कुण्डलिया

कुंडलियाँ

कुंडलियाँ ~~~~~~~~~~ जगराता माँ की करूँ जाकर उनके द्वार। गाउँ उनकी आरती, हो जग का उद्धा... Read more

कुंडलियाँ

कुंडलियाँ ~~~~~~~~~~~~ साधक थे विज्ञान के, गढ़कर ज्ञान कलाम। दिया मिसाइल देश को, तब है ... Read more

दशरथ माझी

दशरथ माझी हौसला, दशरथ माझी चाह। जो पहाड़ को साध कर, बना सके भी राह।। बना सके भी राह, भले वह चले अकेला । जहाँ चाह तह राह, साथ लग जा... Read more

किसान

देखो जमीन बिक गई, गिरवी रखे मकान । फसल देख किसान हुए, कितने आज परेशान ।। कितने आज परेशान, अपना भाग्य कोस रहे । मौसम जाता रूठ, कैस... Read more

खाता

खाता रहता बैंक में, खाता घर मे जाय। खाता बी-वन में रहे , खाता नही अघाय।। खाता नहीं अघाय, है खाता चक्कर भारी। खाता है ई-मेल, व खा... Read more

कुंडलियाँ

कुंडलियाँ ************ जग में कबीर पूछता, भीड़ कहाँ से होय। ऐसी रेलम पेल है, जन-जन नित ह... Read more

कुंडलियाँ

कुंडलियाँ ************ जिज्ञासा बेटी तुम्हे, खुशियाँ मिले हजार। मात-पिता की लाडली, न... Read more

कुंडलियाँ

कुंडलियाँ ●●●●●●●● खेती पाती जो करे, होता वही किसान। धरती की सेवा करे, धरती का भगवान।। धरती का भगव... Read more

अग्रसेन महाराज।

द्वापर युग में ही हुये, अग्रसेन अवतार हमको अग्र समाज का ,दिया नया संसार दिया नया संसार, अठारह गोत्र बनाये इक रुपया इक ईंट, निय... Read more

कुण्डलिया

लिव इन का संबंध ये करता बंटाधार, बिन शादी बिन रीत के रहते दोनों यार। रहते दोनों यार कभी जब बात बिगडती, चलते घूसे लात न आगे गाडी ... Read more

दशहरा

1 अब कलयुग की जीत है , रामराज्य की हार । राम नहीं मिलते यहाँ, रावण की भरमार ।। रावण की भरमार, लोभ ही रहता मन में। हो अधर्म की जी... Read more

सरदार भगत सिंह

जन जन में जिसने भरा , देश भक्ति का राग । वही भगत ही बुझ गया, दिल में जला चराग।। दिल में जला चराग, सही पथ दिखलाया था इंकलाब का राग... Read more

बेटी

प्यारी प्यारी बेटियाँ, हम सबका हैं गर्व इनसे ही संसार हैं, इनसे ही सब पर्व इनसे ही सब पर्व, लगें रंगोली जैसी घर रहता गुंजार,च... Read more

गांधी-शास्त्री

1 गाँधी-शास्त्री *********** मोहन गाँधी शास्त्री, दोनों नाम महान उच्च सोच सँग सादगी , इनकी थी पहचान इनकी थी पहचान, सत्य के अन... Read more

मोदी जी

1 दुश्मन भी डर कर रहें, ऊँची भरें दहाड़ कहीं शांत बहती नदी, मोदी कहीं पहाड़ मोदी कहीं पहाड़, नहीं टस से मस होते रहता इन्हें खया... Read more

हड़ताल

आती है हड़ताल से , बस मुश्किल में जान। तोड़ फोड़ से मत करो, अपना ही नुकसान। अपना ही नुकसान, समझदारी दिखलाओ। रखकर अपना पक्ष , बात ... Read more

बनो हिंदी के क्रेज़ी

अंग्रेजी से ही करें,क्यों हम सब परहेज़ हिंदी नंबर वन रहे,दौड़ें इतना तेज़ दौड़ें इतना तेज़, खूब इसको अपनायें अपने सारे काम, बोल हिंदी... Read more

संतान

सबकी होती कामना, सुखी रहे संतान । खूब नाम रोशन करें, जग में हो पहचान ।। जग में हो पहचान, सुत आज्ञाकारी बनें । छोड़े न कभी साथ, पूर... Read more

कुण्डलिया

बढी खूब साख ताज हिंद का है हिंदी आज, भाषा पर नाज मनमीत होना चाहिए। छाई हर देश मन भाई नर नेक अब, बने देश भाषा ये प्रयास होना चाहिए... Read more

झाड़-झाड़ बैरी

झाड़-झाड़ बैरी झाड़-झाड़ बैरी हुआ, क्या कर सके इंसान| ऐसे-ऐसे चल रहा, जैसा उसको ज्ञान|| जैसा उसको ज्ञा... Read more

गणेश चतुर्थी वंदना

करते हैं संसार के, पूरे सारे काज विघ्न हरण मंगल करन,गजानन महाराज गजानन महाराज, शरण जो इनकी जाता विद्या वैभव ज्ञान, बिना माँगे ... Read more

हलधर

हलधर करते मेहनत, बहे पसीना रोज । नित साहूकार ठगते, खूब मनाए मौज ।। खूब मनाए मौज, दाम सही न कभी मिले। खुशियाँ मनती खूब, जब हो भरप... Read more

श्री कृष्ण

मोर मुकुट ले बाँसुरी, खेलन चले गोपाल । निरखि छवि भगवान की, चकित भये सब ग्वाल ।। चकित भये सब ग्वाल, संग संग गौ हांकते । सुनने मुरल... Read more

टेंशन की दवा --आर के रस्तोगी

इसको बोलो हैलो,उसको बोलो तुम हाय | हर टेंशन की दवा है,तुलसी वाली चाय || तुलसी वाली चाय,सब साथ पिया करो | रोग कोई न होगा,लम्बी उम्... Read more

जिंदगी

ढ़लती जाती जिन्दगी, करे उम्र की जिक्र। उलझन अब बढने लगीं, मुखरे पर है फिक्र।। मुखरे पर है फिक्र, सभी साथी अब छूटे। पकड़ लिये ह... Read more

बहन प्रेम

बहन प्रेम का रूप है,होती घर की शान। दुख भाई का बाँटती,रखती सबका मान।। रखती सबका मान,खुशी से घर भर देती। फैला जग में तमस, उजाला व... Read more

हुआ हिमालय क्रोध में

हुआ हिमालय क्रोध में हुआ हिमालय क्रोध में, आंखें उसकी लाल| हुआ वनों का दूहना, मानव को न ख... Read more

जीवन

जीवन जीने का तभी, मन में उठा सवाल। जब आईने में नजर, आया उजला बाल।। आया उजला बाल, नहीं पहले देखा था। जमा कई थे ख्वाब, उदासी की ... Read more

अनुच्छेद दूसरा जान

अनुच्छेद दूसरा जान अनुच्छेद दूसरा जान, जो है बड़ा विशेष| इसी के तहत सिक्किम का, संघ में ह... Read more

कुण्डलिया छंद

हे! त्रिपुरारी आपकी ,महिमा अपरंपार l भक्तों की हर आपदा,दूर करें हर बार l दूर करें हर बार, सभी के मन की पीड़ा l ब... Read more

धारा ......370

धारा .....370 ************** तीन सौ सत्तर हट गई, हंसा खूब कश्मीर। सारी जनता खुश हुई, मोहन और शब्बीर।। मो... Read more

पढ़ो प्रथम अनुच्छेद

पढ़ो प्रथम अनुच्छेद भारत के संविधान में, पढ़ो प्रथम अनुच्छेद| वतन राज्यों का संघ है, रहे ... Read more

अनुच्छेद 47

अनुच्छेद 47 अनुच्छेद संतालिस पढ़, भारतीय संविधान| नशा नियंत्रण सत्ता करे, कर रहा है बखा... Read more

निजीकरण

निजीकरण नौकरियां तो चढ़ गई, निजीकरण की भेंट| पेट पर पट्टी बांध कर, ... Read more

सुषमा को सलाम

नाम था जिसका सुषमा, नेता बड़ी महान। दिलाई देश को अपने, दुनिया में पहचान।। दुनिया में पहचान, काम था मुश्किल थोड़ा। हिम्मत रही असी... Read more

सुषमा स्वराज (शत शत नमन)

नेता सँग वक्ता प्रखर, बड़ी सुषमा स्वराज संयम से करती रहीं, राजनीति के काज राजनीति के काज, सादगी की थीं मूरत लगता उनको देख, भारती... Read more

मोदी जी

तीन्सौसत्तर को बदल, रचा नया इतिहास। मोदी जी ने कर दिया, काम बड़ा ये खास। काम बड़ा ये खास , शाह से हाथ मिलाकर। और बढ़ाया मान, तिरंग... Read more

घाटी ए कश्मीर

घाटी ए कश्मीर में,होगा अब अनुराग। मोदी जी ने धो दिये, इसके गहरे दाग।। इसके गहरे दाग, तीन सौ सत्तर धारा। कुचल दिये सब नाग,हटा... Read more

कुंडलिया

कुंडलिया चक्की पीसे भोर में, दूजी भूख मिटाय। दो पाटन के बीच में, ममता पिसती जाय। ममता पिसती जाय,स्वजन पर प्यार लुटाती। अरमानों... Read more

मिलन की आस

अपने प्रिय की आस में, बैठी रही निढाल। आलिंगन मिला स्नेह का, गोरी हुई निहाल।। गोरी हुई निहाल, कुछ भी नहि अब सुहाता। पूरी हुई ... Read more

मोर

छाये बदरा जब गगन, गड़-गड़ करते शोर। फैला कर निज पंख को, वन में नाचे मोर। वन में नाचे मोर,मस्त होकर मतवाला। मनमोहक चितचोर, पंख ... Read more

कुण्डलिया

मानव अपने कर्म पर, करके पश्चाताप l मन में भरकर वेदना, करता रहे विलाप ll करता रहे विलाप, अश्रु बन जाते दरिया l इस... Read more

.बहु

सूरत सीरत शुभ सुखद, मधुकर करती बात। बहु अलबेली रूपसी, भगवन की सौगात। भगवन की सौगात, शुद्ध चमकीला हीरा। अंतस भरे प्रकाश,हरे ज... Read more

प्रेम

निर्मल,पावक प्रेम है, पुण्य तीर्थ का धाम। गंध प्रीत की हो जहाँ, बसते राधा-श्याम।। बसते राधा- श्याम, बजे मधुरिम यह मुरली। कर सो... Read more

प्रेम

ऐसे छलता प्रेम नित,मृगजल-सा आभास। सूखे अधरों पर पड़े, बढ़े हृदय की प्यास।। बढ़े हृदय की प्यास, जोड़ते झूठी आशा । कितने भी हो दू... Read more

राम नाम की लूट है --आर के रस्तोगी

राम नाम की लूट है,लूट सके तो खूब लूट | अंतकाल पछतायेगा, जब प्राण जायगे छूट || जव प्राण जायगे छूट,फिर कैसे याद करेगा ? अपने पापो क... Read more

असंभव कुछ नहीं

मन में हो विश्वास जब,होते सारे काम। शबरी देखे राह तो,क्यों ना आएँ राम।। क्यों ना आएँ राम,असंभव कुछ ना होता। पंकज हँसता रोज,देख की... Read more

गुरु की कृपा अपार (कुण्डलिया)

कुण्डलिया-१ ~~ मिले जिसे भी भाग्य से , गुरु की कृपा अपार। जन्म सफल उसका हुआ, मन के मिटे विकार। मन के मिटे विकार, ज्ञान के दीप ... Read more

कुंडलियाँ ---आर केरास्तोगी

करत करत अभ्यास के,जड़मत हो सुजान | रसरी आवत जात के,सिल पर होत निशान || सिल पर होत निशान,हो जाते है वे पक्के | पक्के पत्थर के भी,छ... Read more

जागरूक बनिए

गुणवत्ता को देखके,लेना आज समान। विज्ञापन धोखा करे,रखना ये अनुमान।। रखना ये अनुमान,व्यर्थ जाए ना पैसा। चकाचौंध को मात,यार दो करके ... Read more