हाइकु

हाइकु

हाइकु 14 ******** विदा बेटी को करते भरे मन, फिर भी खुश। -------------- अनमोल है विदाई जब होती, नयन भीगे। ---------------- ... Read more

हाइकू

हाइकू13 ******** सुनहरा हो जीवन हर पल, सभी चाहते। ********** सब चाहते जीवन सुनहरा, हो हर पल। ********* जन जन की सुनहरे पल... Read more

हाइकू

हाइकू12 ******** नशे की लत खोखला कर देती, चेत जा जरा। ++++++++ नशा मुक्त का प्रण कर लो तो, जीवन हर्ष। ++++++++ नशे के साथ ... Read more

हिन्द की हिन्दी

हिन्द की हिन्दी (हाइकु) *************** 1 हिन्दी माँ बोली हिन्दुस्तान की शान है आन बान 2 है शहदीली रसभरी मीठी सी भरे जुब... Read more

बहती नदी

1 शरद रात गहन अंधकार मधुर बात 2 बहती नदी छल छलाती पीड़ा सहती नदी 3 भोर की वेला जंगल की तरफ़ जाते आदमी 4 चलती टी वी चीखते... Read more

हाइकू 11

हाइकू 11 ----------- हिन्दी तेरी दुर्दशा देखता हूँ, बस रोता हू्ँ। ------------ भाषण होता हिंदी विषय पर, अंग्रेजी बोल। -----... Read more

तीन हाइकु "प्रीत हुदंग"

प्रीत हुदंग l अनूठे रस रंग l जीवन दंग l प्रीत हुदंग l गम के अंग अंग l जीवन तंग l प्रीत हुदंग l डोले जैसे पतंग ... Read more

रंगोली

1 मन झूमता मकान है सुन्दर प्रिय रंगोली 2 घर संस्कार भगवान मंदिर शुभ रंगोली 3 सूना त्यौहार बिन बने रंगोली जय गण... Read more

हाइकू(10)

हाइकू(10) +++++ व्यक्तिव खोता जा रहा मेरा, क्या करूं मैं? +++++++++ सजा से अब कोई नहीं डरता, किसका डर? ++++++++++ गलती करे... Read more

हाइकू(9)

हाइकू9 ===== सुख दुःख तो आते जाते रहेंगे, फिक्र न कर। +++++++ दु:ख आया है पहाड़ बनकर, जाने के लिए। ++++++++ सुख दु:ख तो स्... Read more

भ्रष्टता खेत l

भ्रष्टता खेत l पाँच है भूत प्रेत l मानव चेत l नियम तोड़े l समाज के है फोड़े l नंगे निगोड़े l अरविन्द व्यास "प्यास" Read more

ओ रे कपडे l

ओ रे कपडे l अंग अंग पकडे l कोई ना, छुड़े l ओ रे कपडे l अंग अंग पकडे l बेशर्म, छुड़े l अरविन्द व्यास "प्यास" Read more

खुला सा रख l

खुला सा रख l बुलबुला सा रख l ना आशा रख l सुख है लेना l सीख ले, अगोरना l राज, खोल ना l ध्यान ही धन l एसा रहे चलन l ... Read more

ना ठहर तू(हाइकु)

इक तूफ़ान है ज़िंदगी हैरान बढ़ते चलो ना ठहर तू ज़रा हौसला रख आसानी होगी ख़ुदा ना भूल सब मिल जाएगा जैसा चाहेगा रब तुझको वा... Read more

हवा चमन l धूप शक्ति अगन l पानी जीवन l

हाइकु (अच्छे हाइकु में ऋतु प्रकरण / सार आना चाहिए, जैसे ) हवा चमन l धूप शक्ति अगन l पानी जीवन l ... १ ये हरियाली l और ... Read more

है तो गम है l

है तो गम है l यूँ नयन नम है l ना है, दम है l अरविन्द व्यास "प्यास" Read more

राखी का त्योहार

राखी त्योहार *********** १ रक्षाबंधन प्यार का त्योहार भाई बहन २ श्रावण मास पुर्णिमा को है आए राखी तयोहार ३ थाली सजाए रोल... Read more

है असंभव ।

हाइकु है असंभव । तब यशस्वी भव। कर संभव । अरविंद व्यास ।प्यास। Read more

हाइकू

हाइकू(7) ====== चाल चरित्र बेमेल सा हो गया, विचार कर। ======= बेमानी रिश्ता कब तक निभेगा, दम तोड़ेगा। ======= रिश्तों का भा... Read more

हाइकू(6)

हाइकू(6) ~~~~~ मां बेटी का तो अटूट संबंध है, बिखरा कब? ~~~~~~~ बाप बेटे का अबूझ सा रिश्ता, समझा नहीं। ~~~~~~~ पत्नी क्या ... Read more

"अवधी मनोभाव"

1. का करी राम! कुछ सूझत नाही फूटल भाग्य। 2. रावरे जन बिलखैं चहुं ओर पड़ा अकाल। 3. जीव हमार लागत नाही प्रभु! उठै उफान। ... Read more

हाइकू(4)

हाइकू ^^^^^^^^ सब बेहाल खुशियों का व्यापार, सुख हजार। """""""""""""" मंहगाई का जलवा फैल रहा है, सब्र कर ना। """"""""'""""" ... Read more

हाइकू

हाइकू(3) ----------- माँ की ममता धरोहर बना ले, खुश रहेगा। ********* कठिनाइयाँ जीवन का दर्शन, साथ रहेंगी। ********* जीवनपथ... Read more

हाइकू

हाइकू(2) -------- गरीब बस अजीब है दुनियाँ में, खुद से प्यार। ----------------- औलाद देता माता पिता को दुःख, रोता रहता। ----... Read more

हाइकू(1)

हाइकू ँँँँँँँँ कोरोना हल आपके हाथ में है, बस बचाव। :::::::::::::::: भूखा मरता गरीब रोता भी है, दुआ भी देता। :::::::::::::::... Read more

कोरोना{_हाइकु_}

दुविधा भारी कोरोना महामारी बढ़ी लाचारी मुँह में मास्क दूरियाँ बढ़ गईं जां बच गई ठप हैं धंधे बढ़ी है भुखमरी जान की पड़ी Read more

{{◆ वादा वफ़ा के ◆}}

vasu हाइकु Jul 17, 2020
1 }◆ रात तन्हा है ज़ुबान मौन पड़ी समझे कौन 2 }◆ ज़ख्म नासूर कुछ बूंद अश्क के तस्वीर त... Read more

**हाइकु**

नोच स्त्री देह_ साधारण मानव_ बना दानव! मन चिंतन_ देख इंसानियत_ का ये खंडन! हकीकत है_ बदलता कोन है_ ग़ैरों के लिए! Read more

अमिट याद।

(१) तेरी आंखों के काजल सी रात, काली अंधियारी मगर खूबसूरत। (२) तेरे होने का एहसास कराती ये हवा, मंद-मंद बहती जो गुज़रती है पास स... Read more

दो हाइकु "विषय प्यास खास"

दो हाइकु "विषय प्यास खास" टूटा विस्वास l विषय प्यास खास l यही है साँस l प्रीत प्रयास l विषय प्यास ख़ास l द्वेषी आव... Read more

■【(3) हाइकु】■

याद प्रीतम- मन करे विभोर- हो दुःख जोर! ********* प्रेम रुआता- ह्रदय को जलाता- दर्द बढ़ाता! ********* सावन बर्षा- न आई सवारिय... Read more

◆मौन◆

vasu हाइकु Jul 10, 2020
1 ) विछिप्त मन विचलित नयन साँसे मौन 2) बुझता दिया गुमसुम अंधेरा गम अकेला Read more

हाइकु

1) वो पीता गया यूँ धुओं का सागर हुआ दुर्बल। 2)मन विकल व्यसन संग जुड़ा मानता नहीं। 3) राख का ढ़ेर अब बना शरीर धुम्रपान स... Read more

चार हाइकु "ये रे जालिम "

चार हाइकु "ये रे जालिम " ये रे जालिम l कैसी पाई तालीम l द्वेष मुहीम l .. १ ये रे जालिम l बदल रे मुहीम l बन हकीम l .. २ ... Read more

राम की सीता

राम की सीता ************ राम की सीता बहुत ही कुलीन आदर्श नारी राम की लीला स्वयंबर में जीती तोड़ कमान वनगमन पति परमेश्... Read more

दो हाइकु .. ना तेल, ना बाती l

ना तेल, ना बाती l खोखला खाली दिया l कैसे दे ज्योती l .... १ बन जा रेती l हाथों में ना टिकती l जो ना सहती l अरविन्द व्या... Read more

मौत आनी है...

दर्द बहुत ख़ुश रहा कीजिये सुकूँ मिलेगा दर्द संभालो अपने को बचालो टूट जाओगे हक़ीक़त है ये जीवन फ़ानी है मौत आनी है सुकून... Read more

*"मेरी बहना"*

*"मेरी बहना"* मेरी बहना, संग में ही रहना , माने कहना। 💞💞💞💞💞💞💞💞 छोटी बहना, सुख दुःख दोनों में , संग रहना । 💞💞💞💞... Read more

*"श्रमिक"*

*"श्रमिक मजदूर"* मेहनतकश , श्रमिक मजदूर, फौलादी हाथ। 🤝✊🤝✊🤝✊🤝✊ बहुमंजिला , इमारत बनाता, पसीना बहा। 🤝✊🤝✊🤝✊🤝✊ ... Read more

पर्यावरण पर हाइकु

न प्रदूषण स्वच्छ पर्यावरण कर लें प्रण धरा संतप्त पर्यावरण त्रस्त है अस्त व्यस्त भूमि क्षरण नष्ट पर्यावरण सुख हरण ... Read more

*"ग्रीष्म ऋतु"*

*ग्रीष्म ऋतु* आम्र की डाली, तरुवर की छांव, ठंडी बयार। 🍃🍂🍃🍂🍃🍂🍃🍂 ग्रीष्म ऋतु , तपती है धरती, लू का कहर। 🍃🍂🍃🍂🍃🍂🍃🍂... Read more

तीन हाइकु ... क्या मनसा है.. यही इंसाँ है

तीन हाइकु ... क्या मनसा है.. यही इंसाँ है क्या मनसा है बस प्यासा प्यासा है यही इंसाँ है .... १ क्या मनसा है ढेरो शंका शंका ... Read more

हाइकु

* आग सी गर्मी साथ तुम्हारा ऐसा छांव हो तुम। * साख के पत्ते की तरह मैं नहीं जड़ जैसा हूँ। * तुम्हें नहीं है इश... Read more

स्त्री

स्त्री (हाइकु) ********** 1 स्त्री है नाजुक सोनजुही बेल सी ढूँढे सहारा 2 है हृदयतल बहुत मर्मस्पर्शी बड़ी भावुक 3 बहती ग... Read more

दीनदयाल

दीनदयाल मदद करने से कतराते है। नहीं आते हैं सुनकर पुकार किसी दीन की। वे हैरान हैं चलन देखकर परेशान हैं। अब द्रौपदी ब... Read more

चार हाइकु ..."प्रीत मियादी"

चार हाइकु ..."प्रीत मियादी" हुआ था आदि l पर प्रीत मियादी l हुई बर्बादी l तू रखता है l रखे सुंदरता है l वो जागता है l बस... Read more

तीन हाइकु ... मेरा अपना ढंग

तीन हाइकु ... मेरा अपना ढंग ओ री निंदिया । बुझाया है रे दीया । सोजा रे हिया । छोड़ रे छोड़ l मन को मोड़ मोड़ l प्रीत ना होड़ l... Read more

चार हाइकु - "वह रूपसी"

चार हाइकु - "वह रूपसी" वह रूपसी l सुनहरी धूप सी l पर स्वप्न सी l ..१ वह रूपसी l जीवन में है बसी l आत्मा है प्यासी l .. ... Read more

आशा की धूप

बुझा प्रदीप मन के आँगन में हुआ अँधेरा। आशा की धूप निराशा की जड़ता करेगी दूर। मिलेगा मीत गुनगुना रे मन मधुर गीत। अरे भ्... Read more

मई दिवस

मित्रों समर्पित हैं मई दिवस पर कुछ हाइकु (1) ये मजदूर । लाचार औ हताश। हैं मजबूर। ( 2)ये कामगार। बढ़ती नाकाबंदी। बेरोजग... Read more