । मेडिकल के इतिहास में एक अनोखा मामल... Read more

शाश्वत-नश्वर

बेदर्दी एक शाश्वत सत्य है। बाकी सब नश्वर असत्य है, बेदर्दी सत्य को तुम सब जितना जल्दी स्वीकार कर लो, उतने ही तुम सुखी, शांत और स... Read more

आज का सच

सच कहूं दोस्तो पुरुषों के साथ तो भगवान भी अन्याय किये हैं, जब हम महिला पुरुषों पर कविता लिखने को सोचते है तो हमको लगता हैं कि भगवान... Read more

एहसास

एक एहसास जो भूला नही सकता, मित्रों मेरा एक दोस्त शिवाजी नगर पुणे का है अतुल नादे उसकी शादी हो गया था एक माह पूर्व उस समय मैं था नही... Read more

नया नौ दिन पुराना सौ दिन

चार दिन विदेश धूमने के बाद स्वदेश लौटने पर माँ के हाथ की करारी रोटी और दाल, नए नए रंग होने के बावजूद दुलहन का लाल जोड़ा ,करवा चौथ प... Read more

मेरा बचपन

फुरसत के पलों में कभी कभी जब अपने जीवन के अतीत की कुछ घटनाओं की याद करता हूँ तो अपने ऊपर हंसी आती है, खुशी भी मिलती है और मन यकायक क... Read more

लुम्बिनी : एक शान्ति स्थल

कार्ल मार्क्स ने कहा था कि "धर्म अफीम के समान है।" धर्म की परिभाषा व्यक्ति विशेष के विश्लेषण पर निर्भर करती है। परिभाषा चाहे जो हो ध... Read more

कुछ बातें अपने तक ही रखें तो आपके रिश्ते में कोई समस्या नहीं आएगी

इस समूह के समस्त पाठकों को मेरा प्रणाम । एक रिश्ते में बहुत सी बातें ऐसी होती हैं, जिन्हें दूसरों की नजरों से बचाकर रखना ही बेह... Read more

रीति रिवाज

सुलेखा खुले विचारों की लडकी है । वह परम्परागत रीति-रिवाजों को आँख बंद करके नहीं मानती थी हर बात में तर्क ढूढती है और उसी के अनुसार न... Read more

विचार-मंथन

आदमी हमेशा कुछ समझाने की कोशिश करता है, यद्यपि वह समझने की कोशिश करता है.. लेकिन आफत पड़ने पर, और उसे कामयाबी मिलती है, लोकतंत्... Read more

पस्त पड़ती पतंगों की परवाज

सुई.... ई... ई...! आई नीचे! हुर्र.... चढ़ जा उपर। खींच मंझा खींच। नक्की कटे न पाये। ढील और ढील। थोड़ा बायें। एकदम दायें लाओ। जा मेरी... Read more

मोबाइल और सनम

मेरे प्यार को यारों दे दिया तलाक़ उसने, और दिल के अरमां को कर दिया हलाक़ उसने ! सोचा फोन पे उनसें थोड़ी गुफ़्तगू कर लूं , ... Read more

अमीरी औऱ गरीबी

हजारों रंग के साये जहाँ बिखरे हुए थे।। जहाँ रंगीनियों के फूल बस निखरे हुए थे। । वही देखा मुरझाये हुए कुछ फूल गरीबों के , जो अमीरे... Read more

 शारीरिक मजबूती एवं विकास हेतु कैल्शियम अति-आवश्यक व लाभदायक

इस समूह के समस्त सम्माननीय पाठकों को मेरा प्रणाम । आज इस लेख के माध्यम से यह बताना चाहती हूं कि महिलाओं के स्वास्थ्य के लिए कै... Read more

मेधावी विध्यार्थी

मेधावी विध्यार्थी के लक्षण मेरे विचार से मेधावी छात्रों की मुख्यत : तीन श्रेणियाँ होती हैं । प्रथम श्रेणी उन विध्यार्थियों की है ज... Read more

नया साल

जा रहा है पुराना साल इक नया साल आ गया, साल तो बदल गये पर हम नही बदल सकते, आ गया नया साल चारों तरफ खुशियां नया साल मनाने को, पर वक... Read more

रात हो

हर किसी की ख्वाहिश होती है उसके पास अपार धन दौलत सच्चा प्यार हो, बेदर्दी की ख्वाहिश सबसे अलग मैं चाहूँ गम तन्हाई और अंधेरी रात हो, Read more

माँ

सच है यारों जबसे माँ से जुदा हुआ, मुस्कराना भूल गया, बन बैठा गम का खुदा, खुद से ही दूर हुआ, Read more

देता है

कौंन कौन ईर्ष्या और नफरत करता है बेदर्दी से, बेदर्दी तो सबका दर्द ले खुशियों ही देता है। Read more

सत्य

हमारे जन्म लेते ही हमारे माता पिता आगे तक की योजना बनाने लगते हैं,तो सोचो परमपिता ने हमें जन्म देते ही कोई योजना तो बनाई होगी। Read more

अालस

आजकल तो ऐसा लगने लगा है जैसे आलस लोगों के टाइम टेबल में ही शामिल हो गया है। वैसे सब लोग तो अलसी नहीं है। मगर वो भी है। हैरानी हो रही... Read more

पकना भी जरूरी है !

जिस तरह एक सिक्के के दो पहलु होते है, उसी तरह हर शब्द के दो अर्थ होते है । एक बार एक महाविद्यालय में एक कार्यक्रम का आयोजन हुआ । कार... Read more

प्रेम-एक अलौकिक अनुभूति।

ईश्वर द्वारा प्रदत्त वह अलौकिक अनुभूति जो आदिकाल से प्राणी मात्र के पारस्परिक संबंधों को प्रगाढ़ करने में सबसे अधिक मजबूत डोर का कार... Read more

भारत का असन्तुष्ट युवा

भारत का असन्तुष्ट युवा ( आलेख ) ---------------------------- भारत विश्व का सबसे बड़ा युवा वर्ग रखने वाल... Read more

"क्षण भर जीवन मेरा परिचय।"

वे अपना परिचय कुछ इसी तरह से दिया करते थे - - "मिट्टी का तन मस्ती का मन क्षण भर जीवन मेरा परिचय।" जी हाँ, मैं यह सुप्रसिद्ध कवि व स... Read more

नवागंतुक एवं परंपराऐ

लेख:- ----------------------------------------- "नवागंतुक एवं परंपरायें" --------------------------- कु... Read more

शुक्रिया ज़िंदगी

Kapil jain लेख Jan 12, 2019
शुक्रिया ज़िंदगी आज मेरी उम्र ने एक कदम और बढाया है, जो भी जीवन पथ पर मिले उन सभी का शुक्रिया अदा करता हूँ, जीवन में बहुत स्न... Read more

विश्व हिन्दी दिवस - हिन्दी का महत्व

राजभाषा हिन्दी हर देश को अपनी भाषा , संस्कृति एवं धरोहर पर गर्व होता है भारत पर चूंकि अंग्रेजों ने कयी साल राज किया था इसलिए भारतव... Read more

आरक्षण की राह और चुनौतिया

संविधान सभा से लेकर संसद तक आरक्षण एक ऐसा ज्वलंत मुद्दा है जो हमेशा विवादों के घेरे में रहा है। क्योंकि इससे सरकारी संस्थाओं की गुणव... Read more

"स्वच्छ भारत स्वस्थ भारत "

यह नारा दिया हमारे प्रधानमंत्री जी द्वारा और यह स्वच्छता संबंधी कार्य कलापों के परिदृश्य भी समय समय पर देखने को मिल रहे हैं परन्तु य... Read more

दाम्पत्य जीवन में खुशियाँ

दाम्पत्य जीवन को सुखी और सान्नद बनाने में पति पत्नी के बीच आपसी सहमति और सुविधा से सेक्स संबंध आवश्यक हैं। स्वस्थ सेक्स संबंधों स... Read more

खुद को अभिव्यक्त करने के लिये पढ़ें

स्वप्न दो किस्म के होते है, एक जिनको हकीकत में बदला जा सके, दूसरे जो सिर्फ खयाली पुलाव हो, विचारों के साथ भी कुछ ऐसा ही है, एक... Read more

गोपाल दास 'नीरज' (गीत ऋषि)

न फिर सूर्य रूठे, न फिर स्वप्न टूटे, ऊषा को जगाओ, निशा को सुलाओ। दिये से मिटेगा न मन का अँधेरा धरा को उठाओ, गगन को झुकाओ। हि... Read more
Sahityapedia Publishing