लघु कथा

***साइकिल की शानदार सवारी ***

🏵 *प्रथम पाठशाला*🏵 *साइकिल की शानदार सवारी* बात उन दिनों की है जब मैं सन 1970 में प्रथम पाठशाला याने आज की *प्री नर्सरी* उस जमाने ... Read more

बर्थडे सेलीब्रेशन

‘टाफियों के पैकेटों को छोड़ कृपा कर इन सभी उपहारों को वापिस ले जायें’ अध्यापिका ने अत्यन्त विनम्रता से उस धनाढ्य पिता से कहा था जो अप... Read more

समझदार रीना

मयंक की शादी हो गयी थी वह रीना के साथ पुणे आ गया था । दोनों विप्रो कम्पनी में इंजीनियर है । सब ठीक चल रहा था इसी बीच मयंक की माँ रम... Read more

स्टैंडर्ड

स्टैंडर्ड ‘नितिन, तुम पार्किंग में से गाड़ी लेकर बस स्टैंड के पास आओ, मैं वहीं पहुंचती हूं’ राधिका ने कहा। ‘ठीक है’ कह कर नितिन गा... Read more

अम्मा जी का आशीर्वाद

कड़ाके की ठंड थी , सब गरम कपड़ो में अपने को ढके थे । अचानक अम्मा जी को निमोनिया हो गया था , और उन्हें अस्पताल में भरती कर दिया ... Read more

खरपतवार

खरपतवार ‘मम्मी, देखो तो वह लड़की उस छोटे से रिंग में कैसे पूरी निकल गई’ लाल बत्ती पर रुकी कार में बैठी वृतिका अचानक चिल्लाई। उसके... Read more

बेटी का दर्द

संगीता दो दिन से परेशान और तनाव में है । दो महीने पहले तो उसकी शादी हुई थी और आज वह मायके आयी है । मान्या ने जो भी बताया उससे सं... Read more

कुत्ता

लघुकथा शीर्षक - कुत्ता =============== देखते-देखते गाँव के लगभग सभी श्वान एकत्रित हो गए। -" क्यो कलुआ क्या हुआ किस लिए पंचायत बु... Read more

वृद्धजन - एक मिसाल

"तोरा मन दर्पण कहलाए ,," की स्वर लहरियां ढोलक की थाप के साथ कानों में अमृत घोल रही थी । मैं सुबह घुमने निकला था । घर से दस मकान... Read more

*** " बचपन की यादें "***

*बचपन की यादें * हमारे पापा हमेशा कभी झिड़कते तो कहते कोई पैसा पेड़ पर लगता है क्या और मंझली बहन सविता ये सोचती एक दिन माँ से पूछा ... Read more

***आकाश का परिन्दा ***

।। आकाश का परिंदा ।। पृथ्वी में तीन तरह के जीव जन्तु होते हैं ,नभचर स्थलचर ,जलचर । नभचर में पक्षी ,स्थलचर में मनुष्य पशु ,जलचर मे... Read more

*संयोग .....शुभ मुहूर्त का **

।।ॐ परमात्मने नमः ।। ***संयोग ... शुभ मुहूर्त का *** रमेश के घर में शादी थी घर छोटा होने के कारण मेहमानों को रुकने की व्यवस्था बाह... Read more

**क़ुदरत का करिश्मा ***

।।ॐ श्री परमात्मने नमः ।। ***" कुदरत का करिश्मा "***🌿🌾🍃 श्वेता के घर के पास घना जंगल है जहाँ प्राकृतिक नजारों के साथ बहुत स... Read more

मेरा मकान , मेरा प्यार

" अब मैं क्या करूँगा , कैसे समय गुजारूँगा ? आफिस में तो काम करते चार लोगों से बात करते समय का पता ही नही चलता ।" रामलाल जी आज अ... Read more

लघुकथा

जिम्मेदारी ( लघुकथा) हैलो सुधा, माँ ने अपनी बेटी को फोन करके पूछा- बेटा ऑफिस से कितने बजे निकलोगी? सुधा ने माँ को उत्तर दिया- माँ,... Read more

लघुकथा

पन्द्रह दिन बाद ( लघुकथा) ------------------- मैंने अपने मित्र कमरुद्दीन को ईद की बधाई देने के लिए सुबह नौ बजे के आस-पास फोन लगाया... Read more

लघुकथा

सन्नाटा (लघुकथा) ऑफिस में गार्ड की नौकरी करने वाले राम बाबू को उदास बैठे देखकर मैंने पूछा- क्या हालचाल है रामबाबू? तबियत तो ठीक है?... Read more

लघुकथा

आहट (लघुकथा) ----- शाम को चाय पीते वक्त जब तारा ने अपनी सास की साँस फूलती हुई देखी तो कहा- अम्मा जी आप अपने खान-पान का ध्यान रखा क... Read more

लघुकथा ~विधाता के लेख~

लघुकथा ~~~~~ विधाता के लेख सूरज अपने उदय होने का संकेत तो दे रहा था, परंतु कोहरे के बीच कुछ भी दिखाई नही दे रहा था,तभ... Read more

#*#*इंसानियत *#*#

* ॐ नमो भगवते वासुदेवाय * ***" इंसानियत "*** तेजी रफ्तार से एक व्यक्ति बाईक में चले जा रहा था गाड़ी चलाते समय हेंडिल में एक पालीथीन... Read more

लघुकथा~चांदी~

लघुकथा ~ चांदी ~ पार्टी में हर किसी की नज़रे आशा पर टिकी थी।हर कोई उसके नये रूप की चर्चा कर रहा था। हमेशा बंधी चोटी और साधारण सी स... Read more

दहेज प्रथा कब तक चलेगी ? (नाटिका)

नाटक का नाम – दहेज प्रथा कब तक चलेगी ? नाटक के पात्रों के नाम –: लड़के की दादी का नाम-जानकी देवी, लड़के की माता का नाम- सुशिल... Read more

लघुकथा

रूप बड़ा या गुण...?? *********************** तू मर क्यों न जाती कलमुँहीआखिर यूँ कबतक हमारे सीने पर मूंग दलती रहेगी माँ के ये शब्द क... Read more

भेड़िये

मम्मी भेड़ियों के चार पैर नुकीले नाखून होते है ना। तीनसाल की अनन्या ने मासूमियत से पूछा संगीता ने कहा : "बेटा वह तो जंगल में रहत... Read more

एक लघु कथा ---आर के रस्तोगी

एक बार एक कागज का टुकड़ा हवा के वेग से उड़ा और एक पर्वत के शिखर पर जा पहुँचा | पर्वत ने उसका बड़े आदर से उसका स्वागत किया और कहा," भाई ... Read more

चिंता दूर हुई

घर में खुशी का माहौल था , सतीश की बैंक में नौकरी लग गयी थी लेकिन नियुक्ति उसे नागपुर में मिली थी । रमा देवी यह सोच कर परेशान थी कि... Read more

एक सच्ची लघु कथा --आर के रस्तोगी

मेरी पत्नि ने कुछ महीने पहले घर की छत पर कुछ गमले रखवा दिए थे और एक छोटा सा बगीचा बना लिया था पिछले दिनों मै छत पर गया तो ये देख ... Read more

दूसरी जोड़ी!!

आकाश ने आज घर की एक पुरानी आलमारी खोली, बहुत सारे पुराने समान निकले पर एक समान ऐसा निकला जिसे देखकर उसके चेहरे पर मुस्कान आ गई, उसके... Read more

हादसे बचाव

सूरत हादसा एक सबक फायर ब्रिगेड वालो को जाल रखने चाहिए नीचे फैला कर उसमे कूदने वालो को झेलना चाहिए इससे बहुत लोग बच जाऐगे व... Read more

एक सच्ची घटना ---आर के रस्तोगी

पिछले दिनों हमारे मेरठ शहर में एक प्रसिद्ध ज्योतिषी व विद्वान जो देहरादून के रहने वाले है का आगवन हुआ जिनकी भविष्यवाणी काफी सही न... Read more

बुद्ध पूर्णिमा और भगवान बुद्ध का जीवन परिचय --आर के रस्तोगी

बुद्ध पूर्णिमा को बैशाख पूर्णिमा भी कहते है क्योकि यह त्यौहार हिंदी माह बैशाख की पूर्णिमा को मनाया जाता है | यह गौतम बुद्ध जी की जय... Read more

बच्चों की ज़िद ( बाल लघुकथा)

दिनांक 15/5/19 सुमि सुबह उठ कर रोज रोती और ज़िद बहुत करती थी । उसके सुबह सुबह रोने से सब परेशान हो जाते थे । एक दिन सुमि की... Read more

गांव की पहली " TV "

आज गांव के हर गलियों में सन्नाटा पसरा था, रोज बड़ी चहल पहल रहती थी, कहीं बच्चे कंचे खेलते हुए, कहीं गिल्ली डंडा तो कहीं लड़कियों का ... Read more

एक अहसास:- मां ना होने का।

रजनी काकी सुबह होते ही पूरे गांव के एक चक्कर तो लगा ही लेती थी। कभी इसके घर कभी उसके घर, अपने घर में अकेली जो थी। मरद चार साल पहले च... Read more

निर्णय

लघुकथा शीर्षक - निर्णय =================== सजा हुआ पंडाल , सामूहिक विवाह का कार्यक्रम, और सौ जोड़े दुल्हा दुल्हन आकर्षक परिधानों... Read more

सूझबूझ:- एक डॉक्टर की

इस चुनाव के गरमा गरम माहौल में सभी नेता गण अपने अपने कार्यकर्ताओं के साथ जनता को लुभाने में लगे हैं और दिन रात मेहनत कर रहे हैं क्यो... Read more

पत्ता परिवर्तन

वह ताश की एक गड्डी हाथ में लिए घर के अंदर चुपचाप बैठा था कि बाहर दरवाज़े पर दस्तक हुई। उसने दरवाज़ा खोला तो देखा कि बाहर कुर्ता-पजामाध... Read more

सीमित दायरे

लघुकथा शीर्षक - सीमित दायरे ======================== - " माँ मै उस वहसी दरिंदे के साथ एक पल भी नहीं रह सकती,,, मुझे रात दिन टॉर्... Read more

"धैर्य एवं संयम का बांध" (लघुकथा )

आज फिर से तुम देर से कार्यालय आ रही हो वर्षा, अधिकारी ने वर्षा से डांटकर कहा । तुम्हें मालूम नहीं है ?? कितना सारा कार्य पूर्ण करना ... Read more

अजेय

लघुकथा शीर्षक - अजेय ====================== निर्मला मेमोरियल हॉस्पिटल का उद्घाटन, सेठ रघुनंदन प्रसाद अपनी डॉक्टर बेटी के हाथो से ... Read more

राजा को मिली लाभदायक उचित सलाह

राजा को मिली लाभदायक उचित सलाह जी हां, पाठकों जो कहानी बचपन में दादी-नानी से सुनी है, उसे अपने शब्‍द रूपी माला में पिरोते ह... Read more

संस्मरण (हास्य) नारदमुनी दोस्त

दिनांक 13/4/19 बात आज से 45 साल पुरानी है । मैं भोपाल में 9 वी में पढता था । स्कूल से कुछ दूरी पर सिनेमा हाल था , उस समय ... Read more

"विश्वास"

"विश्वास" . . . ट्रेन तेज रफ्तार से गुजर रही थी। गझण्डी टीसन के सिग्नल पर ट्रेन धीमी हुई तो खिड़की से बाहर झांक कर देखा ... Read more

आत्म-विश्वास, आत्म-सम्मान व आत्म-अनुशासन से सब कुछ हासिल # हौसले की उड़ान#

जी हां पाठकों मैं आज आपको ऐसी कहानी से वाकिफ करा रही हूं जो आपकेे हौसले की उडान को भी और बुलंद कर देगी । कहानी सच्‍ची घटना पर आधारि‍... Read more

सत्ता परिवर्तन

लघुकथा शीर्षक - सत्ता परिवर्तन =================== शादी के एक साल बाद मायके आयी थी सरला , उसकी सहेलियाँ और मौहल्ले की औरते, उसकी... Read more

जीवन में पुस्तकें

दिनांक 5/4/2019 आज मैं टी वी देख रहा था । तभी अलमारी में रखी पुरानी पुस्तक ने कहा : " क्या हमें भूला दिया ? ऐसे रख दिया यहाँ... Read more

अटल फैसला

लघुकथा शीर्षक - अटल फैसला ================= सुबह से शाम हो गई लेकिन नेहा के चेहरे पर, रवि ने मुस्कुराहट न देखी जो कॉलेज के दिनों... Read more

जन्मकुंडली

आज चोपड़ा जी आरती बिटिया को विदा कर के निश्चिंत हो गये थे। हों भी क्यों न यह शादी उनकी इच्छानुसार हुई थी। रमेश अरोरा के होनहार सुपुत... Read more

संतुलन

आज सरयू जंगल का माहौल ग़मगीन था। जंगल के राजा बब्बर शेर सूमो का बेटा, जंगल का राजकुमार डिमो गंभीर रूप से घायल था। उसके माथे, छाती और ... Read more

दूसरा बच्चा

कार गति से जा रही थी । रामलाल अपनी बेटी संगीता को एमबीए में प्रवेश दिलवाने लखनऊ ले जा रहे थे। अचानक कार हिचकोले लेने लगी रामला... Read more