Skip to content

Category: हाइकु

हाइकू
“हाइकू” नव रजनी नव रूप धारिणी जै नव चंडी॥-1 भक्त अर्चना कुशलम साधना जै जगदंबा॥-2 पाठ आरती महिमा सुभारती जै नव दुर्गा॥-3 क्षमा दायिनी शुभदा... Read more
हाइकू
हाइकू” शिक्षा शिक्षा बेहतर है शिक्षा ले लो शिक्षा॥-1 शिक्षित घर खुशियों का आँगन हरें हैं बाग॥-2 नौ मन भार पढ़ाये बचपन झूकी कमर॥-3 खेलेने... Read more
उम्र
वक़्त दीमक चाटे दिन ब दिन शाख उम्र की खर्च हो रहे ज़िंदगी गुल्लक से उम्र के साल वक़्त की आंधी संग उड़ा ले जाती... Read more
हाइकु
हाईकु साथ जो छूटा आसमान से जैसे तारा हो टूटा खून पसीना बहाता है किसान फिर दे जान? आँगन मे मेरे आया है मधुमास लेकर... Read more
हाइकू
1 घास रोदन अंकुरण दुबारा है जिजीविषा । 2 ताकते मोर आच्छादित गगन कब वर्षा हो। 3 बनाता घर मिट्टी द्वारा अबोध एक सृजन। 4... Read more