लघु कथा

इंटरव्यू

आज कॉलेज में एक कंपनी आने वाली है। हफ्ते भर पहले से ही बहुत जोर - शोर से तैयारियां हो रही थी। ट्रेनिंग एंड प्लेसमेंट सेल ने तो पूरे... Read more

पकड़

लघुकथा शीर्षक - पकड़ ======================== सड़क पर हो रहे तमाशे ने मुझे अपनी और आकर्षित किया, तो मै उस ओर खिंचता हुआ अनायास ही... Read more

परिवार

परिवार एक गांव में सोनुराम नाम का वृद्ध रहता था।उसके नौ बेटी और चार बेटा रहता है ।परिवार बहुत बड़ा था। परिवार का लालन पालन खेती म... Read more

पेड़ को न काटो

कहानी- पेड़ को न काटो लेखक - डिजेन्द्र कुर्रे (शिक्षक) एक छोटा सा गाँव की कहानी है।जहाँ लगभग500 लोग निवास करते थे।चारो तरफ हरियाल... Read more

आहट (लघुकथा)

आहट (लघुकथा) ----- शाम को चाय पीते वक्त जब तारा ने अपनी सास की साँस फूलती हुई देखी तो कहा- अम्मा जी आप अपने खान-पान का ध्यान रखा क... Read more

सन्नाटा (लघुकथा)

सन्नाटा (लघुकथा) ऑफिस में गार्ड की नौकरी करने वाले राम बाबू को उदास बैठे देखकर मैंने पूछा- क्या हालचाल है रामबाबू? तबियत तो ठीक है?... Read more

माँ का गणित (लघुकथा)

माँ का गणित --------- दोपहर दो बजे चिलचिलाती धूप में चार किलोमीटर साइकिल चलाकर जब मोहन घर पहुँचा तो देखा माँ पहले से पानी का ग्ला... Read more

भटकता बचपन ( लघुकथा)

भटकता बचपन नव्या ज्यों ही ट्यूशन पढ़कर अपने घर के दरवाज़े पर पहुँची,पड़ोस में रहने वाला चार साल का बच्चा-प्रखर दौड़ता हुआ उसके पास... Read more

आइना (लघुकथा)

आइना दरवाजे की डोरबेल बजी तो भानु ने अपनी मम्मी से कहा-लगता है, दरवाजे पर कोई आया। उसकी माँ ने कहा-बेटा जाकर देखो तो कौन है ? ... Read more

ऊँचाई ( लघुकथा)

ऊँचाई (लघुकथा) विशाल के पिता की आर्थिक स्थिति ठीक न होने के कारण पढ़ाई-लिखाई में उसे काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ता था। वह समय ... Read more

अंतर सोच का (लघुकथा)

अंतर सोच का ----------- विद्युत विभाग में नौकरी लगने के बाद गाँव से लखनऊ आकर बसे वर्मा जी जिनके दो संतानें थीं - पहली बेटी,जो बड़ी... Read more

कविता पर टैक्स (लघुकथा)

कविता पर टैक्स- -------------------- विद्रोही जी ने सरस जी को फोन किया और कहा-अरे सरस जी,ज़रा टी.वी.खोलो और समाचार चैनलों पर चल ... Read more

बेड़ा गर्क ( लघुकथा)

बेड़ा गर्क- -------------- हैलो ,हैलो,सीमा ने चहकते हुए अपनी सहेली यामिनी से फोन पर कहा - आज मैं बहुत खुश हूँ। यामिनी- वह तो तुम्... Read more

फ़र्क (लघुकथा)

फ़र्क- मेधा को अपने मायके से आए हुए अभी एक घंटा ही हुआ था कि फोन की घंटी बजी।मेधा ने फोन उठाया-हैलो, कौन?उधर से आवाज़ आई,बहू मैं आप... Read more

राम जी का सपना (लघुकथा)

राम जी का सपना ----------------------- ब्रह्म मुहूर्त में पवनपुत्र ने कहा-प्रभु उठो।क्या हो गया आपको?पवनपुत्र की आवाज़ सुनकर प्रभु... Read more

आँचल ( लघुकथा)

लघुकथा- आंचल भव्या दो बजे स्कूल से आकर अपनी माॅम के आॅफिस से घर वापस आने का बेसब्री से इंतजार कर रही है क्योंकि उसे अपनी माँ से ... Read more

काला खून

काला खून -------- शाम को रामलाल अपने साहब मुखर्जी से मिलने के लिए चला तो उसका दस साल का पुत्र रमेश भी उसके साथ चल दिया ।मना करने... Read more

रेडीमेड नुस्खा

रेडीमेड नुस्खा (लघुकथा) बनवारी लाल मस्ती में झूमते हुए मार्निग वाॅक कर रहे थे, तभी उनकी मुलाकात परम मित्र सूरजमल जी से हुई, जो कुछ... Read more

छुट्टी

छुट्टी -------- रविवार को जब सुबह के 9 बज गए तो सुधा ने अपने पति राकेश को जगाते हुए कहा, अजी उठो भी अब, कब तक सोते रहोगे? राकेश ... Read more

नियत

पिता लकवा ग्रस्त थे, गर्मियों की रात थी प्यास से व्याकुल थे । पास ही सो रहे बेटे को जगाना चाहा, लेकिन बेटा आवाज सुनकर भी नही उठा औ... Read more

व्यवस्था और जनप्रतिनिधि

लघुकथा ******* आज सुबह करीब 9 बजे बेटे हर्ष को लेने. जिसने मैराथन दौड़ में हिस्सा लिया था. हुड्डा ग्राउंड जाना हुआ, वहीं पर एक ... Read more

पढ़ाई का महत्व

"पापा मैं पढ़ना चाहता हूँ " मयंक ने कहा । रामदास ने कहा : " बेटा जूतों पर पालिश करना और जूते चप्पल सुधारना अपना पुश्तैनी काम है ... Read more

सुनहरे सपने

निशि बहुत अच्छा गाती थी। ढोलक भी अच्छी बजाती थी। मम्मी घरों में चौका बर्तन करती थी। निशि को वो स्कूल पढ़ने भेजती थी । लेकिन किसी के ... Read more

अनजान व्यक्ति का अनजान पते पर खत

अनजान व्यक्ति का अनजान पते पर खत------ -----------------कहानी--------------------------- चावल रंगी सी सुशील और सुन्दर, कद में लं... Read more

अभिशाप (लघुकथा)

अभिशाप सुबह-सुबह जब ज़मील ने अपने पड़ोस में रहने वाले हरचरन सिंह को देखकर उनसे दुआ-सलाम की तो हरचरन सिंह ने बड़े बुझे मन से उत्तर द... Read more

"असली सांता क्लॉज" ( क्रिसमस पर लघुकथा)

एक समय की बात है, इंदौर शहर के समीप राजेंद्रनगर की एक बस्‍ती में किरण नामक लड़का अपने पिताजी के साथ रहता था । उसकी परवरिश मध्‍यम परि... Read more

परिपक्वता

पापा के दोस्त और बेटे के दोस्त, एक लघुकथा जो परिपक्वता पर आधारित, एक रात मैंने अपने बेटे गौरव को शिक्षार्थ नींद से जगाया, और एक... Read more

आहत

ये उन दिनों की बात है जब मेरे सामने वाले फ्लेट में एक बुजुर्ग शर्मा दंपति रहते रहते थे। वह नियम पूर्वक रोज सवेरे उठकर सैर पर जाते... Read more

प्रकृति राष्ट्रवाद से अनभिज्ञ

लघुकथा :- ******* वह देश के साथ बिलकुल नहीं था, एक बार के विद्रोह ने ही पोल खोल दी वह तिलमिला गया, उसने अब जो भी प्रस्तुतियां द... Read more

लघु कथा

लघु कथा सास बहू की रोज रोज की चिकचिक से तंग आ कर राकेश ने माँ को वृद्धाश्रम में भरती करा दिया, भरपूर पैसे उस आश्रम को देता ... Read more

दुलारी सिम्मी

दुलारी सिम्मी . ...मां बाबा के बाद सबकी उतरन पहनकर पढ़ाई करना तक तो ठीक था। पढ़ाई के लिए सरकारी स्क... Read more

जरूरत @लघुकथा

एक दिन रास्ते से गुजरते हुए बस यूं ही देखते हुए गुजर रहा था जिन लोगों ने कूड़ा समझकर डाल दिया था, कुछ लोग उसे इकट्ठा कर रहे थे, य... Read more

खोई हुई संपदा @लघुकथा

एक हास्यव्यंग सबने सुना होगा, हँसी किसी को नहीं आई, एक आदमी का एक सिक्का रेत मे गिर गया, अंधेरा था, बड़ी मुश्किल हो गई, वह छलनी ... Read more

बिना नींव वा छत के स्मार्ट सिटी @लघुकथा

कन्हैया ने पीएचडी. पास किया. वह दिशा निर्देशक बनना चाहता है, उससे पहले एक नारे ने उसे दिशा दे दी, सबकुछ जैसे उसकी इच्छा के खिलाफ ... Read more

'अहंकार'

अभी रुक्मिणी आँफिस पहुँची ही थी कि चपरासी ने आकर बोला मैडम बुला रही हैं। रुक्मिणी अपना बैग रख कर फौरन अपनी बास के पास पहुँची। मैडम स... Read more

दवंग बेटी

" बेटी तेरी नौकरी से तो मुझे हमेशा चिंता लगी रहती है ? समय खराब है ।" रमा ने बेटी श्यामा से कहा । वह एक कम्पनी में काम करती है औ... Read more

ओशी

मेरी प्यारी बेटी ओशी (Oshi ) बहुत -बहुत प्यार। आज तुम्हारा जन्म दिन है, खुश हूँ मैं बहुत खुश, तुम्हारे पास होती तो गले लग... Read more

सकारात्मक सोच

किसी गाँव में दो साधू रहते थे. वे दिन भर भीख मांगते और मंदिर में पूजा करते थे। एक दिन गाँव में आंधी आ गयी और बहुत जोरों की बारिश होन... Read more

वचन (बाल कथा)

पेड़ पर बैठी चिड़िया ने सोचा। मैं अपना एक घोंसला बनाऊंगी। जिसमें छोटे छोटे बच्चे रहेंगे और जिनको मैं दाना लाकर खिलाऊँगी। फिर वे जब ... Read more

आखिर ये क्या विडंबना है?

एक दिन रामू नाम का छोटा बच्चा बहुत ही शरारत कर रहा था ।उसका बड़ा भाई पास आकर उसे डांटने लगा। पास में बैठे पिताजी बोले बेटा कुछ नहीं... Read more

एडजस्टमेंट

मोहन के पास एक भैंस थी जिसका नाम मांडी था। सारे परिवार के लोग इसी का दूध पीते थे। दूध भी तो ढ़ेर सारा देती थी । घर के सदस्यों के साथ... Read more

लड़की

नहीं जी इस सांवली लड़की से मेरे बेटे की शादी थोड़ी ही होने दूँगी। चाँद जैसी बहू चाहिए मेरे बेटे को तो चलो जी दुनिया में लड़कियों की ... Read more

नई परम्परा

विजय के पिता जी का स्वर्गवास हो गया था। उनके खानदान में परपरा थी कि स्वर्गवासी के फ ूलों (अस्थियों ) को गंगा जी में विसर्जित किया जा... Read more

फैसला

बेटे! जरा, देखो तो सही तुम्हारा परिणाम कैसा रहा। मैंने सुना है कि आज के अखबार में एचसीएस का परिणाम आया है। महेन्द्र के पिताजी ने उसस... Read more

शर्त

शर्त **** 'शर्त है मैं तुझसे पहले घर पहुँचूंगी।फिर तुझे पिक्चर दिखानी होगी मुझे' ऐसा कहते हुए खिलखिलाकर ऋचा स्कूटी दौड़ाने लगी। मैं... Read more

पान की गुमटी

शहर की गली के नुक्कड़ पर उस पान वाले की गुमटी थी । उस पर लोगों का जमावड़ा लगा रहता था । जिसमें विद्यार्थी, वकील ,पत्रकार , राजनीति ... Read more

जीवन दान

"रात के दो बज रहे है , आईसीयू में लाईफ स्पोर्ट्स मशीनों की आवाजें वातावरण को भयावह बना रही थी । संगीता चार दिन से यहाँ एडमिट है ए... Read more

नई परिभाषा

"अस्सलाम वालेकुम, भाईजान!" उसने बड़े अदब से कहा। "वालेकुम अस्सलाम!" आलम ने मुस्कुराते हुए अपरिचित का अभिवादन स्वीकार करते हुए कहा।... Read more

हुसैन

लघुकथा शीर्षक - हुसैन ======================== हिन्दू मुस्लिम दंगो से ये शहर एक दम से थम सा गया था, कोई भी किसी दूसरे समुदाय से ब... Read more

लघुकथा

एक मनचले ने किसी गरीब के हाथ से रोटी छीनकर एक कुत्ते को डाल दी। गरीब ने मनचले को जब पकड़ कर मारना चाहा तो कुत्ते ने उस गरीब को क... Read more