कव्वाली

इन्तजार

इन्तजार ******************* तुम आए तो खुशी आ गई , प्यार की खुशबू महका गई। जिस पल का इंतजार हुआ, ओ बेहद करीब आ गई । नज़र में फसी... Read more

कव्वाली :- मेरे मुहम्मद की नजर

कव्वाली :- मेरे मुहम्मद की नज़र अनुज तिवारी "इंदवार" ये नज़र है मुहम्मद साब की ! ये नज़र है मेरे आफ़ताब की ! ... Read more

ये जो मोहब्बत है मेरी जा का दर्द है

लाइलाज बीमारी है दिल का मर्ज है ये जो मोहब्बत है मेरी जॉ का दर्द है मैंने सोचा था कि मोहब्बत के दम पर महबूबा खरीदै लूंगा में म... Read more

तन्हाई

तन्हाइयों का जाम पीता हूँ सुबह शाम, गम के नशे झूमता जिन्दगी है गुमनाम, महफ़िल है मेरे दर्द की जख्म है मेहमान, टूटे दिलों की दास्ता... Read more

कविता

"कर्मठ परिंदे" *********** (1)मेरे उपवन की डाली पर खग ने नीड़ बनाया था, तिनका-तिनका जुटा-जुटाकर दृढ़ विश्वास दिखाया था। साँझ-स... Read more

खानाबदोश

कोई बात नही खुशी ना सही, गम को ही हम तो दामन में समेट लिया करते है। आसमां गर ना दे पनाह हमको, हम तो है "खानाबदोश" किसी के भी दि... Read more

फकीर की दुआ

कुछ पाना है गर तुझको तो, पाने की ख्वाहिश को जिंंदा रख। जो आग लगी है सीने मेंं, उस आग को कयामत तक जिंंदा रख। तूफांं तो कई आयेगे... Read more

दोस्ती

कौन कहता है मेरे पास नहीं हैं पैसे, मेरी दौलत तो हैं ये दोस्त नगीने जैसे।।1।। मुझे हर बार मुसीबत से निकला करते, मैं गिर जाऊँ तो... Read more

पढ़ना लिखना छोड़ दिया मैंने

--पढ़ना लिखना छोड़ा मैंने--- ___________________________ हाँ पढ़ना लिखना छोड़ दिया मैंने पढ़ें लिखों को पीछे छोड़ दिया मैंने ... Read more

मुक्त छन्द रचना -कालजयी बन जाएँ

कालजयी बन जाओ: एक यथार्थ परक मुक्त छन्द कविता-समीक्षार्थ: अभी -अभी स्वानुभव पर आधारित, विशिष्टतया नकारात्मक सोच वालों के नाम पाती... Read more

पढ़े चलो पढ़े चलो

पढ़े चलो पढ़े चलो आगे तुम बढ़े चलो अंधकार की छाया से उजियारे की ओर चलो पढ़ना है अति आवश्यक े इसके बिना नहीं कुछ आवत हिंसा का रास्ता... Read more

हम तड़पते रहे

यूँ चुराके नजर वो गये जब मुकर वो तो हंसते रहे, हम तड़पते रहे ????????? आंखें ये नम हुई सांसे भी कम हुई पर तेरी याद में ह... Read more

भारतीय फौज

???????????????????? आम नहीं इनकी जिंदगी, मौका है हक अता करने का किस्मत वालों को मिलता, मौका ये वतन पे मिटने का ?????????? ?... Read more

जान मिल गई

तू मिली यू मुझे जैसे जान मिल गई| मरते हुये को इक जिंदगी मिल गई|| तू ही जीवन मेरा तू ही जान है मेरी, आज गेरो मे अपना सा कोई मिल ... Read more

अब तक मेरी निगाहों में आया नही कोई

अब तक मेरी निगाहों में आया नही कोई  आका  हैं   जैसे आज भी वैसा   नही   कोई मिसले नबी तो दुनिया में  कोई न है न होगा यह शाने  ... Read more

***** कव्वाली ******

? जीना हुआ दुस्वार यारां मौत भी ना आयी । जीना बडा है मुश्किल-2 मरना भी है ना आसां । ... Read more

अगर भगवान तुम हमको, कही लड़की बना देते

अगर भगवान तुम हमको, कही लड़की बना देते जहाँ वालों को हम अपने, इशारो पर नचा देते|| पहनते पाव मे सेंडल, लगाते आँख मे काजल बनाते र... Read more

मुक्ति

कर्म योग्यता और संस्कार सबसे ऊपर मेरा प्यार निस्वार्थ प्रीत जो मन लाये मैं मेरा उसका मिट जाये चाहे कोई विकट हो मेरा भक्त मु... Read more

मुक्ति

कर्म योग्यता और संस्कार सबसे ऊपर मेरा प्यार निस्वार्थ प्रीत जो मन लाये मैं मेरा उसका मिट जाये चाहे कोई विकट हो मेरा भक्त मु... Read more

तेरा इंतजार

जो देखा था तेरे इंतजार में टूटता पत्ता उस पेड़ से जो सुख गया था बरसात के इंतजार में माली बेखबर सो गया तपती धुप में प्यासा तेरे ... Read more

पलाश का साधुत्व

ऐ पलाश! मैंने देखा है तुम्हें फूलते हुए, देखा है मैंने- तुम्हारी कोंप-कोंप से प्रस्फुटित होते- यौवन को.. मैंने देखा है, तुम्हें... Read more

कव्वाली :-- तेरी दीवानगी की हद सरहद पार ले आई !!

कव्वाली :– तेरी दीवानगी की हद अनुज तिवारी “इन्दवार” एक तरफ बहता है दरिया एक तरफ है गहरी खाई !-५ नहीं मिलती यहाँ राहत , यहाँ... Read more