लघु कथा

दवंग बेटी

" बेटी तेरी नौकरी से तो मुझे हमेशा चिंता लगी रहती है ? समय खराब है ।" रमा ने बेटी श्यामा से कहा । वह एक कम्पनी में काम करती है औ... Read more

ओशी

मेरी प्यारी बेटी ओशी (Oshi ) बहुत -बहुत प्यार। आज तुम्हारा जन्म दिन है, खुश हूँ मैं बहुत खुश, तुम्हारे पास होती तो गले लग... Read more

सकारात्मक सोच

किसी गाँव में दो साधू रहते थे. वे दिन भर भीख मांगते और मंदिर में पूजा करते थे। एक दिन गाँव में आंधी आ गयी और बहुत जोरों की बारिश होन... Read more

वचन (बाल कथा)

पेड़ पर बैठी चिड़िया ने सोचा। मैं अपना एक घोंसला बनाऊंगी। जिसमें छोटे छोटे बच्चे रहेंगे और जिनको मैं दाना लाकर खिलाऊँगी। फिर वे जब ... Read more

आखिर ये क्या विडंबना है?

एक दिन रामू नाम का छोटा बच्चा बहुत ही शरारत कर रहा था ।उसका बड़ा भाई पास आकर उसे डांटने लगा। पास में बैठे पिताजी बोले बेटा कुछ नहीं... Read more

एडजस्टमेंट

मोहन के पास एक भैंस थी जिसका नाम मांडी था। सारे परिवार के लोग इसी का दूध पीते थे। दूध भी तो ढ़ेर सारा देती थी । घर के सदस्यों के साथ... Read more

लड़की

नहीं जी इस सांवली लड़की से मेरे बेटे की शादी थोड़ी ही होने दूँगी। चाँद जैसी बहू चाहिए मेरे बेटे को तो चलो जी दुनिया में लड़कियों की ... Read more

नई परम्परा

विजय के पिता जी का स्वर्गवास हो गया था। उनके खानदान में परपरा थी कि स्वर्गवासी के फ ूलों (अस्थियों ) को गंगा जी में विसर्जित किया जा... Read more

फैसला

बेटे! जरा, देखो तो सही तुम्हारा परिणाम कैसा रहा। मैंने सुना है कि आज के अखबार में एचसीएस का परिणाम आया है। महेन्द्र के पिताजी ने उसस... Read more

शर्त

शर्त **** 'शर्त है मैं तुझसे पहले घर पहुँचूंगी।फिर तुझे पिक्चर दिखानी होगी मुझे' ऐसा कहते हुए खिलखिलाकर ऋचा स्कूटी दौड़ाने लगी। मैं... Read more

पान की गुमटी

शहर की गली के नुक्कड़ पर उस पान वाले की गुमटी थी । उस पर लोगों का जमावड़ा लगा रहता था । जिसमें विद्यार्थी, वकील ,पत्रकार , राजनीति ... Read more

जीवन दान

"रात के दो बज रहे है , आईसीयू में लाईफ स्पोर्ट्स मशीनों की आवाजें वातावरण को भयावह बना रही थी । संगीता चार दिन से यहाँ एडमिट है ए... Read more

नई परिभाषा

"अस्सलाम वालेकुम, भाईजान!" उसने बड़े अदब से कहा। "वालेकुम अस्सलाम!" आलम ने मुस्कुराते हुए अपरिचित का अभिवादन स्वीकार करते हुए कहा।... Read more

हुसैन

लघुकथा शीर्षक - हुसैन ======================== हिन्दू मुस्लिम दंगो से ये शहर एक दम से थम सा गया था, कोई भी किसी दूसरे समुदाय से ब... Read more

लघुकथा

एक मनचले ने किसी गरीब के हाथ से रोटी छीनकर एक कुत्ते को डाल दी। गरीब ने मनचले को जब पकड़ कर मारना चाहा तो कुत्ते ने उस गरीब को क... Read more

"कालचक्र का बहाव" (लघुकथा)

शीर्षक :- "कालचक्र का बहाव" जी हां साथियों इस कालचक्र के घेरे को कौन समझ पाया है भला ? भूतकाल, वर्तमानकाल और भविष्‍यकाल इनके घे... Read more

अपनों का धोखा

आज वॄध्दाश्रम में दो वरिष्ठ नागरिक आयी है । वह सबसे मिल रही है और अपना परिचय दे रही है, उनमें एक कमला देवी और दूसरी रमा देवी है । ... Read more

फ़िक्र

ससुर जी के अचानक आ धमकने से बहु रमा तमतमा उठी-लगता है, बूढ़े को पैसों की ज़रूरत आ पड़ी है, वरना यहाँ कौन आने वाला था... अपने पेट का ... Read more

"बारिश की पहली बूँद"

"माँ! तुम भी न, जब देखो तब डाँटती रहती हो" स्नेहा पैर पटकते हुये अपने कमरे में चली गयी। वैदेही यह देखकर अचम्भित हो उठी।आखिर उसने ऐसा... Read more

संबंध

"ओह छ:बज गए और माँ ने भी नहीं उठाया।" "इतनी देर तक कैसे सोती रह गई मैं?माँ कहाँ है।"बड़बड़ाती हुई श्रद्धा कमरें से बाहर भागी।रोज की... Read more

जीत

पुरानी साड़ियों के बदले बर्तनों के लिए मोल भाव करती शारदा ने अंततः दो साड़ियों के बदले एक टब पसंद किया। "नही दीदी, बदले में तीन साड... Read more

औरत की जाति

एक आदमी ने महिला से पूछा- तेरी जाति क्या है? महिला ने पूछा : एक मां की या एक महिला की ..? उसने कहा - चल दोनों की बता और मुस्कान ब... Read more

भाभी के सपनें

आज सुबह की चाय और न्यूज़पेपर टेबल पर नहीं रखा था वरुण ने सोचा शायद भाभी आज कहीं गई है उसने बिना कुछ सोचे किचन में जाकर वह चाय बनाने ... Read more

लालच

‌ आज के समाचार पत्र के मुखपृष्ठ पृष्ठ पर एक बहुत बड़ा विज्ञापन देखा। कि एक बड़ी मार्केटिंग कंपनी का शोरूम का उद्घाटन है जोकि टीवी ... Read more

सच्चा प्यार

अरे यार... ये बुढऊ भी 65 साल में सठिया गया है ये देख पेन ड्राइव के जमाने मे VCR मांग रहा है.... अब कहां से लाऊं अभी के अभी... कहता ... Read more

बवाल

‌ आज का मुख्य समाचार कि गली के नुक्कड़ एक कुत्ते का शव पड़ा था । उसके चारों तरफ भीड़ जमा थी लोग तरह तरह की बातें कर रहे थे। कुत्ते... Read more

लघु कथा

लघु कथा राकेश मल्टी नेशनल कम्पनी में एक्ज्युकेटिव हेड था, बड़ी कम्पनियों में काम का बोझ तो अधिक होता है, घर पर 8 साल के अपने लाडले ... Read more

सब्ज़ी मेकर

इस दीपावली वह पहली बार अकेली खाना बना रही थी। सब्ज़ी बिगड़ जाने के डर से मध्यम आंच पर कड़ाही में रखे तेल की गर्माहट के साथ उसके हृदय की... Read more

दीवाली

"असली दीवाली " अब आ रही है महारानी.... मैंने तुझसे कहा था ना दीवाली है सफाई करवाउगी .. किचन बेडरूम और ये सभी दीवारों की .... अलग... Read more

"इंटरनेट की दुनिया में कहीं खो न जाए परिवार आपका "(लघुकथा)

सुबह-सुबह दादाजी कॉलोनी के बगीचे में टहलने जाते हैं और आते समय एक बाईक जिस पर तीन-चार दोस्‍त सवार थे, वे दादाजी को टक्‍कर मारकर चल ... Read more

दीपावली -- लघु कथा

दीपावली --- लघु कथा सुबह का समय था रामलाल शहर की ओर निकलने वाला ही था कि उसकी पत्नी बोला अजी सुनते हो सोनू आपको क्या कह रहा है ।र... Read more

बेपऩाह

मेरे एक अज़ीज़ के ज़नाज़े सफर में एक कुत्ता शामिल देखा। इल्म हुआ फ़ौते शख्स उसका मालिक हुआ करता था। कब्रगाह में सुप़ुर्दे ख़ाक कर सब लौ... Read more

विषय.... बाल कथा

"ईमानदारी का इनाम" रोहन के सात वर्षीय बेटा अगम दूसरी कक्षा मैं अव्वल आया और रोहन तनख्वाह मिली तो बेटे को कहा, “अगम, तुम बाज़ार चलो... Read more

दीवाली की सफाई

*लिखाई या सफ़ाई* ******************************* अरे सुनो तो .. क्या है यार, फ़िज़ूल ही डिस्टर्ब कर रही हो। अरे ऐसा क्या कर रहे ह... Read more

रोटी की खुश़बू

एक बार एक बादशाह ने ने अपने सभी दरबारियों से पूछा कि किस इत्र की खुशबू सबसे अच्छी होती है। हर किसी दरबारी ने अपनी पसंद के अनुसार इत्... Read more

प्रेरक प्रसंग

एक शहर मे चार मित्र रहते थे। उन्होने सोचा कि चलो दुनिया घूम कर आते हैं। परन्तु उन्होने यह निश्चय किया कि सभी अलग अलग दिशाओं मे जा... Read more

प्रेरक प्रसंग

एक घोड़े और एक चींटी में गहरी दोस्ती थी। एक दिन घोड़े ने चींटी से कहा चलो मै तुम्हें इस पहाड़ के उस तरफ एक बहुत ही सुन्दर स्थान है वहाँ... Read more

विडंबना

आज के अखबार की ताजा खबर थी शहर का फ्लाईओवर पुल जिसका उद्घाटन पिछले हफ्ते हुआ था कल रात भरभरा कर गिर गया । जिसकी चपेट में आकर काफी ल... Read more

सोने का मुल्लमा

एक बार जब चांदी की अँगूठी में सोने का मुल्लमा जो चढ़ा । वह इतरा के कहने लगी कि मैं अब घटिया चांदी की अँगूठियों के बीच कैसे रहूंगी।... Read more

लघुकथा ‘कल की आहट’

दीपक अपने दादाजी के साथ सलाना नतीज़ा लेने स्कूल गया| स्कूल में बच्चे अपना रिजल्ट कार्ड ले और नई किताबें कापियाँ ले बहुत खुश हो रहे थे... Read more

करवा चौथ टशन

हाँ ,कितनी देर में आ रहे हो यही लगभग 8.30 पर क्यो इतनी देर क्यों? अरे तुम्हारी कॉल अटेंड कर ली जो ही बहुत है। 100 अटेंडेंट... Read more

लघुकथा *मेला*

*लघुकथा विषय मेला* एक राजू नाम का लड़का था। वह काफी होनहार एवं ईमानदार था ।उसकी मां का नाम रीना थी ।परंतु उसकी मां हमेशा बीमार रह... Read more

दंगे की जड़

आखिर उस आतंकवादी को पकड़ ही लिया गया, जिसने दूसरे धर्म का होकर भी रावण दहन के दिन रावण को आग लगा दी थी। उस कृत्य के कुछ ही घंटो बाद प... Read more

रावण का चेहरा

हर साल की तरह इस साल भी वह रावण का पुतला बना रहा था। विशेष रंगों का प्रयोग कर उसने उस पुतले के चेहरे को जीवंत जैसा कर दिया था। लगभग ... Read more

प्रायश्चित

लघुकथा शीर्षक - प्रायश्चित =================== "उमा देवी आज किसी पहचान की मोहताज नहीं है l बिखरते रिश्तों को बचाने के लिए, लोग उन... Read more

अट्टहास

लघुकथा शीर्षक - अट्टहास ================= दशहरा उत्सव में राम ने रावण के पुतले का दहन करने के लिए जैसे ही बाण का संधान करना चाहा,... Read more

नवरात्र कन्या भोजन

देवकी नवरात्र में कन्या भोजन कर रही थी । उसने अपने पति राकेश , जो सड़क निर्माण विभाग में इंजीनियर हैं, को आवाज दे कर बुलाया और कहा... Read more

सबसे बड़ी गरीब

एक लघुकथा शीर्षक - सबसे बड़ी गरीब ================ आज सुबह किशोर की आँख खुली तो सरला को कुछ अनमना सा पाया l वो तकिये को आगोश में... Read more

डर के आगे जीत है

डर के आगे जीत है "हाये... हाये... क्या हुस्न पाई है यार।" "लगता है बनाने वाले ने बड़े ही फुरसत से बनाया है इसे।" "एक बार... बस एक ... Read more

ऐसे भी मंत्री

ऐसे भी मंत्री नवतपा शुरू होने में अभी समय था, परंतु सूर्य देवता अपना प्रचंड रूप दिखाने लगे थे। तापमान 45 डिग्री सेंटीग्रेड पार कर च... Read more