कविता

श्रृद्धांजलि

श्रृद्धांजलि विधाता छंद! जवानों की दिलेरी में सदा आधार पाया है! रखी है लाज माता की सदा वादा निभाया है! लड़े हैं देश रक्षा म... Read more

शहीद की पत्नी

शहीद की पत्नी हाथों में कंगन बिखर गई माथे की बिंदिया उतर गई बहते नीर नयनो से थिरकते चहरे से मुस्कान उतर गई । इंतजार मे... Read more

कश्मीर समस्या के सात समाधान --आर के रस्तोगी

खत्म करो 370 धारा को,जिसने कश्मीर में कोहराम मचाया है | इसके कारण ही हमने,अपने प्यारे वीर जवानो को गवांया है || दाग दो गोली पत्... Read more

पवन के रूप

मन्द पवन का आना जाना, मन को मधुर एहसास कराना नीरसता में उमंग का आना, हवा का देखो ताना वाना मन्द पवन का ................ {1} आता ज... Read more

सुन्दर बगिया

सुबह हुई रवि किरण संभाली, सुन्दरता बगिया ने सँजाली हरी घास मन में मुस्काली, कलियाँ खिलीं खुश डाली-डाली सुबह हुई रवि ............. ... Read more

चींटी और परिस्थिति

धूल भरी हूँ, मैं लेकिन परिश्रम से न मैं कतराती कठिन परिश्रम करके मैं, खुशहाल जीवन को पास मैं लाती धूल भरी हूँ ............... {1}... Read more

प्रेम गीत कैसे लिखू,जब चारो तरफ गम के बादल छाये हुए है --आर के रस्तोगी

प्रेम गीत कैसे लिखू,जब चारो तरफ गम के बादल छाये है | नमन है मेरा उन शहीदों को,जो तिरंगा ओढ़ कर आये है || चारो तरफ शोक लहर है,जनता... Read more

घर में घुसकर मारेंगे अब

घर में घुसकर मारेंगे अब ■■■■■■■■■■■ रोज-रोज छिप-छिप कर चूहों आ जाते हो सरहद में बुजदिल तुम डरपोक भिखारी जल्दी आओगे ज़द में ... Read more

मानवता और दहशतगर्द

दिनांक 16/2/19 मानवता के हत्यारे मानवता तब चूर चूर हो गयी जब लिपटे वीर जवान तिरंगे में दहशतगर्दों का क्या है काम ... Read more

बलिदान

कतरे-कतरे चीथड़े-चीथड़े का हिसाब होना चाहिए, बिछी जो लाशे सड़कों पर उनका इंसाफ होना चाहिए। बहाना था जो रक्त तुम्हे बहा लिया ... Read more

बदला लेना होगा

जम्मू कश्मीर के पुलवामा में शहीद मेरे देश के वीर जवानों को कोटि-कोटि नमन! वीर जवानों के मान में चंद पंक्तियाँ... "ऐसा सिला दीजिए" ... Read more

सुनो सिंहासन के रखवाले !

जम्मू कश्मीर के पुलवामा जिले के अवंतिपुरा में आतंकी हमले में हुतात्मा वीरों के याद में शासनतंत्र को कर्तव्यबोध दिलाती एक कवि की भावप... Read more

शहादत

खून बहता रहा वतन के नाम पे एक माँ भी बैठी रही अपने बेटे की राह में मासूम के सर से साया गया दुल्हन का सिंदूर और बहन की राखी गयी ... Read more

बहादुर

अब समय नहीं है रोने का, सूखे हुए जख्म भिगोने का जो समय निकलकर चला गया, वो समय न अपना होने का अब समय नहीं है.............. {1} जो ... Read more

हेमा पाण्डेय

#खामोशी खामोशियो की होती है मीठी जुबान। सरगोशियाँ कहती है एक नई कहानी। ऐसे ही जिंदगी में होता है हर जज्बा। फल की चिंता क... Read more

हेमा पाण्डेय

#खामोशी खामोशियो की होती है मीठी जुबान। सरगोशियाँ कहती है एक नई कहानी। ऐसे ही जिंदगी में होता है हर जज्बा। फल की चिंता क... Read more

खून का बदला खून ही होगा --आर के रस्तोगी

खून का बदला खून ही होगा , इससे अब कुछ कम न होगा | सुन ले पाक कान खोल कर अब तिरंगा तेरी जमी पर होगा || करता है तू छिपकर का हमल... Read more

कविता

“आज कहती हूँ मेरा यह वंदन सुन लो, धैर्य धरकर जरा वक़्त की धड़कन सुन लो, तुमने कई बार है श्रृंगार लिखा गीतों में, तुमने कई बार बह... Read more

श्रद्धांजलि

कश्मीर कभी न हथिया पाओगे पीठ पीछे वारों से। आत्मबल क्षीण नहीं होगा, सुनों तुम जैसे गद्दारों से। बहुत सही मक्कारी नापाक तेरी, पार क... Read more

सुलगते सवाल पुलवामा के

शीर्षक : सुलगते सवाल पुलवामा के खून से पाकिस्तान की सड़कें तर चाहियें मौलाना मसूद अजहर का सर चाहिये मोदी जी अब रहम नहीं रॉ... Read more

हो गए जो अमर जग में

हो गए जो अमर जग में , उन सपूतों को नमन । प्राण आहुति दे जिनने , रक्त से सींचा चमन ।। धन्य ह... Read more

चिड़िया और माँ

एक चिड़िया देखी मानव ने, जो दाना लेकर फुर्र उड़ी मानव पूछा चिड़िया रानी, इतनी भी तुझको क्यों जल्दी एक चिड़िया ............ {1} मानव ब... Read more

फूल की प्रेरणा

खिलते फूल को देखके, मैं कुछ विचलित सा हो जाता हूँ क्यों इतना खुश हुआ फूल, ये राज़ समझ नहीं पाता हूँ खिलते फूल को ............. {1}... Read more

पुलवामा अटैक

कंधार, संसद,पठानकोट.और पुलवामा मे कर विस्फोट पाल वहम,तुम सोच रहे ,जंग जीत गये, मां भारती के वीर जवान, एक माँ के सच्चे सपूत और मीत... Read more

पुलवामा अटैक

कंधार, संसद,पठानकोट.और पुलवामा मे कर विस्फोट पाल वहम,तुम सोच रहे ,जंग जीत गये, मां भारती के वीर जवान, एक माँ के सच्चे सपूत और मी... Read more

"मेरा चांद"

रोज रात को चांद को देखा करता हु, सीतारो से घेरा रहता है. उसकी सुंदर काया पे, घंटो बाते करता रहता हु... मोहलीया है उसने मुझको, ... Read more

हवा का पैग़ाम

एक अन्धेरी रात मैं, सरसरा रही थी हवा बार-बार आके, कुछ कह रही थी हवा एक अन्धेरी ............ {1} देखो इन्सानियत से खाली, हो गया भा... Read more

चुनना केवल तुमको है

"चुनना केवल तुमको है"" है टूट रहे नित- नियम अनेकों, उनका तुम यलगार करो.. क्षण- क्षण को बटोरो जीवन में, या खुल कर तुम बर्बाद कर... Read more

सच्चा प्यार

किसी को कैद कर लेना मोहब्बत की सलाखों में उसे ये ताड़ना देना, कि तुम हो मेरी चाहो में परखना उसकी हर एक बात में गुम हो कहीं ,तुम... Read more

जय जवान

क्या यूं ही होता रहेगा मिट्टी का रंग लाल व्यर्थ यूंही बहता रहेगा शहीदों का रक्त हर बार सरहदों के रक्षक जवान, रखते मां की आन और ... Read more

इन्तहा

इन्तहा ----------- बहुत कुछ दरक गया है मेरे अन्दर देखकर,सुनकर पल भर में बेजान होते इंसानी जिस्म वातावरण में फैलती बारुदी गंध ... Read more

अंतिम फैसला

लोहे को जो लोहा काटे, फिर से जहर को जहर से मरने दो, छोड़ो सियासती निंदा विंदा, अब सीने में गोली भरने दो।। जो बोया है वो कटेगा, यह... Read more

हम नेता ही लोकतंत्र के रखवाले है ।

हम नेता ही लोकतंत्र के रखवाले है। एक नही सौ सौ गुंडे पाले है। बाहर से है श्वेतवसन पर मेरे हर कारनामे काले है । हम नेता ही लोकतं... Read more

वीर जवान

वीर जवानों तुमको है कोटी कोटी नमन देश की सीमाओ पर डटे रहते मुस्तैदी से न ठंड की चिंता न गर्मी का खौफ दुश्मन पर करते वज्रपात... Read more

जवानों की याद में

हम आहत हैं सेना लहूलुहान हे वीरो, मेरी लेखनी करती तुझे सलाम । संकट की घड़ी में देश साथ रहे घरनी पर तेरे ईश्वर का हाथ रहे ; ... Read more

पुलवामा काला दिवस

देश के सारे जवानों से यहीं पुकार कर दो आतकंवाद को साफ मत रुको सुनकर इन नेताओं की बात इनको को बस कुर्सी से हे प्यार। नहीं हे इनम... Read more

हम बच्चे हैं नन्हे फूल

हम बच्चे हैं नन्हे फूल, हमसे जो हो जाये भूल तो हमको न समझो शूल, हम हैं नव पीडी़ के मूल हम बच्चे हैं............. {1} ठोकर खा हम य... Read more

सुन पाक

पाक गंदी हरकते ढोल रहा है मेरे भारत के लाल का खून बोल रहा है । मेरे वीरो को तूने ऐसे पछाड़ा देख तेरी धरती पर हम कैसे बनाएंग... Read more

बाह्य मूल्यांकन

बाह्य मूल्यांकन कोट-पैंट टाई ने बाह्य व्यक्तित्व बना दिया आकर्षक गिटपिट भाषा ने बना दिया इक्किसवीं शदी का लेकिन अंदर आदम... Read more

.....

भूला तो नही होगा तू अभी कल की ही तो बात थी घर मे घुसकर मारा था तूझे बचा ले तू खुद को इतनी भी तेरी तो औकात नही थी हिंद की आग को... Read more

आदि सृष्टि से

एक कण से दूसरे कण तक.... एक प्राण से दूसरे प्राण तक.... पुरातन चेतन से नवचेतन तक.... न टूटने वाली निरन्तर सतत प्रक्रिया है आदि स... Read more

मिट्टी की खुशबू

वतन की खुशबू मिट्टी में समाई माथे लगा लूँ सारी जिन्दगी की ये है कमाई मिट्टी के खिलोने खेलते बीता बचपन मिट्टी के घड़े... Read more

प्रेममयी अभिलाषा - कविता

लागि है तोसे नजर एक बार देख तो इधर प्रेम का इजहार तो कर थक गए नैन मगर नैनों की भाषा समझ प्यारी जिंदगानी है मह... Read more

गीत

लिखना मैंने छोड़ दिया है’’ *********************** अपनी रैन-कथाओं को खत लिखना मैंने छोड़ दिया है वादों की प्रतिध्वनियों में ... Read more

खारा ही रहा

खारा ही रहा सागर की तरह मानव जीवन में मीठे जल की कितनी ही नदियाँ मिलीं फिर भी मानव जीवन सागर की तरह खारा ही रहा जबकी नदि... Read more

इश्क ,मोहब्बत ,प्यार

मेरी आज की रचना इश्क ,मोहब्बत ,प्यार पर तुम जानती हो , मैं कौन हूँ । यह मत समझना कि मैं नही जानता पर , मैं अभी मोन हूँ। ... Read more

चिटीं और परिस्थिति

धूल भरी रहती मैं लेकिन, परिश्रम से न मैं घबराती। कठिन परिश्रम करके मैं, खुशहाल जीवन को पास में लाती। धूल भरी हूँ............ ... Read more

ये दिल - बुजुर्गों को समर्पित एक कविता

चेहरे पर झुरिया है सिर सपाट है आदत से मजबूर है ये दिल हर वैलेन्टाइन डे पर बिखर जाता है ये दिल बीवी का पेहरा है दरवाजे पर... Read more

मेरी कहानी पत्नी की जुबानी (हास्य )

पत्नी ने कहा : आओ जी मै आपके दाग धो दू मैने कहा : मै तो दूध का धुला हूँ तुम क्या धोओगी ? वह बोली : मुँह मेरा मत खुलवाओ शादी... Read more

कुर्ता भले सफेद...जोगीरा सा रा रा रा

कुर्ता भले सफेद...जोगीरा सा रा रा रा ◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆ नेता नोटों की गड्डी से खेल रहे हैं खेल जीवन अपना फीका फीका मिले नमक ना ते... Read more
Sahityapedia Publishing