कहानी

"हे प्रार्थना यही" # 100 शब्दों की कहानी#

"हे प्रार्थना यही" जिंदगी की विषम परिस्थितियों से गुजरने के बाद सितंबर 2018 से इस मंच पर मैंने हिंदी और मराठी दोनों ही भाषाओं मे... Read more

"सच्चा प्यार" #100 शब्दों की कहानी#

"सच्चा प्यार" सच्चा प्यार ही तो किया था पूजा ने शिक्षक जोसेफ से और प्यारी सी गुड़िया के साथ जिंदगी बसर हो रही थी, पर दोनों के ब... Read more

करवाचौथ की कहानी

बहुत समय पहले की बात है कि एक साहूकार बनिये के सात बेटे तथा एक बेटी थी जिसको सभी भाई व भाभी उसे "करवा" नाम से पुकारते थे | सभी सात... Read more

"कोशिशें कामयाब" #100 शब्दों की कहानी#

अभी कुछ दिन और रूक जाती बेटी तान्या, सुमेद को हेलीकॉप्टर हादसे का शिकार हुए एक महिना भी नहीं हुआ । रोको मत मां, ममता के आंचल में... Read more

जिन्दगी, एक अहसास भी

उम्र पैंसठ-साठ साल को पार करते हुए पापा माँ में चिड़चिड़ा आता जा रहा था , और हो भी क्यों न ? हम दो बहनें समाज की क्रूरता के कार... Read more

"हीरे की अंगूठी" #50 शब्दों की कहानी"

शेखर का सपना था,शादी करेगा तो रीना से ही । इसलिए वह शहर गया नौकरी की तलाश में,पर जब गांव लौटा तो मां ने कहा, "रीना को कोई और ब्... Read more

"मकसद साकार किया" #100 शब्दों की कहानी#

यह तो सर्वविदित है, हम सबका इस दुनिया में आने का एक मकसद है, बस जीवंत रूप हर किसी के लिए पृथक होने के कारण उसकी सार्थकता हेतु प्रयास... Read more

दर्शन

आज बहुत खुशी का दिन है क्योंकि शारदीय नवरात्र का आज नवमी है। सारे लोग नहा धोवाकर के मां के दर्शन करने के लिए पटजिरवा माई स्थान जा रह... Read more

"हौसला रखना आवश्यक" #100 शब्दों की कहानी"

नीती गर्भवती होने के बावजूद भी सहायक पद परीक्षा हेतु आखिरी मौका गंवाना नहीं चाहती थी, सो बेटी को पति के पास छोड़कर पहली बार मां संग ... Read more

"प्रज्वलित प्रकाश" #50 शब्दों की कहानी#

एक नज़र देखते ही बिस्तर की सिलवटों को हम ठीक कर देते हैं बेटा सुयश, लेकिन मन के विचारों में डूबी सोच की सिलवटों को कभी गहरी मत होने... Read more

बुधुआ (लघु संस्मरण)

7वीं में फेल हो चुकने के बाद उसने, किताबों को तिलांजलि दे दी और छोटी सी हीं सही, पर अपनी गृहस्थी की गाड़ी को खींच सकने लायक चाय की एक... Read more

#सकारात्मक ऊर्जा" #100 शब्दों की कहानी#

2005 में हम सासुमां को हार्ट बाईपास सर्जरी हेतु अपोलो अस्पताल लेकर पहुंचे, समस्त औपचारिकताओं को पूर्ण करने के पश्चात जैसे-जैसे तिथि ... Read more

पुनर्वास

पुनर्वास --///- हार्ट अटैक का पहला झटका झेलने के दूसरे ही दिन रमाकांत जी की अपनी निजी पुस्तकालय की सभी पुस्तकें जिला ग्रंथालय को द... Read more

मक्खन बाजी

हास्य व्यंग्य मक्खनबाजी "कहाँ जाने की तैयारी है ?" पतिदेव को तैयार होते देख श्रीमती जी ने पूछा। "आफिस और कहाँ जानेमन, मियां की दौ... Read more

क्या यह महज संयोग था या कुछ और.... (4)

4. क्या यह महज संयोग था या कुछ और...? हमारे रोजमर्रा के जीवन में कभी-कभी कुछ ऐसी घटनाएँ घटती हैं, जो अजीबोगरीब और अविश्वसनीय लगती... Read more

क्या यह महज संयोग था या कुछ और.... (3)

3. क्या यह महज संयोग था या कुछ और...? हमारे रोजमर्रा के जीवन में कभी-कभी कुछ ऐसी घटनाएँ घटती हैं, जो अजीबोगरीब और अविश्वसनीय लगती... Read more

क्या यह महज संयोग था या कुछ और.... (2)

2. क्या यह महज संयोग था या कुछ और...? हमारे रोजमर्रा के जीवन में कभी-कभी कुछ ऐसी घटनाएँ घटती हैं, जो अजीबोगरीब और अविश्वसनीय लगती... Read more

क्या यह महज संयोग था या कुछ और.... (1)

1.क्या यह महज संयोग था या कुछ और...? हमारे रोजमर्रा के जीवन में कभी-कभी कुछ ऐसी घटनाएँ घटती हैं, जो अजीबोगरीब और अविश्वसनीय लगती ... Read more

प्यार का इम्तेहान

कहानी प्यार का इम्तेहान हमारी कॉलोनी का गणपति महोत्सव पूरे शहर में मशहूर है। लगातार दस दिनों तक यहाँ मेले की तरह धूम रहती है। बच्च... Read more

", दादाजी चले पोते-संग बगिया" #100 शब्दों की कहानी#

तमाम उपायों के पश्चात शादी के दस साल बाद भी प्रदीप और ज्योति की जीवन बगिया कोई एक गुलाब खिलने से वंचित रह गई, पर वे पिताजी की सेवा ... Read more

"परिवार की धुरी" #100 शब्दों की कहानी#

हम शुरुआत से ही नौकरीपेशा, सास-ससुर संग रहने के साथ ही बड़े होने के नाते जिम्मेदारियों को बखूबी निभाते । पहले कभी बीमार हुए ही नहीं... Read more

एक झूठ

एक झूठ ------------------- आज उसके चेहरे पर मुस्कान देखकर मुझे बहुत राहत मिली। उसकी प्यारी मुस्कान से मुझे लगा कि अब बसंत आ गया... Read more

"ईश्वरीय-रूप" #100 शब्दों की कहानी"

स्नातक पूर्ण होने के बाद नीता स्नातकोत्तर के अध्ययन के साथ बैंक की प्रतियोगी परीक्षाओं हेतु प्रयासरत थी ताकि पिताजी के रिटायरमेंट के... Read more

अनमोल रिश्ता

प्रयागराज त्रिवेणी संगम के पास धरती के कटरा स्थान पर अपने भाड़ा के रूप में टेबल पर,किताब पेन कुर्सी पर पढ़ने बैठा था,राजू जो अपनी छः... Read more

*** कीमत***

***कीमत*** ====================== श्रीमान दीनदयाल शर्मा एक सहकारी बैंक मे प्रबंधक है।जो की सीधे साधे धार्मिक प्रवृति के इंसान है।ज... Read more

"सतरंगी रंग" #50 शब्दों की कहानी#

स्वास्थ्य समस्या के चलते घर,ऑफिस की जिम्मेदारियों को निभाते हुए जुही की अपरिहार्य स्थितियों में एकाएकी नौकरी छूटने पर उसे वह पल को... Read more

मेरा गांव मेरा पहचान

ऋषियों मुनियों की पावन धरती तमसा तट पर बसा मेरा नगर जो अपने आप में एक अद्भुत और अलौकिक अंतरिम ऊर्जा शक्ति का स्रोत्र का खदान कहे जा... Read more

"अलौकिक पहचान" #100 शब्दों की कहानी#

शुरूआत से शिक्षा दी गई माता-पिता द्वारा सीता-गीता को, चलीं उसी राह, मुश्किलों को पारकर नौकरी की मंजिल पर पहूंचने तक कर दी गई सीता क... Read more

ज़िद्दी छात्र

#स्कूली दिनों के अनुभव पर आधारित कहानी... बात उस समय की है जब मैंने 10वीं पास करने के बाद 11वीं क्लास में दाखिला लेने के लिए शहर ... Read more

"ईश्वर का वास" #50 शब्दों की कहानी#

अरे बहना हर साल भाई-बहन के प्रेम-स्नेह प्रतीक रक्षाबंधन का त्यौहार मनाते हैं, फिर मेरा दिल कचोटता है, कैसी दरिंदगी करते हैं,चार माह... Read more

"महत्वपूर्ण यादगार लम्हा" (हिंदी दिवस) #100 शब्दों की कहानी#

मेरा नौकरी का सफर शुरू हुआ ही था, उपायुक्त द्वारा विद्यालय-प्रशासन, आरटीआई एवं राजभाषा हिंदी का कार्य सौंपा, कहा आप हिंदी में यह कार... Read more

गधा महान

”अरे, मेरे बिस्तर में यह बर्फ का डेला किसने लाकर रख दिया।“ दादी ने लगभग चिल्लाते हुए कहा। आखिर सर्दी अपने चरम पर जो थी। ”दादी, यह सो... Read more

"साहसिक कदम" #100 शब्दों की कहानी#

विभा को खेतों से जाते समय रोज चेहरा पिले कपड़े से छिपाकर जाना पड़ता, पुलिस मुजरिम को पहचानने के लिए ले जाती उसे । कसुर ही क्या था उस... Read more

"सफल परिणाम" #50 शब्दों की कहानी"

सरलाजी ने समस्त जिम्मेदारियों को निभाते हुए अध्यापिका होने के नाते विद्यार्थियों को बखूबी अध्यापन कराने के साथ साहित्य-लेखन को बरकरा... Read more

"आशा की किरण" #100 शब्दों की कहानी#

सुशील पढ़ाई में पहले से ही होनहार, सब उसकी तारीफ करते, कड़ी मेहनत कर वह प्रतिवर्ष अव्वल नंबरों से उत्तीर्ण होता । इस बार बारहवी बोर्... Read more

गरीब-अमीर

" माँ , देखो आज मेरे साथ कौन आया है ? " चहकते हुए सरिता ने कहा "कौन आया है बेटी , बड़ी खुश दिख रही है ।" सरिता की माँ रमा ने प... Read more

"मैं हमेशा खुश रहती हूं" (कहानी)

कैसी हो वीणा? ऐसी शांत बैठी हो। नहीं मधु , पति से कहा कि यदि आप जीवन में सब कुछ देखते हैं, और महसूस करते हैं कि इस दुनिया में आपको... Read more

"सपनों की उड़ान" #100 शब्दों की कहानी#

जम्मु में मैकेनिकल विभाग के जवान विपिन की सड़क हादसे में हुई मौत की खबर से रमा सात माह की वेदिका को गोद में लिए बदहवास सी हो गई , बे... Read more

"वर्षा-जल संचयन प्रक्रिया" #50 शब्दों की कहानी#

विश्व में पेयजल की कमी पर अनुसंधान करते हुए चेन्नई के राघवन को यह तस्वीर देखकर याद आया, कैसे सुबह-शाम मां महिलाओं संग स्टील-पीतल ... Read more

"मेरी खुशियों की शुरुआत" #100 शब्दों की कहानी"

बचपन से बेटी, बहु, पत्नी और मां बनकर जिंदगी के सफर में माता-पिता के आदर्श संस्कारों को बरकरार रखते हुए मैं घर ,ऑफिस में सामंजस्य स... Read more

"अपनी पहचान" #100 शब्दों की कहानी#

ये वही तस्वीर है, जिसमें सांवली ‘रसिका’ ने नाक में नथनी, कानों में बालियां बड़े ही अदब से पहनकर फोटो खिंचवाई, सांवला-रंग होने की वजह... Read more

"मददगार" #50 शब्दों की कहानी#

नताशा को फेलोपियन-ट्यूब में रूकावटों के संबंध में डॉक्टर ने सचेत भी किया था । पति की खातिर प्रेगनेंसी की रिस्क ली, लेकिन चौथी बार ग... Read more

"मुनिया"

वह आज थोड़ी उदास थी।पापा ने बड़ा सा नया घर खरीदा था।सब खुश थे भईया, मम्मी, पापा यहाँ तक की दादी भी! पर कोई खुश न था तो वो तो बस मुनिया... Read more

"राज जो हम कभी नहीं जान पाये" #100 शब्दों की कहानी#

मेरे हमदम बंधी तेरे संग विवाह की डोर, अजनबी होकर भी अपनेपन का अहसास एक छोर से दूसरे छोर । कभी रूठना, कभी मनाना, कभी मिलना, कभी बिछड़... Read more

"राज मौत का" #100 शब्दों की कहानी#

कॉलोनी में बहुत हिम्मती-चाची रहतीं , जिन्हें साधचाची के नाम से पुकारते थे । वे अस्पताल में नर्स थी , मुस्कराते हुए हर कार्य करने म... Read more

'फांसी' नाजायज रिश्ते का अंत

19 वर्षीय दिशा कड़कड़ाती धूप में कन्या उच्च विद्यालय बोकारो से घर की ओर जा रही थी उसके साथ उसकी सहेली नीलू भी थी। दिशा और नीलू बचपन ... Read more

"उपहार-स्वरूप कैमरा" #100 शब्दों की कहानी#

बरसो बाद रीना सखियों-संग पचमढ़ी पिकनिक मनाने गई, बहुत खुश थी । अपने कॉलेज के दिनों में अध्ययन में व्यस्त रहने के कारण कहीं जा ही नही... Read more

अनूठी मिसाल

भारतीय वायुसेना के गरूण कमांडो ज्योति प्रकाश निराला पूरे एक साल बाद एक महीने की छुट्टी पर घर आए थे। माता-पिता की खुशी का ठिकाना नहीं... Read more

"अपनी उड़ान भरो" #50 शब्दों की कहानी#

बचपन में एक हादसे का शिकार हुई नेहा वि‍कलांगता को अपनी ताकत बना आईएएस बनने के सपने को साकार करने के लिए सफलता की हर सीढ़ि‍यांं चढ़ती... Read more

मेरा तिरंगा

मेरा तिरंगा -------------------- 'बाबू जी, बाबू जी, ये ले लीजिए तिरंगा’ टिमकी आते जाते लोगों को छोटे-छोटे तिरंगे झण्डे बेचने के लि... Read more