हाइकु

आग और भट्ठी

दिनांक 15/6/19 हाइकु 1 भट्ठी सी धरा इन्सान परेशान हो बरसात 2 गुस्से की भट्ठी जलता है इन्सान बढा ब्लड प्रेशर ... Read more

पतंगा हारा जीवन

दिनांक 13/6/19 उड़ा पतंगा है प्यार में पागल मिसाल बना आग से लड़ा जूनून प्यार जीत मरा पतंगा जब पतंगा कूदा लपटों पर... Read more

नीम है लाभकारी

विधा - हाइकु कड़वा नीम लाभकारी हमेशा लगाओ वृक्ष उपयोगी है नीम पत्ती औ छाल स्वस्थ हमेशा छाया शीतल आशीर्वाद बुजुर्ग ... Read more

शुद्ध पर्यावरण

दिनांक 5/6/19 विधा हाइकु 1 दे तरू छाया मीठे फल औषधि जीवन खुश 2 गीत चौपाल होली ईद दीवाली वृक्ष आसरा 3 पेड़ ... Read more

आग और रिश्ते

दिनांक 30/5/19 मूर्ख इन्सान मत खेल आग से भस्म अस्तित्व नारी ज्वाला रखो मान उसका सुखी समाज थपेडे आग जलता है इन्सान ... Read more

जिंदगी में हार जीत

दिनांक 23/5/19 हार जीत विधा - हाइकु कठिन रास्ते जिन्दगी है मुश्किल है हार जीत करो संघर्ष हार बदले जीत रखो संतोष ... Read more

चिंता नारी की

दिनांक 22/5/19 विधा - हाइकु जीवन चले रोज़ी रोटी बच्चे नारी की शान न रहे भूखा बाहर परिवार नारी की चिंता खाना ... Read more

चुनाव जीवन में

दिनांक 18/5/19 हाइकु आया चुनाव लोकतंत्र उत्सव हर तरफ सभी चुनाव दे विश्वास , देश को है लोकतंत्र सुखी जीवन शादी... Read more

भूखा पेट

दिनांक 17/6/19 विधा - हाइकु भूखा उदर याचक है इन्सान दुत्कारो मत दुखियारी वो भूखा पिचका पेट रोता बचपन महके खुशी आ... Read more

मैं

मैं मैं सहमी थी खंडित नहीं हुई चलती रही। पग वंदन हृदय पटल स... Read more

हक जीने का

दिनांक 8/5/19 है हक जीना पाठ पढ़े दुनियाँ न हो आतंक बुजुर्ग खुश हक मिले जीने का हो देखभाल है अधिकार हर जीव हो ख... Read more

खेल जिन्दगी का

दिनांक 7/5/19 विधा - हाइकु उम्र है भ्रम घटती है ये उम्र छोटा जीवन जन्म खुशियाँ मौत एक सच्चाई आयु तमाशा जितनी उम... Read more

अनमोल वचन..हाइकु छंद

1- खुद की ख़ुशी औरों का दुख बने छोड़ो वो ख़ुशी 2- प्रीत वो रीत त्याग का लिए भाव मीत की जीत 3- हृदय संग जुड़े जो वही नाता ... Read more

अनमोल वचन..हाइकु छंद

1- खुद की ख़ुशी औरों का दुख बने छोड़ो वो ख़ुशी 2- प्रीत वो रीत त्याग का लिए भाव मीत की जीत 3- हृदय संग जुड़े जो वही नाता ... Read more

नैतिक-मूल्य--हाइकु छंद

1- रूठो न कभी जीवन अति लघु मिलो तो सभी 2- प्रकृति देख सब लुटाती हमें चलें ये रेख 3- बीच राह में छोड़ो न किसी को भी स... Read more

सच्चे अच्छे विचार

हाइकु ..जापानी छंद ------------------------ 1- सोचा बहुत किया कुछ भी नहीं भूल ये बड़ी 2- गप्पे हाँकना सीख लिया तुमने गलत ब... Read more

ग्रीष्म

🌸🌸 तपती धूप अगन बरसती खोजती छाया 🌸🌸 रवि प्रचंड है संतप्त बैशाख तीक्ष्ण रश्मियां 🌸🌸 प्यासी वसुधा शुष्क हैं तरुवर है त्राहि... Read more

पन्ने

हुए गुलाबी सुनहरी धूप से पृष्ठ प्रीत के । चली लेखनी मन पृष्ठभाग का खुला रहस्य। रोज़ निखरे हृदय बही पन्ने शब्द मुखर। ... Read more

बरखा

हाइकू श्यामल घटा दमकत दामिनी घन बरसे। ओ घनप्रिया मेघाच्छादित नभ आयी बरखा। श्रावण मास नाचे सौदामिनी बरसे नैना। ... Read more

दशरथ नन्दन

///१/// सरयू तीर है अयोध्या पावन सुखों का धाम तीन रानियाँ है दशरथ राजा न कोई सुत चिंता बड़ी है ऋषियों की सलाह हुआ है यज्... Read more

कविता

अच्छी कविता संदेश सुनाती है देती है ज्ञान मन हर्षित हो तन लगे नाचने यही कविता सुन वनिता मेरी एक कविता भावों की माला ... Read more

पानी के लिए हाहाकार

जल्दी उठना । जल लेकर आना ।। बर्तन लाना ।। भीड़ है लगी । सब पानी लाएगी ।। भौर भागेगी । हमे खेलना । नही यह झेलना ।। शाला है... Read more

फाल्गुन मास

आज दिवस । कितना सुनहरा ।। है होली पर्व । शुभ संयोग । दिन रात समान ।। मास फाल्गुन । बसन्त छाया । सुर्ख पलाश फूल ।। झूमे प... Read more

मोहब्बत

यह एक शब्द दो दिल की भावनाएं खुशी एक एक करके दो जीवन एक रास्ता एक मंजिल क्रमशः दो जिस्म दो सास दो दिल एक धड़कन ... Read more

"नारी"

(1) प्रेम बसता नारी सम्मान जहां सुख टिकता (2) रस्सी पे चाल पीहर -ससुराल नारी कमाल (3) अभिन्न मित्र मुस्कान और श्रम नारी क... Read more

"शिव"

(1)🌿 शिव विवाह भूत-प्रेत बाराती सवारी नंदी (2)🌿 विरह अग्नि शिव का अलंकार सती की भस्म (3)🌿 राख़ विरक्ति शिव एक तपस्व... Read more

"पवन"

(1) "पवन"घोड़े बैठ के आये मेघ सूखे को देख (2) दिखे ना टिके मौसम की गोद में "पवन" खेले (3) अँगुली सँग बाँसुरी रँगमंच नाचे ... Read more

सिपाही

🌾🌾 रक्षा प्राचीर प्रहरी सीमा पर सुदृढ़ ढाल 🌾🌾 भारत पुत्र मूर्ति पराक्रम की दे प्राणोत्सर्ग 🌾🌾 सिंह गर्जन है भयाक्रांत शत... Read more

"सरहद"

(1) देश को चैन "सरहद" पे जागे रक्षक नैन (2) उड़ते पंछी "सरहदों" के पार सिमटे इंसां (3) दीवाली गोली "सरहद" त्यौहार ... Read more

"अतिथि"

(1) तन सराय मोह-माया सामान "अतिथि" साँस (2) वक़्त अभाव "अतिथि" से करती दीवारें बात (3) मन के घर घृणा-प्रेम अतिथि ... Read more

वसंत

1) आया वसंत फूटे कोपल अनंत शीत का अंत। 2) वसंत आता गीत गाता मुस्काता पंख फैलाता। 3) सुन्दर धरा चुनरी ओढ़े हरा फ... Read more

दर्शन-हाइकु

1 उड़ते पंछी विहंगम दर्शन महामहिम 2 असावधानी द्रुतगति वाहन देव-दर्शन 3 अध्यात्म ज्ञान वेद और दर्शन जीवन सार 4 सेवा-भावना... Read more

विवेक/आंनद-हाइकु

1 धर्म मीमांसा वेद और दर्शन विवेकानंद 2 सेवा सत्कर्म वीतरागी जीवन विवेकानंद 3 देश की सेवा स्वामी विवेकानंद युवा दिवस 4 ... Read more

विदाई-हाइकु

विदा/विदाई 1 उठती डोली गमगीन कहार विदा दुल्हन 2 विधि की गति लाख पिंजरबद्ध चिड़ियाँ विदा 3 गोली की बोली सौ तोपों की सलामी ... Read more

चुनर-हाइकु

चुनर 1 चंचल शाम स्मृतियों की चुनर भींगा है मन 2 तीज त्योहार सतरंग चुनर प्यारा भारत 3 वधु वसुधा पुलकित किसान धानी चुनर 4... Read more

साधना-हाइकु

1 भावों को अर्थ विचारों को समर्थ शब्द साधना 2 निरोगी तन परिष्कृत हो मन योग साधना 3 राग-आलाप लय-ताल व थाप सुर साधना 4 सद... Read more

तन्हा पलाश

1) तन्हा पलाश, भौंरा आये ना पास, खड़ा उदास। 2) पलाश रस्ते सजे ना गुलदस्ते दर्द सहते। 3) पलाश लाल गूँथता नहीं माल... Read more

मिश्रित हाइकु

मन पावन था मौसम सावन पिया का आवन _ _ _ _ _ _ _ काजल काला उसका रखवाला था मनोहर _ _ _ _ _ _ _ चढ़ती धूप चिलचिलाती गर्मी क... Read more

दाम्पत्य

1- प्रबल आस्था स्नेह की पराकाष्ठा नव दाम्पत्य 2- हर्षित मन खुशहाल जीवन सुखी दाम्पत्य 3- चंचल मन आनंद हर क्षण दाम्पत्य... Read more

शूल-हाइकु

शूल-हाइकु 1 प्रीत प्रवास विरहन की रात सेज पे शूल 2 वेवफा मीत चटक रही प्रीत हृदय शूल 3 बाग के फूल निर्भय रहे झूल साथ में ... Read more

हाइकू

🍂🍂 1. मरुधरा में बहुत दूर तक दुर्लभ जल 🍂🍂 2. सुदूर गांव नारी के श्रम से ही मिलता पान... Read more

सर्दी/शीत/ठंड-हाइकु

1 पूस की रात किटकिटाते दाँत शीत आघात 2 दिल अँगीठी प्रिय की बातें मीठी सुहानी सर्दी 3 सर्दी है आई हड्डी कंपकपाई भाये रजाई ... Read more

किसान-हाइकु

1 मौसम गर्द दे कृषक को दर्द फसल गर्त 2 मौसम आग कृषक का दुर्भाग्य फसल राख 3 शस्य फसल अनुकूल मौसम धन्य किसान 4 नष्ट फसल ... Read more

एकांत/हाइकु/निमाई प्रधान'क्षितिज'

एकांत/हाइकु/निमाई प्रधान'क्षितिज' -------------------------------------------- [१] मेरा एकांत सहचर-सर्जक उर्वर प्रांत! ... Read more

कोहरा/हाइकु/निमाई प्रधान'क्षितिज'

*हाइकु त्रयी* ~~~●~~~ [१] कोहरा घना जंगल है दुबका दूर क्षितिज! [२] कोहरा ढांपे न दिखे कुछ पार ओझल ताल [३] हाथ रग... Read more

पत्र/ताँका/निमाई प्रधान'क्षितिज'

"तांका" •••••• [१] अंतिम विदा ! अश्रुओं की तपन गुलाबी सांझ हमारे प्रेम पत्र स्पंदित हैं आज भी!! [२] पायल बजी या... Read more

कृषक,फसल/हाइकु/निमाई प्रधान'क्षितिज'

[१] कृषक रुष्ट बचा आख़िरी रास्ता क्रांति का रुख़ [२] दुःखी किसान सूखे खेत हैं सारे चिंता-वितान [३] जय किसान न क... Read more

हाइकु

राम शरण सदा सुखदायक भजो रे मन। बिना हरी के जीवन दुखदाई राम भजो रे। ✍️पं.संजीव शुक्ल "सचिन" Read more

विध - सेदोका

प्रथम प्रयास #विधा_सेदोका सादर समीक्षार्थ 🙏🙏🙏🙏🙏 प्रीतम प्यारे अब आन मिलो रे हैं नैन अब प्यासे। कुंठा मन की वेदना हृदय की ... Read more

संस्कार-हाइकु

1 जीने का ढंग जीवन सबरंग संस्कार-संग 2 संस्कार-धन अनमोल संपत्ति हस्तांतरण 3 विलुप्त प्यार भोगवादी संस्कार वृद्धाश्रम माँ ... Read more