Skip to content

Category: कुण्डलिया

कुण्डलिया छंद
राम नाम रटते रहो,नहीं बनेगा काम. कर्म बिना सब व्यर्थ है,इससे ही परिणाम. इससे ही परिणाम,विकल्प नहीं है दूजा. कर्म करे जा नित्य,वही है असली... Read more
कुंडलिया छंद :प्रेम सर्वोपरि
प्रेम सर्वोपरि है बंधु,सबसे मिलिए गले। त्याग भेदभाव मन से,प्रेम हृदय में ढले।। प्रेम हृदय में ढले,काहे का अभिमान है। प्रभु के बंदे सभी, मानवता... Read more
आदमी का भ्रम :कुंडलिया छंद
मृग न जाने कस्तूरी,ये खता नहीं बंधु। मनुष्य-मन में भगवान,पर पता नहीं बंधु।। पर पता नहीं बंधु,पूजे पत्थर की मूर्ति। अंधभक्त बन फिरे, होती ना... Read more
चैक बाउंस :कुंडलिया छंद
सोच समझकर दीजिए,चैक किसी को यार। बाउंस अगर हुआ ये,जेल बने घर-बार।। जेल बने घर-बार,इज्जत रहे ना समाज। छोड धोखेबाजी,बचा लीजिए तुम लाज। कह प्रीतम... Read more
हिन्दी कहे पुकार के :कुंडलिया छंद
हिन्दी कहे पुकार के,मैं भारत की शान। मैं फूलों का हूँ चमन,महकी-सी पहचान। महकी-सी पहचान,कोई माने न माने। मुझे अपनाए हर जन,खुद को भारती जाने।... Read more
पैसा
पैसे से ही जगत में, आन बान और शान। पैसे की ही जुगत में, फिरता है इंसान । फिरता है इंसान , बना यह काशी... Read more
कुण्डलिया- दिल्ली की वायु
कुण्डलिया- दिल्ली की वायु ●●●●●●●●●●●●●● देखो रहकर गाँव में, सुविधाओं से दूर। मिलती है ताजी हवा, हरियाली भरपूर। हरियाली भरपूर, नहीं होती बीमारी। पर दिल्ली... Read more
वाह वाह क्या बात....छंद कुण्डलिया.
___________________________________ लड़ते हैं गोमांस पर, भक्षक, श्वान सियार. गिरफ्तार रक्षक करे, भ्रमित वही सरकार? भ्रमित वही सरकार, 'बीफ' दे जिसे सहारा. इसको पशु-बलि मान, नही... Read more
वाह! कमाया नाम.....: छंद कुण्डलिया
________________________________ कुण्डलिया: पेरिस पर हमले किये, वाह! कमाया नाम. इससे कोई मत करे, परिभाषित इस्लाम.. परिभाषित इस्लाम, पहन सेना सी वर्दी. क़त्ल, भले. निर्दोष, कहाँ... Read more
जड़े होठों पर ताले...:शाश्वत कुण्डलिया छंद
बहता क्योंकर अनवरत पक्षपात का द्रव्य. अर्जुन अवसर पा रहा, हाथ मले एकलव्य.. हाथ मले एकलव्य, जड़े होठों पर ताले. किन्तु द्रोंण द्रव पियें मगन... Read more
सॅंभले मानव जाति...कुण्डलिया
ईश्वर से प्रतिभा मिले, सत्संगति से ख्याति. अहंकार उपजे स्वयं, सॅंभले मानव जाति.. सॅंभले मानव जाति, सत्य जीवन का जाने. हो विनम्र दे स्नेह, शत्रु... Read more