कहानी

"राज मौत का" #100 शब्दों की कहानी#

कॉलोनी में बहुत हिम्मती-चाची रहतीं , जिन्हें साधचाची के नाम से पुकारते थे । वे अस्पताल में नर्स थी , मुस्कराते हुए हर कार्य करने म... Read more

'फांसी' नाजायज रिश्ते का अंत

19 वर्षीय दिशा कड़कड़ाती धूप में कन्या उच्च विद्यालय बोकारो से घर की ओर जा रही थी उसके साथ उसकी सहेली नीलू भी थी। दिशा और नीलू बचपन ... Read more

"उपहार-स्वरूप कैमरा" #100 शब्दों की कहानी#

बरसो बाद रीना सखियों-संग पचमढ़ी पिकनिक मनाने गई, बहुत खुश थी । अपने कॉलेज के दिनों में अध्ययन में व्यस्त रहने के कारण कहीं जा ही नही... Read more

अनूठी मिसाल

भारतीय वायुसेना के गरूण कमांडो ज्योति प्रकाश निराला पूरे एक साल बाद एक महीने की छुट्टी पर घर आए थे। माता-पिता की खुशी का ठिकाना नहीं... Read more

"अपनी उड़ान भरो" #50 शब्दों की कहानी#

बचपन में एक हादसे का शिकार हुई नेहा वि‍कलांगता को अपनी ताकत बना आईएएस बनने के सपने को साकार करने के लिए सफलता की हर सीढ़ि‍यांं चढ़ती... Read more

मेरा तिरंगा

मेरा तिरंगा -------------------- 'बाबू जी, बाबू जी, ये ले लीजिए तिरंगा’ टिमकी आते जाते लोगों को छोटे-छोटे तिरंगे झण्डे बेचने के लि... Read more

"वीरता-सम्मान" #100 शब्दों की कहानी#

भारतीय वायुसेना हमले में शामिल पायलटों को उनकी बहादुरी के लिए वायुसेना मेडल वीरता-सम्मान देने की योजना बना ही रही थी, उसी दौरान पायल... Read more

"तू हंसी, मैं जवां" #50 शब्दों की कहानी"

शादी की 75वी सालगिरह मनाने की खुशी में चाचाजी ने चाचीजी से कहा हमें उम्र की जरूरत के हिसाब से भले ही दांतों की बत्तीसी और चश्मा जिंद... Read more

एक अधूरा प्यार - सच्ची कहानी

यह एक अधूरे प्यार की पूरी कहानी हैं, जो एक सच्ची कहानी पर आधारित हैं। प्रेमी - राहुल (बदला हुआ नाम) प्रेमिका - नेहा (बदला हुआ... Read more

काश.......

बीना और कुमुद देवरानी जिठानी थी। दोनों में बहनों जैसा स्नेह था । दोनों की शादी में मात्र एक साल का अंतर था । अब दोनों ही गर्भवती थी... Read more

दोस्ती (फ़्रेंडशिप डे स्पेशल)

एक गांव में राम और श्याम नाम के दो दोस्त रहते थे ,राम बहुत ही दयालु और ईमानदार था और श्याम बहुत ही चालाक और बेईमान था ओर तो ओर जुआ भ... Read more

तलाक

रूपा के जन्मते ही उसकी माँ मर गई थी। दूसरी माँ आई तो उसे पालने पोसने के नाम पर लेकिन अपने तीन बच्चे पैदा करके पालने पोसने में लगी रह... Read more

राखी पर तोहफा

घर का माहौल बोझिल है । आज राखी के दिन भी सरला गुमसुम सी बैठी है । नहीं तो अब तक वह घर सिर पर उठा लेती थी: " माँ मैं कौन सा स... Read more

"आकाशदीप" #100 शब्दों की कहानी#

राकेश जो कभी मां के साथ कैंडल लाइट बलून बनाकर बेचता था, पिताजी के जल्दी गुजरने के बाद मां ने कैसे हिम्मत से यह काम शुरू किया, वह भूल... Read more

"विशेष जीवनदान" (50 शब्दों की कहानी)

डॉक्टर ने कहा शर्माजी उस भली-जोकर को धन्यवाद दिजिएगा, जो समय रहते बेटे को अस्पताल लाई, उसकी देखभाल करने रात भर रुकी रही । सर्क... Read more

पुलवामा के शहीद और नारद जी

पुलवामा के शहीद और नारद जी ------------------------- ‘स्वर्ग में आपातकालीन सभा बुलाई गई है । ब्रह्मा जी अपने सिंहासन पर विराज... Read more

रिहाई

विभा आँखे फाड़ फाड़ कर पति सुनील को देख रही थी अट्ठाइस साल हो गए शादी को। शादी के बाद जितने कष्ट सुनील ने उसे दिये। उसके माँ बाप भाइय... Read more

"तेरे जैसा यार कहाँ" # 100 शब्दों की कहानी#

मैं कभी भुला नहीं सकती, हां सखी वर्षा को। उसको ऑफिस में काम करते हुए एक साल भी नहीं हुआ, वह मेरे दिल के इतने करीब हो गई, एक दिन भी ... Read more

स्ट्रीट चिल्ड्रन

स्ट्रीट चिल्ड्रन -------------------- ‘देखा, उसके हाथ में कितना सुन्दर गिलास है’ बातुल ने गंजू से उस गिलास से कोई पेय पदार्थ ... Read more

"खुशमिजाजी से जीना" #50 शब्दों की कहानी#

विवाह में पोती को आशीर्वाद देने वाकर के सहारे पहुंची दादी, समधन ने पूछा, अपार शक्ति का राज ? दादी ने कहा "जिंदगी में सुख-दुख की लहर... Read more

"माता-पिता सही हैं" #100 शब्दों की कहानी#

बेटी का नाम पति ने श्रृंखला रखा पर घर में सब उसे नुपुर ही पुकारते । वह हमेशा बोलती, क्या पापा आपने कैसा नाम रखा, "मैं दो नाम से भ्... Read more

गरीबी

एक छोटे से गांव की एक छोटी से परिवार की एक छोटी सी कहानी है इस छोटे से परिवार में एक मदन नाम का व्यक्ति था जिनका परिवार बहुत ही गरीब... Read more

"नाम से ही है असली पहचान" #100 शब्दों की कहानी#

शुभा ने अवकाश के बाद संस्था पहूंचकर अपना कार्य शुरू किया ही था, अधिकारी ने आवाज दी गंगाधर... थोड़ी देर में शुभा को पता चला, उसकी नई ... Read more

दुल्हन ही दहेज है

"दुल्हन ही दहेज है" (भोजपुरी) यह कहानी शुरू होता है एक छोटी सी गांव से, जिसमें दूल्हा का नाम चंदन है और दूल्हा का बहन का नाम चमेली ह... Read more

किराया

किराया --------------- ‘आंटी, मैं मध्यप्रदेश से आई हूं’ स्नेहा ने पी-जी की मालकिन के पूछने पर बताया। स्नेहा कुशाग्र बुद्धि, पढ़ने... Read more

बूँद ने कहा

बूँद ने कहा ‘पापा देखो कितनी सुन्दर पानी की बूँदें’ बिटिया ने उत्साहित होकर पापा से कहा था । रात में हल्की बारिश हुई थी । ... Read more

मानव और पतंग एक समान

जब हम पतंग उड़ाते हैं तो उसकी डोर हमारे हाथ में होती हैं मानव भी एक पतंग के समान है जिसकी डोर ईश्वर के हाथ में हैं पतंग का सिरा जि... Read more

"एहसास" #50 शब्दों की कहानी#

टीना को फ्लेट के दरवाजे आज भी उस हादसे की याद दिलाते हैं, कैसे मीना के साथ बरामदे में खेलते हुए उसने दरवाजे की दरार में हाथ रखा, एकद... Read more

कुली

कुली -------------- उठो भई, सब उठो, इन्दौर स्टेशन आने वाला है’ गिरीश ने अपने परिवार को बताते हुए कहा। सामान इकट्ठा किया जाने लगा। ल... Read more

"सीढ़ियां ही मददगार" #100 शब्दों की कहानी#

किशोर मां को बायपास सर्जरी के लिए मुंबई के टाटा मेमोरियल रमा के साथ लेकर आया,क्यों कि और जगह से वहां चिकित्सक अच्छे हैं । जैसे ही व... Read more

"हौसलों की उड़ान" #50 शब्दों की कहानी#

छाया ने अपने आंसू पोछ डाले, दर्द सीने में जज्बकर लिया, दिल में उमड़ते दुःख के बादलों को समेटकर आसमान में उड़ने की तैयारी कर ली, जह... Read more

पंक्चर

पंक्चर --------------- ‘आओ काका, आओ, लगता है फिर तुम्हारी रिक्शा के पहिए में पंक्चर हो गया है’ पटरी पर बैठे साइकिलों की मरम्मत करने ... Read more

"अगर मैं होती अधिकारी" #100 शब्दों की कहानी#

कुछ सालों से परिवार की विषम-परिस्थितियों का सामना करते हुए दीप्ति को स्वास्थ्य भी साथ नहीं दे पा रहा, फिर भी उसने आत्मबल से अपनी सेव... Read more

मैला रिश्ता

मैला रिश्ता --------------- ‘अब आपकी फाईल नहीं मिल रही तो मैं क्या करूँ ? इतना पुराना रिकाॅर्ड है । बेसमेंट में स्टोर रूम की अलम... Read more

मसाले वाली संस्कृति

मसाले वाली संस्कृति ---------- ‘शेखू, तेरे आम के बागीचे तो बहुत सुन्दर हैं’ बनवारी ने कहा। ‘अरे बनवारी, अभी तो तूने देखा ही क्या है... Read more

"प्रतिभावान विद्यार्थी" #100 शब्दों की कहानी"

सुनील : पहले शिक्षक विद्यार्थियों को पढ़ने-लिखने और अच्छा ज्ञान रखने की सीख देते थे ताकि हम सब बेहतर इंसान बनने की दिशा में आगे बढ... Read more

ऐ बादल झूम के चल

ऐ बादल झूम के चल ------ ‘सुन रहा है भाई पृथ्वीलोक वासी क्या कह रहे हैं?’ बादल का नन्हा टुकड़ा अपने बड़े भाई से बोला। ‘क्या कह रह... Read more

भुट्टेवाला

भुट्टेवाला ---------- ‘भइया, क्या तुम्हारे पास नरम नरम और कच्चे भुट्टे हैं, छोटे बच्चों के लिए ले जाने हैं?’ सुरेखा ने बाज़ार में रेह... Read more

लफ़्ज़ों से भरी पर खामोश

सूर्य ढलने को था। बूढ़ी अम्मा बागीचे में बरगद के नीचे बैंच पर बैठी थी। ऐसा प्रतीत होता था किसी की प्रतीक्षा कर रही हो। ‘अम्मा किसी ... Read more

"आदर्श-व्यक्तित्व" #100 शब्दों की कहानी#

सीमा बगीचे में सुबह-सुबह घूमने गई, वहां दादा-दादी मिले जो यश को घुमाने लाए थे, साथ ही पेड़-पौधों की जानकारी दे रहे । उसने उनक... Read more

गुल्लक

गुल्लक ----- ‘कमला, तुम मिट्टी के बर्तन बहुत मेहनत से और बहुत सुन्दर बनाती हो’ मास्टर जी ने स्कूल के चहारदीवारी के बाहर साइकिल-स्ट... Read more

"उपहार छतरी" #100 शब्दों की कहानी#

पहले झमाझम बारिश हुआ करती,मां ने जतन से रखी पापा की "उपहार-छतरी", वहीं छतरी मांग ली चचेरी बहन ने । मैं कॉलेज से भीगकर आई, मुझे दो... Read more

"रंग-बिरंगी छतरियां" #

#100 शब्दों की कहानी# "रंग-बिरंगी छतरियां" बारिश की रिमझिम फुहारों के साथ रंग-बिरंगी छतरियों के झिलमिलाते नजारे मन-मोह ही लेते ह... Read more

"लेखन की प्रतिभा" #50 शब्दों की कहानी#

जिंदगी की अंतरिम गहराइयों को पार करते हुए मीता ने नौकरीपेशा होकर भी सबकी ज़रूरतें पूरी करने में कोई कसर नहीं छोड़ी, लेकिन उसकी जरूरत... Read more

आज का प्यासा कौआ

आज का प्यासा कौआ --- ‘मां, बहुत गर्मी है, प्यास लग रही है, कहीं पानी नहीं मिल रहा, कोसों दूर तक उड़ कर आया हूं’ कौआ अपनी मां से बोला।... Read more

"सुनहरे अवसर" #100 शब्दों की कहानी#

समय किसी का मोहताज नहीं होता, विषम-परिस्थितियों के घेरे में पति को खोने के बाद बच्चों की परवरिश की खातिर रमा को नौकरी करनी पड़ी । वह... Read more

"प्रदर्शन का सुअवसर" #100 शब्दों की कहानी#

सक्षम-अधिकारी की स्वीकृती पर कंपनी में नए इंस्ट्रुमेट को रवि ने स्वयं तैयार किया, सभी को दिया प्रशिक्षण ताकि वे मुख्यालय जाकर सफलता... Read more

नई उम्र की नई फसल

नई उम्र की नई फसल ‘रोहन, तुम्हें प्रधानाचार्य जी बुला रहे हैं’ चपरासी ने आकर कहा। रोहन अभी दसवीं क्लास में पढ़ रहा था। रोहन मुस्कु... Read more

गुब्बारा

गुब्बारा ‘देखो भाई, इस हाल की हर दीवार को और छत को गुब्बारों से सजाना है । आज मेरी बिटिया का जन्म दिन है । गुब्बारे हरेक रंग ... Read more

सिर्फ जय किसान बोलने से कुछ नहीं होगा

गली से आवाज आई, चावल ले लो...दाल ले लो...! रुकिए भइया! कैसे दे रहे रहे हो? तीसरी मजिल से किसी बड़े घर की महिला की आवाज आई। वह आदमी अ... Read more