कहानी

"दामाद का साथ" #100 शब्दों की कहानी#

त्रिवेदीजी की बड़ी बेटी की शादी हो चुकी , छोटी बेटी की भी सगाई होने ही वाली थी, उनका रिटायरमेंट था करीब । इसी बीच पत्नी एकाएकी सड़क... Read more

सैकंड हैंड

सैकंड हैंड ‘भैया यह किताब कितने की है ?’ पूछ रहा था ग्राहकों से भरी दुकान के काऊंटर पर एक बालक । बड़े-बड़े लोगों की भीड़ में उसकी ... Read more

"सेल्यूट ऑफिसर" #100 शब्दों की कहानी#

आज उसने ऐसे समाज-सुधारक का पर्दाफाश किया था, जो सच्चाईयों का मुखोटा पहन जनता का विश्वास जीत लेते हैं, उसकी आड़ में देह-व्यापार धंधा ... Read more

आकाश और धरा

आकाश और धरा ‘आकाश बेटे, मुझे तुमसे यह उम्मीद न थी, तुम तो समझदार हो, पढ़े-लिखे हो, इतनी बड़ी कम्पनी में काम कर रहे हो, और तुमने यह ... Read more

झूठे आरोपपत्र #100 शब्दों की कहानी#

काफी दिनों से सोमा बहुत तनाव में थी। पति जाने के बाद बिल्कुल अकेली हो गई, लेकिन सास-ससुर की जिम्मेदारी, नन्ही-खुशबू की परवरिश बखूबी-... Read more

तनेजा साहब का संकल्प

तनेजा साहब का संकल्प ‘मि. तनेजा, आप जानते हैं कि स्कूल का नया सैशन शुरू होने जा रहा है, विद्यार्थी अगली क्लासेज़ में जायेंगे। ... Read more

बूढ़े बरगद के पार

संतुष्टि की कोई तय परिभाषा नहीं होती। बच्चा कुदरत में रोज़ दोहराये जाने वाली बात को अपने जीवन में पहली बार देख कर संतुष्ट हो सकता है,... Read more

"नन्हीं परी का योगा" #100 शब्दों की कहानी"

पहली डिलेवरी के पश्चात काफी वजन बढ़ गया सोम्या का, पर पहली बेटी होने की खुशी ही अलग होती है सो अपना ध्यान रख नहीं पाई । ढाई साल क... Read more

वृक्ष(पीपल) की सीख

दृढ़विश्वास एक ऐसा बंधन है,जो हर एक व्यक्ति को सुदृढ और सशक्त बना देता हैं,चाहे वह व्यक्ति जितना भी कमजोर हो,एक समय की बात है,जब उत्... Read more

योग एक संजीवनी-बूटी #100 शब्दों की कहानी#

बहुत खुश थे, पांच ऑफिस-साथी, गाजियाबाद राष्ट्रीय प्रशिक्षण संस्थान द्वारा शासकीय कर्मचारियों के शारीरिक विकास हेतु दिया जाना था ... Read more

पूर्वजों पर दोष

दिवाली छठ का त्यौहार बीत गया था,तिवारी जी का पूरा परिवार पूणे शहर से अपने गांव वंशी गाजीपुर उत्तर प्रदेश को नवंबर के अंतिम सप्ताह मे... Read more

शिक्षारूपी ज्ञान हो सर्वत्र प्रकाशवान

सरिता और सीमा दोनों बहुत अच्‍छी दोस्‍त थी । पुराने जमाने में प्राईवेट विद्यालय कम ही हुआ करते थे तो "माता-पिता अधिकतर सरकारी विद्या... Read more

***"साथी हाथ बढ़ाना "***

।।ॐ श्री परमात्मने नमः ।। *** साथी हाथ बढ़ाना *** नेहा अपने पति के साथ रोज सुबह सबेरे टहलने जाती थी आज उन्होंने सोचा कुछ लंबी दूरी... Read more

***"अपने आपको पहचानो .....! ! !

*श्री परमात्मने नमः* ***"अपने आपको पहचानो "*** एक महात्मा जी भिक्षा मांगने निकले उनका भिक्षा का पात्र (कटोरा ) बहुत ही गंदा टुटा फ... Read more

पुनर्विवाह #100 शब्दों की कहानी#

संज संवर दुल्हन बन आई सिद्धी अपने पिया शिवा के घर । दिल में नए-अरमान लिए नवजीवन की शुरुआत की दोनों ने और सास-ससुर ने खुशी-खुशी स्वा... Read more

"मेरे पापा मेरी दुनिया" #100 शब्दों की कहानी#

भूल नहीं पाती हूँ पापा मैं उन अनमोल-क्षणों को रोज नयी-सुबह के आगमन के साथ रोज जाना सैर करने और यह कहना, "अरली टू बेड़ एण्ड अरली टू र... Read more

गृहस्थी (कहानी)

गांव में रचना मसाला पापड़ एवं सिलाई केंद्र चलाती थी । पति जाने के बाद अकेली हो गयी वो उसके दोनों बेटे शहर में नौकरी करके अपने परिवार... Read more

***" पापा की याद में '***

।। ॐ श्री परमात्मने नमः ।। *** पापा की याद में *** माँ की महिमा की बखान तो हर कोई किया करता है लेकिन पापा के गुणों का बखान बिरले ह... Read more

***" दादाजी का नयनतारा '"***

।।ॐ श्री परमात्मने नमः ।। ***" दादाजी का नयनतारा " *** बिट्टू ने सोचा चलो आज कुछ हसीन पल दादाजी के साथ बिताते हैं बीते हुए उन अतीत... Read more

***" माँ की महिमा का चमत्कार '***

।।ॐ श्री परमात्मने नमः ।। शीर्षक ;- ***" माँ की महिमा "*** समीर व सुमन के जीवन में कुछ न कुछ परेशानियाँ आती रहती है लेकिन सारे कष्... Read more

*** " सुख दुःख जीवन के पहलू '***

।। ॐ श्री परमात्मने नमः ।। *** सुख दुःख जीवन के पहलू *** जिस तरह से सिक्के के दो रुप होते हैं उसी तरह से जीवन में भी दो पहलू होते ... Read more

*** " नमामि देवी नर्मदे " ***

।। ॐ श्री परमात्मने नमः ।। *** " नमामि देवी नर्मदे " *** भारत देश में गंगा ,यमुना ,कावेरी ,नर्मदा जैसी बहुत सी पवित्र नदियाँ बहती ... Read more

***जीवनदान **

।।ॐ श्री परमात्मने नमः ।। *** जीवनदान *** घर आँगन की महकती फुलवारियों में बेटी व बेटा का होना जरूरी है इनके बिना जीवन नीरस उदासीन... Read more

*** वो उड़ती हुई पतंग ***

।।ॐ श्री परमात्मने नमः ।। *** वो उड़ती हुई पतंग *** मकर संक्रांति पर्व में पतंग उड़ाने का रिवाज है इंद्रधनुषी घटाओ में लहराती बल खा... Read more

*** देने का असीम सुख **

।।ॐ श्री परमात्मने नमः ।। ***" देने का असीम सुख '*** एक सूफी संत था और उनका शिष्य रोज सुबह बैठकर कुछ देर तक ज्ञान की चर्चा करते थे... Read more

***दादी माँ की लाडली ***

।। ॐ परमात्मने नमः ।। *** दादी की लाडली *** जीवन सफर में संवारते पलों के साथ जीवन साथी का बिछोह बहुत ही दुखदायी होता है।अचानक से ... Read more

***होली का हुड़दंग ***

।। ॐ श्री परमात्मने नमः ।। *"होली का हुड़दंग "* जीवन सतरंगी रंगों से भरपूर उल्लासित होते रहता है। होली का दिन रंगों के लिए बहुत ही ... Read more

***स्वर्ण पदक **

।। ॐ श्री परमात्मने नमः ।। *" स्वर्ण पदक"* हर माता पिता की ख्वाहिश होती है कि उनका बच्चा पढाई -लिखाई हर क्षेत्र में अव्वल हो,सम्मा... Read more

***सादगी में सुंदरता ***

।। ॐ परमात्मने नमः ।। *" सादगी में ही सुंदरता " करवा चौथ के दिन महिलाएँ अपने पति परमेश्वर के लिए घर का कार्य करते हुए भूखे प्यासे ... Read more

***दोस्ती की अनोखी मिसाल ***

।। ॐ श्री परमात्मने नमः ।। ***"दोस्ती की अनोखी मिसाल "*** रामचरित मानस में एक चौपाई लिखी गई है ; *"धीरज ,धर्म ,मित्र ,अरु नारी ।आ... Read more

***विदाई समारोह ***

।। ॐ श्री परमात्मने नमः ।। *" विदाई समारोह"* शिखा विश्वविद्यालय में स्नातकोत्तर की अंतिम वर्ष छात्रा थी उस दिन विदाई समारोह का आय... Read more

***विभूति का संघर्ष ***

।।ॐ श्री परमात्मने नमः ।। ***"विभूति का संघर्ष "*** रतनपुर गांव में एक मध्यम परिवार रहता है जिसमें तीन बहन और दो भाई है तीनों बहनो... Read more

***अंतर्मन की आवाज ***

।। श्री परमात्मने नमः ।। ***"अंतर्मन की आवाज "*** रामनरेश शर्मा जी बैंक में अधिकारी के पद पर कार्यरत रहे हैं वे शहर में रहते हैं उ... Read more

***मन की झोली **

।।ॐ परमात्मने नमः।। शीर्षक ;- *" मन की झोली "* मन सुई के समान है जो मस्तिष्क में चल रहे तरंगो से कार्य प्रणाली को नियंत्रित कर जीव... Read more

***"कर्मचारी का स्वांग '***

।।ॐ परमात्मने नमः ।। *** कर्मचारी का स्वांग *** रघुवीर प्रसाद सिंह मल्टी नेशनल कंपनी के मुख्य कार्यकारी अधिकारी थे कंपनी में चौबीस... Read more

***" रूहानी मदद ***

।। ॐ श्री परमात्मने नमः ।। *** रूहानी मदद *** शिवपुर शहर में तालाब के किनारे एक कुटिया थी जिसमें फकीर बाबा रहते थे उस तालाब के किन... Read more

एक गधे का दर्द

अपना गधा संपन्न था , पर सुखी नहीं। दर्द तो था , पर इसका कारण पता नहीं चल रहा था। मल्टी नेशनल कंपनी में कार्यरत होते हुए भी , अजीब सी... Read more

बदला

गर्मी का मौसम था। चिलचिलाती धुप चल रही थी । लू की लहर से सारे परेशान थे । श्रीकांत जी स्कूल से आकर थोड़ी देर आराम किये । फिर चप्पा न... Read more

हनीमून स्पेशल

रमेश और महेश की मित्रता की मिसाल स्कूल में सारे लोग देते। पढ़ाई या खेल कूद हो, दोनों हमेशा साथ साथ रहते। गिल्ली डंडा हो, कबड्डी या कि... Read more

गुरु घंटाल

एक शिष्य विश्वास अपने गुरु में होता है। अपने ग्रुप के राह पर चल के मंजिल को पाना चाहता है।ऐसी घटनाएं घटती है।जिससे कि उसकी आस्था डगम... Read more

***" नीम का पेड़ '****

।। ॐ श्री परमात्मने नमः ।। ***"नीम का पेड़ ....एक हादसा ..! ! ! माधव जी के आँगन के सामने नीम का पेड़ लगा हुआ था जो काफी साल पुराना थ... Read more

**" ब्रम्हाण्ड लोक की सैर "*

।। ॐ श्री परमात्मने नमः ।। *** ब्रम्हाण्ड लोक की सैर *** 🌍🛐🌍 ब्रम्हाण्ड में स्वर्गलोक ,ब्रम्हलोक ,भूलोक ,बैकुंठ लोक ,परमधाम लोक ,प... Read more

**** "आस्था "****

।। ॐ श्री परमात्मने नमः ।। शीर्षक ;- *"आस्था "* ईश्वर की सृष्टि रचना में नारी शक्ति का रूप अदभुत चमत्कारी है अदम्य साहस ,असीमित क्... Read more

***" बुढ़ापा "*

।। ॐ श्री परमात्मने नमः ।। *"बुढ़ापा"* हर व्यक्ति बुढ़ापा के चंगुल में आ ही जाता है ये प्रकृति चक्र है फिर भी मन में डर सा बने रहता ... Read more

सुबह का आगाज़ #100 शब्दों की कहानी#

तिरुवनंतपुरम स्थित कोवलम बीच की पिकनिक मै भूल नहीं सकता मम्मी, कैसे बीच में अचानक आई बाढ़ में से राघव को जैसे-तैसे हम दोस्तों ने बच... Read more

आत्मनिर्भर (संक्षिप्त कहानी)

जिंदगी की विषम परिस्थितियों में मेरे सामने ऐसा दौर आया कि स्वयं के बेहतर स्वास्थ्य, बच्चों की उच्च-स्तरीय शिक्षा और परिवार की खुशहा... Read more

गहरी दोस्ती #100 शब्दों की कहानी#

विद्यालय में वार्षिकोत्सव की तैयारियां जोरों पर थी । इधर 12 बोर्ड की परीक्षा का तनाव भी कम नहीं , पर शिक्षिका शिखा, अब्दुल, नेल्स... Read more

प्रकृति का भावपूर्ण रंग #100 शब्दों की कहानी#

प्रकृति भी अपने विभिन्न-रंगों के साथ प्रेम का भावपूर्ण रंग बिखेरती है। प्रकृति के कण-कण में, कोने-कोने में सुंदर फूल खिलते हैं। न... Read more

सुकूनभरी नींद #100 शब्दों की कहानी#

मां से बाते करते-करते न जाने रूही को कब नींद लग गई और रंगीन परियों के सपनों में खो गई । बेचारी मां अपनी बातें करती रही, बेटी घर जो ... Read more

बेहद-सुकून #100 शब्दों की कहानी#

विकास आज फिर पत्नी ज्योती पर नाराज़ हो रहा था, शाम को ऑफिस के बाद तुम जाती कहां हो ? घर में बच्चों की परीक्षा चल रही, ऊपर से मां-बाब... Read more