Skip to content

Category: घनाक्षरी

एक निवेदन
माँ नर्मदा का जल, मल इसमें ना मिलाओ मानव, दानव जैसा कृत्य, माँ को क्रुद्ध कर सकता है | पावन है नीर, पीर इसकी ना... Read more
हिंदी भाषा
सुंदर सरल शब्द स्वच्छ शशि रश्मि के से सारे सरगम के स्वरों को जो संवारती। शुद्ध सुरसरि के समान सरसर बहे सरस सराहनीय शारद सुधारती।... Read more
शहीद का सम्मान
*13मनहरण घनाक्षरी छंद16/15* जो भी वीर फ़ौजी युद्ध ,सीमाओं पे लड़ते हैं। दुनिया में उनका तो मान होना चाहिए। सरेआम देश से जो ,करते गद्दारी... Read more
भारत महान है
सर पे हिमालय ताज,करता दिलों पे राज, अपना कृषि प्रधान, भारत महान है लहराता ये तिरंगा, पावनी हमारी गंगा, भाल पे हिंदी की बिंदी, भारती... Read more
घनाक्षरी छंद: सब को भूकंपरोधी, ज्ञान देना चाहिए....
_______________________________ गहरी हो चार फीट नीव यदि मंजिल दो, बीम बाँधे नीव सारी, ध्यान देना चाहिए. आर० सी० सी० बैंड बांधे कुर्सी व लिंटल को,... Read more
घनाक्षरी छंद
चित्र की चर्चा घनाक्षरी छंद जीएसटी नोटबंदी जनता को लाए लाभ, जै जैकार व्यापारी किसान करने लगा। विदेशों से काला धन लौटके स्वदेश आया, सीधा... Read more
कवियों की सरकार 1
कवियों की सरकार घनाक्षरी छंद एक बोला कवियोंकाक्या है ?सभी मंच पर, देशहित गाते बातें करते बड़ी-बड़ी। राष्ट्रभक्ति तालियों के अंदर समाई हुई, जोड़ते हैं... Read more
घनाक्षरी छंद
लीला भंसाली से घनाक्षरी छंद लीला भंसाली है दिमाग से तू खाली तूने, नजर ना डाली क्या कहानी हिंदुवाने की । राजस्थानी पानी कहां पद्मा... Read more
पुत्र को सीख
घनाक्षरी छंद पंच सरपंच मिलने से मंच नहीं मिला, कुंठित भड़ास कहीं भी निकालता है क्यों। सर्वहित लिख, कुछ अलग सा दिख, बेटा, अनुभव बिन... Read more
चाणक्य की चोटी
घनाक्षरी छंद सत्य बात को अगर नब्बेआदमी नकारें, दस के दिमाग में जाके जरूर गड़ेगी। दीप छोटा है भले वजूद उसका है कुछ, अंधकार की... Read more
डमरू घनाक्षरी
लोगों से सुना है कि ,इस प्रकार की कविता नर काव्य के रूप में नहीं लिखना चाहिए ।उसका बहुत बड़ा परिणाम भुगतना पड़ता है क्योंकि... Read more
चदरिया
1-चदरिया सवैया लालच लोभ भरी लिप्सा लिपटी जस होय पिटारी विषैली काम व क्रोध की बेल बनी जब जो थल पास रहा तहां फैली होकर... Read more
जटायु गाथा
जटायु गाथा सवैया छंद सीय बिठा रथ ले चला रावण जैसे कसाई के हाथ में गायू कीन्ह पुकार सिया वन में पर पास कोउ बलवान... Read more
कुछ घनाक्षरी छंद
कुछ घनाक्षरी छंद ★★★★★★★★★★★★★★★★★★★★★★★★★★★★★★★★ छन्द जो घनाक्षरी मैं लिखने चला हूँ आज, मुझको बताएँ जरा कहाँ कहाँ दोष है। या कि मैँ हूँ मन्दबुद्धि लिख... Read more
घनाक्षरी- नारियों का नर सम मान होना चाहिए
घनाक्षरी- नारियों का नर सम मान होना चाहिए ~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~ नारियों का अपमान क्लेश की वजह एक, इसका तो सबको ही ज्ञान होना चाहिए। कष्ट देते... Read more
श्राद्ध पक्ष
श्राद्ध पक्ष घनाक्षरी छंद कभी नहीं जाना हाल जरा ना किया ख्याल बीमारियां पिताजी को आती रहीं घेर घेर सेवा कार्य नहीं किया मौका देख... Read more
हिन्दुस्तान है
हिंदुस्तान है (घनाक्षरी छंद) गुरूजी ने कहा एक शब्द के अनेक अर्थ होते बेटा शब्दों की पूरण करो छान है सत्य, प्रेम, सदभाव, क्षमा, दया,... Read more
भ्रष्ट नेता चतुर नायिका
भ्रष्ट नेता चतुर नायिका रूपक,उपमा अलंकार, घनाक्षरी छंद नेताजी ने कहा खुशहाल कर दूंगा तुझे, पूरे परिवार की गरीबी भी मिटाऊंगा। छोटे भाई को लगा... Read more
गणेश बाल लीला
बाल गणेश लीला(हास्य) बालक गणेश बोले माता तुम कहती हो पिताजी का देवों में श्रेष्ठ स्थान है सबको सपरिवार खाने पै बुलाते लोग हंसी खुशी... Read more
मन और आत्मा
आत्मा ने कहा परमात्मा में ध्यान लगा मनचाहे और थोड़ा सा रोमांस देख लूं। आत्मा ने कहा सौ सौ बार देखा छोड़ इसे मनचाहे और... Read more
खुद फूंक रहे हैं
खुद फूंक रहे हैं घनाक्षरी छंद काट काट रेल की पटरियां उखाड़ रहे, स्टेशन मिटाने में नहीं चूक रहे हैं। आफिसों में तोड़फोड़ सभी शीशे... Read more
राम रहीम
बाबा राम रहीम (घनाक्षरी छंद समान भाव) राम व रहीम में नहीं है कुछ फर्क यारो, दोनों की हैं नीतियां समाज खुशहाल की। राम करें... Read more
बल्देव छठ.....???
?? ब्रज के राजा हलधर गदाधारी श्री दाऊजी महाराज के प्राकट्योत्सव की अनन्तानन्त बधाइयाँ ?? ????????? भाद्रपद शुभ मास शुक्लपक्ष षष्ठी तिथि ब्रज में उल्लास... Read more
जमना पुलिन आजु...
?? घनाक्षरी ?? जमना पुलिन माहिं आजु खड़े चन्द्रकांत राह तकें राधिका की धीर नांहि धारते। पूछ-पूछ गोप-ग्वाल मुरली में देत ताल स्वामिनी कौ नाम... Read more
अनुमान प्रमाण
घनाक्षरी छंद अनुमान प्रमाण अलंकार संभव है किसी दिन ऐसी कोई आंधी चले, कट्टर विचारों वाले पीले पत्ते झड़ेंगे। ज्वालामुखी शांत होंगें भाँति भाँति प्रान्त... Read more
?स्वाधीनता दिवस एवम् श्रीकृष्ण जन्माष्टमी?
?? मनहरण घनाक्षरी ?? ?????????? सत्तरवीं वर्षग्रन्थि देश की स्वाधीनता की गौरवमयी पल है अटूट विश्वास है। देश के शहीदन कूं वंदन-नमन् करौ बिनकी शहादत... Read more
? शुभ रक्षापर्व ?
?? शुभ रक्षापर्व ?? ????????? येन बद्धो बलि राजा दानवेन्द्रो महाबलः तेन त्वां प्रतिबद्धामि रक्षे माचल्माचला। सूत्र पाठ सह बंधे मौलि निज भ्रात कर बने... Read more
कृपान घनाक्षरी
कृपान घनाक्षरी बैरी आज सीना तान करे जंग का ऐलान, ओ सपूतो सावधान,आन-बान जा न पाय। माता भारती का मान,वीरो राखो देके प्रान, ललकारो प्रण... Read more
नेता जी और यमराज
एक नेता जाके यमराज की अदालत में, अड़ गया बोला मुझे स्वर्ग भिजवाइये। स्वर्ग भिजवाया बोला क्या धरा सदस्यता में, इंद्र के निकट किसी पद... Read more
बाँसुरी
* बाँसुरी * -------- ब्रजभाषा में छंद ------------ जबहु निहारी कभी श्याम की सलौनी छवि , मन मेरौ श्याम की लुभाय गयी बाँसुरी । जब... Read more